30 Apr 2019

Mujhe khed hai.

Shayari

मुझे खेद है

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Rastrawad

मुझे खेद है
आज भी कुछ भारतीय
जातिवाद और धर्मवाद पर वोट देते हैं।
उस मन्दबुद्धि और उसके पूर्वजों के द्वारा
रचाए सारी ढकोसले हैं।
हिंदुस्तान के टुकड़े नहीं होते
अगर राज करने की चाह
इनके दिल में ना होती।
साले अंग्रेजों ने धर्मवाद का जहर घोल
हिन्दुस्तानियो को हिन्दुस्तानियो से लड़वाया था।
और इन जैसे ठेकेदारों की मदद ले
देश का बंटवारा करवाया था।

हम गुलामों को फिर से
इन गद्दारों ने
धर्मवाद और जातिवाद के जंजीरो में
कैद करवाया है।
अंग्रेज चले गए
पर  अपनी सोच छोड़ गए।
हमारे देश को अभिशापित सदा के लिए कर गए।

अगर देश को आगे ले जाना है
इन जंजीरो को तोड़
हमारी सोच को आज़ाद कराना होगा।
जातिवाद और धर्मवाद के ढकोसलों को
अपने जेहन से मिटाना होगा।
राष्ट्रवाद के ज्वाले को फिर से
सारे देशवासियों के दिल में जगाना होगा।
फिर हम सभी सही मायने में
पूर्ण स्वतंत्र कहलाएँगे।
अपने भारत को फिर सही मायने में
उसे बुलन्दियों तक पहुँचाएँगे।

अगर कोई आपसे धर्म और जाति पूछो
गर्व से हुँकारो
हम भारतीय हैं।
Indian

जय हिंद।
जय भारत।








mujhe khed hai

aaj bhi kuchh bhaartiy

jaativaad aur dharmvaad par vot dete hain।

us mandabuddhi aur uske purvjon ke dvaaraa

rachaaa saari dhakosle hain।

hindustaan ke tukde nahin hote

agar raaj karne ki chaah

enke dil men naa hoti।

saale angrejon ne dharmvaad kaa jahar ghol

hindustaaniyo ko hindustaaniyo se ldvaayaa thaa।

aur en jaise thekedaaron ki madad le

desh kaa bantvaaraa karvaayaa thaa।


ham gulaamon ko phir se

en gaddaaron ne

dharmvaad aur jaativaad ke janjiro men

kaid karvaayaa hai।

angrej chale gaye

par  apni soch chhod gaye।

hamaare desh ko abhishaapit sadaa ke lia kar gaye।


agar desh ko aage le jaanaa hai

en janjiro ko tod

hamaari soch ko aajaad karaanaa hogaa।

jaativaad aur dharmvaad ke dhakoslon ko

apne jehan se mitaanaa hogaa।

raashtrvaad ke jvaale ko phir se

saare deshvaasiyon ke dil men jagaanaa hogaa।

phir ham sabhi sahi maayne men

purn svatantr kahlaaange।

apne bhaarat ko phir sahi maayne men

use bulandiyon tak pahunchaaange।


agar koi aapse dharm aur jaati puchho

garv se hunkaaro

ham bhaartiy hain।

Jay hind
Jay bharat.

Written by sushil kumar

Shayari

29 Apr 2019

Kuchh yad hai bhaio aur behno

Shayari

कुछ याद है भाइयो और बहनों

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Modi

कुछ याद है भाइयो और बहनों
वो पुराने दिन कांग्रेस के।
देश में घुसपैठ जारी था।
पत्थरबाजी सेना पर कायम थी।
आतंकवादी हमला भी चालू था।
पर सरकार मौन बन बैठी थी
बस उनकी निंदा क्रिया जारी थी।
Modi



हम भी थक गए थे
उनकी निंदा सुनते सुनते।
पर वे कहाँ थके थे
निंदा करते करते।

सरकार बदली
समय बदला।
चूड़ियां निकाल
भारत ने अपना चरित्र बदला।
अब ईंट का जवाब पत्थर से देते
अपने शहीद भाइयों का बदला
हम उनके घर घुस कर लेते।

बहुत हो गया निंदा क्रिया
अब जवाब देने का वक़्त आ गया है।
हमारे जवान का लहू बहा जो
खून की नदियां बहा देंगे हम।

आज हमारे देश का सम्मान बढ़ा है
रूस,इजराइल,जापान व अन्य
साथ खड़ा है।
आज घर घर बिजली पहुँची है
अंधकार का राक्षस भाग खड़ा हुआ है।
आज गाँव को शहर से जोड़ने को
रोड और हाईवे पर काम हुआ है।
माँ बहनों को कोयले और लकड़ी के धुएं से
आज उन्हें निजात मिला है।
काले धन और बिचौलियों पर
आज जबरदस्त नकेल कसी है।
किसानों को प्रधानमंत्री किसान योजना दे
उनमे एक नई उम्मीद की किरण जगाई है।
आयकर के स्लैब में बदलाव कर
मध्यम वर्गो की रीढ़ की हड्डी मजबूत की है।
आज हर भारतीय संतुष्ट है
क्योंकि अपने देश की बागडोर सही कर में है।

फिर भी कुछ सज्जन बोलते हैं
हम मोदी को फिर से क्यों लाए भारत में।
शायद उन्हें घोटालो का दौर याद नहीं है।
या फिर इनकी कमीशन खोरी पर रोक लग गई है।
वरना सच्चा देशभक्त आज परेशान नहीं
बल्कि खुशहाल है।
और मोदी को दुबारा लाने का प्रण
आज हर देशभक्त ने दिल से लिया है।
Modi

जय हिंद।।
जय भारत।।








kuchh yaad hai bhaaeyo aur bahnon

vo puraane din kaangres ke।

desh men ghuspaith jaari thaa।

pattharbaaji senaa par kaayam thi।

aatankvaadi hamlaa bhi chaalu thaa।

par sarkaar maun ban baithi thi

bas unki nindaa kriyaa jaari thi।






ham bhi thak gaye the

unki nindaa sunte sunte।

par ve kahaan thake the

nindaa karte karte।


sarkaar badli

samay badlaa।

chudiyaan nikaal

bhaarat ne apnaa charitr badlaa।

ab int kaa javaab patthar se dete

apne shahid bhaaeyon kaa badlaa

ham unke ghar ghus kar lete।


bahut ho gayaa nindaa kriyaa

ab javaab dene kaa vkt aa gayaa hai।

hamaare javaan kaa lahu bahaa jo

khun ki nadiyaan bahaa denge ham।


aaj hamaare desh kaa sammaan bdhaa hai

rus,ejraael,jaapaan v any

saath khdaa hai।

aaj ghar ghar bijli pahunchi hai

andhkaar kaa raakshas bhaag khdaa huaa hai।

aaj gaanv ko shahar se jodne ko

rod aur haaive par kaam huaa hai।

maan bahnon ko koyle aur lakdi ke dhuan se

aaj unhen nijaat milaa hai।

kaale dhan aur bichauliyon par

aaj jabaradast nakel kasi hai।

kisaanon ko prdhaanamantri kisaan yojnaa de

unme ek nayi ummid ki kiran jagaai hai।

aayakar ke slaib men badlaav kar

madhyam vargo ki ridh ki haddi majbut ki hai।

aaj har bhaartiy santusht hai

kyonki apne desh ki baagdor sahi kar men hai।


phir bhi kuchh sajjan bolte hain

ham modi ko phir se kyon laaa bhaarat men।

shaayad unhen ghotaalo kaa daur yaad nahin hai।

yaa phir enki kamishan khori par rok lag gayi hai।

varnaa sachchaa deshabhakt aaj pareshaan nahin

balki khushhaal hai।

aur modi ko dubaaraa laane kaa pran

aaj har deshabhakt ne dil se liyaa hai।




jay hind।।

jay bhaarat।।


Shayari


Written by sushil kumar



Kuchh to sharm karo.

Shayari

कुछ तो शर्म करो

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Vote

Vote

कुछ तो शर्म करो
अपने कर्मों पर जेहन करो।
बहुत सुन लिया बाहरी लोगों की बातों को
अब अपनी आत्मा की सुन
फिर तय करो।

लोग तो लालच देंगे तुम्हें
अपनी ओर खीचेंगे तुम्हें।
अपने ज़मीर को पक्का कर
उनके इरादों पर थप्पड़ जड़।

जिस देश में तुम रहते हो
उससे गद्दारी तू मत निभा।
कुछ भ्रस्टाचारी नेताओं की गलती की सज़ा
अपने देश की आज़ादी की कीमत से ना चुका।

स्वयंहित से बड़ा राष्ट्रहित है
राष्ट्रवाद से बड़ा कोई धर्म नही।
लोकतंत्र का त्योहार मनाने को
आओ हम तुम चले
मतदान करने को।








kuchh to sharm karo

apne karmon par jehan karo।

bahut sun liyaa baahri logon ki baaton ko

ab apni aatmaa ki sun

phir tay karo।


log to laalach denge tumhen

apni or khichenge tumhen।

apne jmir ko pakkaa kar

unke eraadon par thappd jd।


jis desh men tum rahte ho

usse gaddaari tu mat nibhaa।

kuchh bhrastaachaari netaaon ki galti ki sjaa

apne desh ki aajaadi ki kimat se naa chukaa।


svayanhit se bdaa raashtrahit hai

raashtrvaad se bdaa koi dharm nahi।

lokatantr kaa tyohaar manaane ko

aao ham tum chale

matdaan karne ko।


Written by sushil kumar

Shayari

Niswarth mann

Shayari

निस्वार्थ मन।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मेरे चरित्र के शब्दकोष में
कुछ शब्दों से कभी भेंट ना हो पाई है।
आज तक समझ नहीं पाया
कुकर्म करने की
इंसान को नौबत क्यों आई है।
ईश्वर के दिए गए अनमोल जीवन में
मैने सदा उनकी मेहर और कृपा पाई।
जितना भी दिया भगवन ने
मैने सदा उसमे ही संतुष्टी पाई।

बेशर्त और  निस्वार्थ प्रेम मेरे नस नस में
आज लहू बन बहा है।
अपने क्या परायो की भी सेवा कर
कभी उम्मीद कुछ दिल में ना जगाई है।

हर लम्हा ईश्वर से बस एक ही फरियाद
हमने की है।
दुख क्लेश का नामोनिशान मिटे जग से
खुशिओं की बारिश में भींग सब हर्षित हो।

आमीन।








mere charitr ke shabdkosh men

kuchh shabdon se kabhi bhent naa ho paai hai।

aaj tak samajh nahin paayaa

kukarm karne ki

ensaan ko naubat kyon aai hai।

ishvar ke dia gaye anmol jivan men

maine sadaa unki mehar aur kripaa paai।

jitnaa bhi diyaa bhagavan ne

maine sadaa usme hi santushti paai।


beshart aur  nisvaarth prem mere nas nas men

aaj lahu ban bahaa hai।

apne kyaa paraayo ki bhi sevaa kar

kabhi ummid kuchh dil men naa jagaai hai।


har lamhaa ishvar se bas ek hi phariyaad

hamne ki hai।

dukh klesh kaa naamonishaan mite jag se

khushion ki baarish men bhing sab harshit ho।


aamin!


Written by sushil kumar

Shayari


27 Apr 2019

Loktantra ka tyohar.

Shayari

लोकतंत्र का त्योहार।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Vote

मन में सैलाब उमड़ पड़ता है
जब किसी देशद्रोही की जयजयकार सुनता हूँ
दिल में क्रोध की ज्वाला धधक उठती है
जब आज अपनी जमीर बेच
लोग देशद्रोहियों के बचाव करते नज़र आते हैं।
आँखे भाव भिवोर हो
अपनी अश्रु रोक नहीं पाते हैं
जब अपने देश में धर्मनिरपेक्षता के नाम पर
केवल एक ही धर्म के लोगों को न्याय मिल पाता है।
कहने को हम इक्कीसवी सदी में कदम रख चुके हैं
पर सोच
सोच तो हमारी अभी भी वही कचड़े वाली ही रह गई है।
आज भले ही लोगों में क्रोध है या विश्वास है अपनी सरकार के लिए।
पर जब मतदान का दिन आता है
सारी राष्ट्रवाद धरी की धरी रह जाती है।
और लोकतंत्र के त्योहार को
लोग सो कर या सिनेमा देख कर बिताते हैं।
और देश की बागडोर को गलत हाथ मे थमा देते हैं।
ऐसे ढकोसले राष्ट्रवादियों से मुझे सख्त घृणा आती है
जो केवल लोक प्रसिद्धि पाने को राष्ट्रवाद के बुलबुले बन प्रकाश में आते हैं।
अगर सच्चे राष्ट्रवादी हो तो उठो
और लोकतंत्र के त्योहार में
अपने मतदान का प्रयोग कर
देश के बागडोर को
एक सच्चे राष्ट्रवादी नेता के हाथ में सौंपो।
Vote

जय हिंद।।
जय भारत।।










man men sailaab umd pdtaa hai

jab kisi deshadrohi ki jayajaykaar suntaa hun

dil men krodh ki jvaalaa dhadhak uthti hai

jab aaj apni jamir bech

log deshadrohiyon ke bachaav karte njar aate hain।

aankhe bhaav bhivor ho

apni ashru rok nahin paate hain

jab apne desh men dharmanirpekshtaa ke naam par

keval ek hi dharm ke logon ko nyaay mil paataa hai।

kahne ko ham ekkisvi sadi men kadam rakh chuke hain

par soch

soch to hamaari abhi bhi vahi kachde vaali hi rah gayi hai।

aaj bhale hi logon men krodh hai yaa vishvaas hai apni sarkaar ke lia।

par jab matdaan kaa din aataa hai

saari raashtrvaad dhari ki dhari rah jaati hai।

aur lokatantr ke tyohaar ko

log so kar yaa sinemaa dekh kar bitaate hain।

aur desh ki baagdor ko galat haath me thamaa dete hain।

aise dhakosle raashtrvaadiyon se mujhe sakht ghrinaa aati hai

jo keval lok prasiddhi paane ko raashtrvaad ke bulabule ban prkaash men aate hain।

agar sachche raashtrvaadi ho to utho

aur lokatantr ke tyohaar men

apne matdaan kaa pryog kar

desh ke baagdor ko

ek sachche raashtrvaadi netaa ke haath men saumpo।




jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar

Shayari


Pyar ka bhut.

Shayari

प्यार का भूत।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।
Love


मुझे इकरार करना नहीं आता।
अपने प्यार को बयां करना नही आता।
पर सही बताता हूँ आपको।
आपकी सूरत में ईश्वर का रूप नज़र आता है।
गज़ब का गुरुत्वाकर्षण महसूस करता हूँ।
खुद पर खुद आपकेे करीब खींचा चला आता हूँ।
सारे मन मस्तिष्क में बस आप ही आप छा जाती हो।
बस लगता है आप यूँही मेरे सामने बैठे रहो
और मैं बस आपको देखता रहूँ ज़िन्दगी भर।
मुझे ऐसा क्यों लगता है
जैसे कुछ जादू आपने मुझपे कर डाला है।
जहाँ जाता हूँ
जिसे भी देखता हूँ
बस आप ही आप नज़र आती हो।
बचपन की कुछ यादें ताजा हो गईं हैं।
जब नज़र लग जाती थी मुझे
माँ मेरा नज़र झाड़ दिया करती थी।
क्या माँ फिर से आप आकर
मेरा नज़र नहीं झाड़ सकती हो।
शायद प्यार का भूत भी
मेरे जेहन से फिर उतर जाए।







mujhe ekraar karnaa nahin aataa।

apne pyaar ko bayaan karnaa nahi aataa।

par sahi bataataa hun aapko।

aapki surat men ishvar kaa rup njar aataa hai।

gjab kaa gurutvaakarshan mahsus kartaa hun।

khud par khud aapkee karib khinchaa chalaa aataa hun।

saare man mastishk men bas aap hi aap chhaa jaati ho।

bas lagtaa hai aap yunhi mere saamne baithe raho

aur main bas aapko dekhtaa rahun jindgi bhar।

mujhe aisaa kyon lagtaa hai

jaise kuchh jaadu aapne mujhpe kar daalaa hai।

jahaan jaataa hun

jise bhi dekhtaa hun

bas aap hi aap njar aati ho।

bachapan ki kuchh yaaden taajaa ho gin hain।

jab njar lag jaati thi mujhe

maan meraa njar jhaad diyaa karti thi।

kyaa maan phir se aap aakar

meraa njar nahin jhaad sakti ho।

shaayad pyaar kaa bhut bhi

mere jehan se phir utar jaaa।


Written by sushil kumar

Shayari

Desh ke gaddar.

देश के गद्दार।


देश का बंटवारा करवा दिया था।और फिर देखो हमारी देश की अंधभक्ति।उन्हें अड़सठ साल तक देश पर राज करने को दिया।हमने सहा,और बहुत दिनों तक सहा।घोटालों की झड़ी लग गई,आतंक इतना हो गया था,की समाचार देखने या सुनने की हिम्मत नही थी।पता नही अब कौन सा नया घोटाला सामने आने वाला है।

और ये लोग बिना ओर छोर के सामने वाले को चोर बोलते हैं,और सुप्रीम कोर्ट में जाकर माफी माँग लेते हैं।क्या है और कैसी घटिया मानसिकता वाले ये लोग हैं।मतलब ये ऐसी प्रजाति के लोग हैं,जो राजगद्दी पाने को देश में खून की नदिया बहा देंगे,और अपने को सही साबित करने के लिए सामने वाले की इज्जत की धज्जियां उड़ा देंगे।मतलब कुछ भी।

अगर इतने ही सच्चे हैं ये,तो घोटालों की दौर में कहाँ खटिया बिछाए सोए हुए थे।या विदेशों में गुलछर्रे उड़ा रहे थे।बहुत खेद होता है,ऐसे लोगों की मानसिकता देख कर।अपनी करनी सभी गंगा के समान पवित्र है,और सामने वाला कुछ अच्छा काम कर रहा है,ज़रूर कुछ झोल है।कुछ ना कुछ इसने खाए ही होंगे।कुछ ना कुछ चोरी तो की ही होगी।क्योंकि चोर को सारे लोग चोर ही दिखते हैं।आज जब हमारी आँखों से पर्दा हट गया है,तो हमें अंधभक्त बता रहे हैं।वाह री दुनिया।वाह।।










desh kaa bantvaaraa karvaa diyaa thaa।aur phir dekho hamaari desh ki andhabhakti।unhen adsath saal tak desh par raaj karne ko diyaa।hamne sahaa,aur bahut dinon tak sahaa।ghotaalon ki jhdi lag gayi,aatank etnaa ho gayaa thaa,ki samaachaar dekhne yaa sunne ki himmat nahi thi।pataa nahi ab kaun saa nayaa ghotaalaa saamne aane vaalaa hai।


aur ye log binaa or chhor ke saamne vaale ko chor bolte hain,aur suprim kort men jaakar maaphi maang lete hain।kyaa hai aur kaisi ghatiyaa maanasiktaa vaale ye log hain।matalab ye aisi prjaati ke log hain,jo raajagaddi paane ko desh men khun ki nadiyaa bahaa denge,aur apne ko sahi saabit karne ke lia saamne vaale ki ejjat ki dhajjiyaan udaa denge।matalab kuchh bhi।


agar etne hi sachche hain ye,to ghotaalon ki daur men kahaan khatiyaa bichhaaa soa hua the।yaa videshon men gulachharre udaa rahe the।bahut khed hotaa hai,aise logon ki maanasiktaa dekh kar।apni karni sabhi gangaa ke samaan pavitr hai,aur saamne vaalaa kuchh achchhaa kaam kar rahaa hai,jrur kuchh jhol hai।kuchh naa kuchh esne khaaa hi honge।kuchh naa kuchh chori to ki hi hogi।kyonki chor ko saare log chor hi dikhte hain।aaj jab hamaari aankhon se pardaa hat gayaa hai,to hamen andhabhakt bataa rahe hain।vaah ri duniyaa।vaah।।

24 Apr 2019

Rastrawad

Shayari

राष्ट्रवाद

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


कोई ऐसा तूफान नहीं
जो मेरे इरादे को हिला सके।
कोई ऐसा सैलाब नहीं
जो मेरे हौसले को बहा सके।

मैं नहीं वो महान सिकन्दर
जो मगध की विशाल सेना देख
कदम को पीछे हटा लिया।
मैं हूँ वो वीर पुरु
जो सिकन्दर के जलजले देख भी
खुद को ना रोक सका।

बहुत देखे ऐसे कायर महाबली
जो कमजोर पर राज करते हैं।
मैं आया हूँ इस धरती पर
सभी के दिलों पर राज करने को।

मैं हूँ प्रेम
मैं ही हूँ बलिदान।
अगर मैं नहीं तो
नहीं हो किसी देश का सम्मान।

मैं ही हूँ
जो सीमा पर रहता हूँ तैनात।
मैं ही हूँ
जो देश के लिए जान देने को रहता हूँ तैयार।
मैं ही हूँ
देश की विकास में।

क्योंकि मैं हूँ
वीरों की वीरगति की गाथा में
उनके बहते हुए खून और पसीने के पराक्रम में।
मैं ही हूँ।
मैं ही हूँ।
मैं ही हूँ।
।।राष्ट्रवाद।।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Rastrawad










koi aisaa tuphaan nahin

jo mere eraade ko hilaa sake।

koi aisaa sailaab nahin

jo mere hausle ko bahaa sake।


main nahin vo mahaan sikandar

jo magadh ki vishaal senaa dekh

kadam ko pichhe hataa liyaa।

main hun vo vir puru

jo sikandar ke jalajle dekh bhi

khud ko naa rok sakaa।


bahut dekhe aise kaayar mahaabli

jo kamjor par raaj karte hain।

main aayaa hun es dharti par

sabhi ke dilon par raaj karne ko।


main hun prem

main hi hun balidaan।

agar main nahin to

nahin ho kisi desh kaa sammaan।


main hi hun

jo simaa par rahtaa hun tainaat।

main hi hun

jo desh ke lia jaan dene ko rahtaa hun taiyaar।

main hi hun

desh ki vikaas men।


kyonki main hun

viron ki viragati ki gaathaa men

unke bahte hua khun aur pasine ke paraakram men।

main hi hun।

main hi hun।

main hi hun।

।।raashtrvaad।।


jay hind।।

jay bhaarat।।




Written by sushil kumar

Shayari



18 Apr 2019

Ek rastrawadi ki aakhiri khwahish.

Shayari

एक राष्ट्रवादी की आखिरी ख्वाहिश।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Rastrawad

माँ आज मैं बहुत खुश हूँ।
जिस मिट्टी से मैने जन्म लिया
उस राष्ट्र की एक आखिरी सेवा करने का समय
जो आज निकट आ गया है।

मेरे भस्म को गंगा में प्रवाहित नहीं होना है।
ना ही उसे मिट्टी में मिलना है।
जिस क्षण मैं भस्म बनूँ
आँधी और तूफान मेरे भस्म को उड़ा ले जाएँ।
और सारे भारत के हवा के कण कण में उसे समाहित कर दें।
और मैं हर भारतीय के साँस में
हवा बन प्रवाहित हो जाऊँ।
उनके खून में मिल
राष्ट्रवाद की अखण्ड ज्वाला बन उनके हृदय में
सदा सदा के लिए ज्वलित हो जाऊँ।
और अपने भारत को पूर्ण राष्ट्रवादी देश बना
अपनी प्रिय माता से अलविदा ले
संसार से मुक्ति पाऊँ।
और हिंदुस्तान की सोच में
मैं सदा जीवित रहूँ
एक राष्ट्रवाद की अखण्ड क्रान्ति बनकर।


जय हिंद।।
जय भारत।।







maan aaj main bahut khush hun।

jis mitti se maine janm liyaa

us raashtr ki ek aakhiri sevaa karne kaa samay

jo aaj nikat aa gayaa hai।


mere bhasm ko gangaa men prvaahit nahin honaa hai।

naa hi use mitti men milnaa hai।

jis kshan main bhasm banun

aandhi aur tuphaan mere bhasm ko udaa le jaaan।

aur saare bhaarat ke havaa ke kan kan men use samaahit kar den।

aur main har bhaartiy ke saans men

havaa ban prvaahit ho jaaun।

unke khun men mil

raashtrvaad ki akhand jvaalaa ban unke hriaday men

sadaa sadaa ke lia jvalit ho jaaun।

aur apne bhaarat ko purn raashtrvaadi desh banaa

apni priy maataa se alavidaa le

sansaar se mukti paaun।

aur hindustaan ki soch men

main sadaa jivit rahun

ek raashtrvaad ki akhand kraanti banakar।



jay hind।।

jay bhaarat।।



Written by sushil kumar

Shayari

17 Apr 2019

Har pal anmol hai.

Shayari

हर पल अनमोल है।

Kavitadilse.topद्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Time

काम के दबाव में
तेल डाल के भाव में
हम कैद हो चले हैं आज
पैसे बनाने के जुगाड़ में।

ना हँसने की फुरसत
ना रोने का समय।
मानव कम
ज्यादा मशीन बन गए हैं हम।

सुबह से शाम ऑफिस
और रात में भी
घर पर वही दफ्तर का काम।
आखिर पाना है प्रोमोशन
और नया कुछ ईनाम।

किसी अपने के गुज़र जाने की
खबर जो कभी पाई।
टारगेट पूरा करने की धुन में
हमने अपने बीवी की टिकट कटवाई।

जो मानो अपने परिवार में
एक नए सदस्य ने जन्म लिया।
पर हम व्यस्त हैं
कोई मीटिंग अटेंड करने में।

जरा थामो अपने रफ्तार को
और पीछे मुड़कर देखो।
कितने लोग छूट गए हैं
और कितने जुड़ आए हैं तेरे संग में।

जिनने तुम्हारी खुशियां बाँटी
जिनने दुख में तेरा साथ निभाया।
जो सदा रहे तेरे संग में
पर तू उन्हें अलविदा कहने को ना पाया।

पैसे बनाने के चक्कर में
तू पता नहीं कब मशीन बन गया।
आज उन्हें तू याद कर रहा है
जो छोड़ गएँ कब का तेरा साया।

हर पल में तू सदिया जीना सीख लो।
अपनों को जरा वक़्त देना सीख लो।
उनकी खुशियों में छिपी है तुम्हारी खुशी।
कभी अपनी खुशियों को भी उनके संग बाँट कर देख लो।









kaam ke dabaav men

tel daal ke bhaav men

ham kaid ho chale hain aaj

paise banaane ke jugaad men।


naa hnasne ki phurasat

naa rone kaa samay।

maanav kam

jyaadaa mashin ban gaye hain ham।


subah se shaam auphis

aur raat men bhi

ghar par vahi daphtar kaa kaam।

aakhir paanaa hai promoshan

aur nayaa kuchh inaam।


kisi apne ke gujr jaane ki

khabar jo kabhi paai।

taarget puraa karne ki dhun men

hamne apne bivi ki tikat katvaai।


jo maano apne parivaar men

ek naye sadasy ne janm liyaa।

par ham vyast hain

koi miting atend karne men।


jaraa thaamo apne raphtaar ko

aur pichhe mudkar dekho।

kitne log chhut gaye hain

aur kitne jud aaa hain tere sang men।


jinne tumhaari khushiyaan baanti

jinne dukh men teraa saath nibhaayaa।

jo sadaa rahe tere sang men

par tu unhen alavidaa kahne ko naa paayaa।


paise banaane ke chakkar men

tu pataa nahin kab mashin ban gayaa।

aaj unhen tu yaad kar rahaa hai

jo chhod gan kab kaa teraa saayaa।


har pal men tu sadiyaa jinaa sikh lo।

apnon ko jaraa vkt denaa sikh lo।

unki khushiyon men chhipi hai tumhaari khushi।

kabhi apni khushiyon ko bhi unke sang baant kar dekh lo।



Written by sushil kumar

Shayari







13 Apr 2019

Jiski wani par lagam nahin.

Shayari

जिसकी वाणी पर लगाम नहीं

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


जिसकी वाणी पर लगाम नहीं
उससे दूर रहना ही सेहतमंद होता है।
जो करीब जाओ
तो कोई नया जोखिम होने का खतरा 
सदा सर पर मंडराते ही रहता है।
अगले पल उसके मुख से कौन से 
शब्द भेदी बाण निकलने वाले हैं
जो आपके मन को लहू लुहान करने को बेसब्र हैं।

ऐसे लोग अगर अपनो में हैं
तब तो और भी खतरा है।
बिना पास गए दिल मानने वाला नहीं है।
और नए जख्म दिए बगैर
उनकी वाणी थमने वाली नहीं है।
इसलिए ऐसी स्थिति में 
दुश्मनो से ज्यादा खतरा अपनो से ही होती है।

अस्त्र ना शस्त्र
आज के समय का
सबसे बड़ा हथियार
सामने वाले की शब्द है।

बोलने से पहले एक बार तो अवश्य
सोच लेना चाहिए।
सामने वाले को कहीं
उससे हृदयाघात तो नहीं हो जाएगा।
क्योंकि वो कोई गैर या दुश्मन नहीं
वो है कोई आपका अपना और प्यारा।
Voice










jiski vaani par lagaam nahin

usse dur rahnaa hi sehatamand hotaa hai।

jo karib jaao

to koi nayaa jokhim hone kaa khatraa 

sadaa sar par mandraate hi rahtaa hai।

agle pal uske mukh se kaun se 

shabd bhedi baan nikalne vaale hain

jo aapke man ko lahu luhaan karne ko besabr hain।


aise log agar apno men hain

tab to aur bhi khatraa hai।

binaa paas gaye dil maanne vaalaa nahin hai।

aur naye jakhm dia bagair

unki vaani thamne vaali nahin hai।

esalia aisi sthiti men 

dushmno se jyaadaa khatraa apno se hi hoti hai।


astr naa shastr

aaj ke samay kaa

sabse bdaa hathiyaar

saamne vaale ki shabd hai।


bolne se pahle ek baar to avashy

soch lenaa chaahia।

saamne vaale ko kahin

usse hriadyaaghaat to nahin ho jaaagaa।

kyonki vo koi gair yaa dushman nahin

vo hai koi aapkaa apnaa aur pyaaraa।



Written by sushil kumar

Shayari

।।maa:-ek shraddha।।

Shayari

।।माँ।।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Maa


माँ!
माँ शब्द से ही सारे रोम रोम
और रग रग में एक तरंग सी दौड़ जाती है
उनकी वन्दना करने को।
उनकी पूजा करने को।

माँ केवल एक शब्द नहीं
पूजा है,अर्चना है,श्रद्धा है।
भगवान से एक पल के लिए श्रद्धा उठ भी सकती है।
पर माँ से!
मरने के पश्चात ही श्रद्धा उठती है।

आज माँ ना होती
तो जिन बड़े बड़े योद्धाओं का नाम लिया जाता है।
वह भी नहीं होते।
माँ के दिए हुए संस्कार ही
हर व्यक्ति को
उसके कर्मभूमि में
उसे विजयी तिरंगा फहराने में
उसकी मदद करते हैं।

माँ से बड़ा योद्धा और गुरु 
ना इस धरती पर कभी पैदा हुआ है
ना कभी होगा।
माँ है!
तभी हम हैं।
माँ है!
तभी ये जग है।
Maa













maan!

maan shabd se hi saare rom rom

aur rag rag men ek tarang si daud jaati hai

unki vandnaa karne ko।

unki pujaa karne ko।


maan keval ek shabd nahin

pujaa hai,archnaa hai,shraddhaa hai।

bhagvaan se ek pal ke lia shraddhaa uth bhi sakti hai।

par maan se!

marne ke pashchaat hi shraddhaa uthti hai।


aaj maan naa hoti

to jin bde bde yoddhaaon kaa naam liyaa jaataa hai।

vah bhi nahin hote।

maan ke dia hua sanskaar hi

har vyakti ko

uske karmbhumi men

use vijyi tirangaa phahraane men

uski madad karte hain।


maan se bdaa yoddhaa aur guru 

naa es dharti par kabhi paidaa huaa hai

naa kabhi hogaa।

maan hai!

tabhi ham hain।

maan hai!

tabhi ye jag hai।



Written by sushil kumar

Shayari

Hey ishwar!

Shayari

हे ईश्वर!

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हे ईश्वर!

हे ईश्वर!
तू इतनी शक्ति दे मुझे कि
मैं सदा तेरे पथ पर अग्रसर रहूँ।
मौत मेरे सामने रहे
पर लब पर तेरा नाम
सदा बना रहे।
हे ईश्वर!

हे ईश्वर!
मुझे तू इस लायक बना कि
तेरी दी हुई खुशियों को
अपने संगियों संग बाँट सकूँ।
और उनके दुख रूपी कष्ट को दूर कर
उन्हें भी तेरे मार्ग पर लगा सकूँ।
हे ईश्वर!

हे ईश्वर!
तू इतना मुझे सामर्थ बना दे कि
मेरे दर पर जो भी आए
सभी सामर्थ
बन कर
यहाँ से जाए।
और तेरे पथ पर
उन्हें भी मैं
अग्रसर कर पाऊँ।
और हम सभी मिल
तेरे जग रूपी बगिया को
भिन्न भिन्न रंगों के
खुशियों के पुष्पों से सुषोभित कर दें।









he ishvar!

tu etni shakti de mujhe ki

main sadaa tere path par agrasar rahun।

maut mere saamne rahe

par lab par teraa naam

sadaa banaa rahe।




he ishvar!

mujhe tu es laayak banaa ki

teri di hui khushiyon ko

apne sangiyon sang baant sakun।

aur unke dukh rupi kasht ko dur kar

unhen bhi tere maarg par lagaa sakun।




he ishvar!

tu etnaa mujhe saamarth banaa de ki

mere dar par jo bhi aaa

sabhi saamarth

ban kar

yahaan se jaaa।

aur tere path par

unhen bhi main

agrasar kar paaun।

aur ham sabhi mil

tere jag rupi bagiyaa ko

bhinn bhinn rangon ke

khushiyon ke pushpon se sushobhit kar den।


Written by Sushil Kumar

Shayari

12 Apr 2019

Safalta haasil karne ki zidd.

Shayari

सफलता का मूल मंत्र।।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


तकदीर पर विश्वास कर
आसमान की बुलन्दी को स्पर्श कर पाना
असंभव है।

असफलता की झड़ी से घबराकर
सन्तुष्टि के छतरी के छाँव में आकर
सफलता हासिल कर पाना
नामुमकिन है।

अरे इसमें क्या मजा
कि किनारे में बैठ हम
सफलता के लहरों का
हमारे पैर के छूने का इंतज़ार करें।

मजा तो तब है
जब सफलता पाने को
जीवन के मझधार में
हम छलाँग लगा दे।

और लहरों से उलझ कर
अपनी सफलता को हासिल करें।

और अपनी ज़िद्द को पूरी करें।











takdir par vishvaas kar

aasmaan ki bulandi ko sparsh kar paanaa

asambhav hai।


asaphaltaa ki jhdi se ghabraakar

santushti ke chhatri ke chhaanv men aakar

saphaltaa haasil kar paanaa

naamumakin hai।


are esmen kyaa majaa

ki kinaare men baith ham

saphaltaa ke lahron kaa

hamaare pair ke chhune kaa entjaar karen।


majaa to tab hai

jab saphaltaa paane ko

jivan ke majhdhaar men

ham chhalaang lagaa de।


aur lahron se ulajh kar

apni saphaltaa ko haasil karen।


aur apni jidd ko puri karen।



Written by sushil kumar

Shayari

8 Apr 2019

Naa main hindu

Shayari

ना मैं हिन्दू

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Indian

ना मैं हिन्दू
ना मैं मुस्लिम
ना सिख
ना मैं ईसाई।
मैं भारत का रहने वाला हूँ
एक भारतीय हूँ मैं!
मेरे भाई।
Indian

धर्मवाद और जातिवाद में बँट
तुम राष्ट्र को ना बाँटो यूँ।
सारे ढकोसले यहीं रह जाएँगे
जो कल के इतिहास को झांकोगे तुम।

आज़ाद धरा पर
विस्तीर्ण सोच वालों की
आज दुनिया में है
बहुत कमी।
जहाँ देखो
वहीं संकीर्ण सोच वालों ने
राज करने को
बाँटी हैं जमीन।
Indian

बहुत हो गएँ टुकड़े 
हमारी भारत माँ के।
अब और ना टुकड़े होने देंगे हम।
राष्ट्रवाद की क्रांति में रंग 
देश द्रोहियों को खदेड़ भगाएँगे हम।
भारत माँ की गरिमा को
अब और न
ठेस लगने देंगे हम।
भले उसके लिए
दुश्मनो का सर काटना पड़ जाए
या खुद ही शाहिद हो जाएँगे हम।।
Indian

जय हिंद।।
जय भारत।।
वन्दे मातरम।।










naa main hindu

naa main muslim

naa sikh

naa main isaai।

main bhaarat kaa rahne vaalaa hun

ek bhaartiy hun main!

mere bhaai।




dharmvaad aur jaativaad men bnat

tum raashtr ko naa baanto yun।

saare dhakosle yahin rah jaaange

jo kal ke etihaas ko jhaankoge tum।


aajaad dharaa par

vistirn soch vaalon ki

aaj duniyaa men hai

bahut kami।

jahaan dekho

vahin sankirn soch vaalon ne

raaj karne ko

baanti hain jamin।




bahut ho gan tukde

hamaari bhaarat maan ke।

ab aur naa tukde hone denge ham।

raashtrvaad ki kraanti men rang

desh drohiyon ko khaded bhagaaange ham।

bhaarat maan ki garimaa ko

ab aur n

thes lagne denge ham।

bhale uske lia

dushmno kaa sar kaatnaa pd jaaa

yaa khud hi shaahid ho jaaange ham।।




jay hind।।

jay bhaarat।।

vande maataram।।


Written by sushil Kumar

Shayari

7 Apr 2019

Kuchh to baat hai.

Shayari

कुछ तो बात है।।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


कुछ तो बात है
मोदी जी में कुछ तो खास है।
चीन आज परेशान है
पाकिस्तान आज हैरान है।
भारत की विकास देख
दुश्मनों की नींद हराम है।
मोदी को हटवाने की साजिश
भले उन्होंने रची हज़ार है।
कुछ देश के गद्दारों ने भले
रख दी हो अपने ज़मीर उनके पास में।
Namo

पर हम देशप्रेमी होशियार और तैयार हैं
राष्ट्रवाद के रंग में रंगने को
देश के सुनहरे भविष्य को लिखने को।
भारत की गरिमा को आसमान तक पहुँचाने को
हर क्षेत्र में विकास के नए आयाम पाने को।
देश के गद्दार और दुश्मनों का सफाई करने को
और मोदी जी के नेतृत्व में
एक मजबूत सरकार बनाने को।
हम चौकीदार तैयार हैं।
हम भारतीय तैयार हैं।

जय हिंद।।
जय भारत।।






kuchh to baat hai

modi ji men kuchh to khaas hai।

chin aaj pareshaan hai

paakistaan aaj hairaan hai।

bhaarat ki vikaas dekh

dushmnon ki nind haraam hai।

modi ko hatvaane ki saajish

bhale unhonne rachi hjaar hai।

kuchh desh ke gaddaaron ne bhale

rakh di ho apne jmir unke paas men।




par ham deshapremi hoshiyaar aur taiyaar hain

raashtrvaad ke rang men rangne ko

desh ke sunahre bhavishy ko likhne ko।

bhaarat ki garimaa ko aasmaan tak pahunchaane ko

har kshetr men vikaas ke naye aayaam paane ko।

desh ke gaddaar aur dushmnon kaa saphaai karne ko

aur modi ji ke netriatv men

ek majbut sarkaar banaane ko।

ham chaukidaar taiyaar hain।

ham bhaartiy taiyaar hain।


jay hind।।

jay bhaarat।।



Written by sushil kumar

Shayari


5 Apr 2019

Main hun tum sabse alag.

Shayari

मैं हूँ तुम सब से अलग।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मैं नहीं हूँ कोई तुमसा
मैं हूँ
तुम सब से अलग।
I am

अपनो में बैठ
खुशियों के मोतीयों को समेट
सभी के चेहरों पर खुशी लाने वाला और
अपने ही भावों के भौसागर में बहकर
झरने सा नीचे गिरने वाला
मैं हूँ
तुम सब से अलग।

छोटी से छोटी उपलब्धि की
खुशी के बादल में
खुद को हर्ष और उमंग के बारिश में
भिंगोने वाला
मैं हूँ
तुम सब से अलग।

I am

हर किसी की खुशी के आतिशबाजी में
खुद को
उसकी खुशी में झोंक देने वाला
मैं हूँ
तुम सब से अलग।

किसी दुख भरे अंधियारे मन में
आनन्द से प्रकाशित कर
उसके साथ उसकी खुशी के उजाले में
समाहित हो जाने वाला
मैं हूँ
तुम सब से अलग ।

दिल मेरा है पाक
सभी को साथ ले कर चलने का है मेरा भाव।
भले पिछले मर्तबा किसे ने कहे हो हमसे
दो अपशब्द
पर उसकी भी खुशी का ख्याल रखने वाला
और उसे अपने साथ ले जाने वाला
मैं हूँ
तुम सब से अलग ।
I am

दो दिन की जिंदगी में
हर क्षण
एक नई जिंदगी जीने का भाव
मन में रखने वाला
मैं हूँ
तुम सब से अलग।













main nahin hun koi tumsaa

main hun

tum sab se alag।




apno men baith

khushiyon ke motiyon ko samet

sabhi ke chehron par khushi laane vaalaa aur

apne hi bhaavon ke bhausaagar men bahakar

jharne saa niche girne vaalaa

main hun

tum sab se alag।


chhoti se chhoti upalabdhi ki

khushi ke baadal men

khud ko harsh aur umang ke baarish men

bhingone vaalaa

main hun

tum sab se alag।





har kisi ki khushi ke aatishbaaji men

khud ko

uski khushi men jhonk dene vaalaa

main hun

tum sab se alag।


kisi dukh bhare andhiyaare man men

aanand se prkaashit kar

uske saath uski khushi ke ujaale men

samaahit ho jaane vaalaa

main hun

tum sab se alag ।


dil meraa hai paak

sabhi ko saath le kar chalne kaa hai meraa bhaav।

bhale pichhle martbaa kise ne kahe ho hamse

do apashabd

par uski bhi khushi kaa khyaal rakhne vaalaa

aur use apne saath le jaane vaalaa

main hun

tum sab se alag ।




do din ki jindgi men

har kshan

ek nayi jindgi jine kaa bhaav

man men rakhne vaalaa

main hun

tum sab se alag।


Written by sushil kumar

Shayari

Main rastrawad ka kranti hun.

Shayari

।।राष्ट्रवाद की क्रान्ति।।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


ना जाने कितने वर्ष बीत गए
सोया हुआ था घोर निद्रा में।
किसी ने मुझे आवाज तक ना दी।
दबा हुआ था सभी के हृदय में।
लोभ,मोह,ईर्ष्या और कामवासनाओं के वशीभूत हो
लोग भ्रमित हो
कहीं भटक चुके थे।
Rashtravad

आज फिर से किसी लौहपुरुष ने
राष्ट्रवाद की क्रान्ति का आह्वान किया है।
पूरे देश में
हर जन जन के मन से
अज्ञान के अंधियारे को दूर किया है।

हर एक के हृदय में
राष्ट्रवाद की तरंगें
आज पुनः से
उठ खड़ी हुई हैं।
राष्ट्रवाद से बड़ा कोई धर्म नहीं है
राष्ट्र है
तभी हम सभी है।

आज रोम रोम
और रग रग से हमारे
एक ही बस हुँकार उठी है।
जय हिंद
जय भारत का
चारों दिशाओ से
आज फिर से
ललकार गुंजी है।

मानो आज हर जन जन में
फिर से किसी क्रान्तिकारी ने
जन्म लिया हो।
बच्चे जवान बूढ़े
जन जन  में राष्ट्रवाद की चिंगारी
भभक रही है।

इसी बात पर आओ
हम सब मिल
एक साथ दिल से उद्घोष करते हैं।
हम हैं
जब तक इस धरती पर कहीं भी
अपने भारत माँ के सर ना झुकने देंगे।
वन्दे मातरम !वन्दे मातरम!
मरते दम तक
कहते रहेंगे।
Rashtravad

जय हिंद।।
जय भारत।।











naa jaane kitne varsh bit gaye

soyaa huaa thaa ghor nidraa men।

kisi ne mujhe aavaaj tak naa di।

dabaa huaa thaa sabhi ke hriaday men।

lobh,moh,irshyaa aur kaamvaasnaaon ke vashibhut ho

log bhramit ho

kahin bhatak chuke the।




aaj phir se kisi lauhapurush ne

raashtrvaad ki kraanti kaa aahvaan kiyaa hai।

pure desh men

har jan jan ke man se

ajyaan ke andhiyaare ko dur kiyaa hai।


har ek ke hriaday men

raashtrvaad ki tarangen

aaj punah se

uth khdi hui hain।

raashtrvaad se bdaa koi dharm nahin hai

raashtr hai

tabhi ham sabhi hai।


aaj rom rom

aur rag rag se hamaare

ek hi bas hunkaar uthi hai।

jay hind

jay bhaarat kaa

chaaron dishaao se

aaj phir se

lalkaar gunji hai।


maano aaj har jan jan men

phir se kisi kraantikaari ne

janm liyaa ho।

bachche javaan budhe

jan jan  men raashtrvaad ki chingaari

bhabhak rahi hai।


esi baat par aao

ham sab mil

ek saath dil se udghosh karte hain।

ham hain

jab tak es dharti par kahin bhi

apne bhaarat maan ke sar naa jhukne denge।

vande maataram !vande maataram!

marte dam tak

kahte rahenge।




jay hind।।

jay bhaarat।।



Shayari




Written by sushil kumar


2 Apr 2019

Modi hai! Tabhi hum sabhi hain।।

Shayari

मोदी है! तभी हम सभी हैं।।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

India

मन में एक आक्रोश था
दिल में भी बड़ा कोप था।
कब बदलेगा समय हमारा
ये सोच सोच
मन शोक में था।

दिल के धड़कन से तेज़ हमारे
मन में ये विचारों की लहर उफनते थे ।
अगले पल
फिर कौन सा कारनामें(भ्रस्टाचार)
हमारे सरकार के देखने को मिलने हैं।
क्या यही दिन देखने को हमने
इन्हें वोट दे जिताए थे।

रोज सैनिक हमारे शहीद हो रहें थे
जनता आतंकवाद और महंगाई के चपेट में थी।
पर सरकार सोई थी अपने किसी दुनिया में
भ्रस्टाचार के नए आयाम जो पाने थे।
सिर झुका था हम सभी का
डर डर के सभी जी रहे थे।
शोध होता था अपने यहाँ
पर परीक्षण
विरोधियों के सहमति से करते थे।
आजादी पाए पचास वर्ष हो चले थे
पर हमारी सोच अभी भी
जंजीरों से जकड़े थे।

फिर हम सब ने उठाई एक क्रांतिकारी कदम
बदल कर रख दिए
सरकार को हम।
आज हमें नहीं है
अपनी करनी पे कोई पछतावा।
क्योंकि देश आज बदल रहा है
और बढ़ाया है सुनहरे पथ पर कदम।
हर क्षेत्र में एक लहर सी दौड़ पड़ी है
और हर भारतीय इस विकास के दौर में
एक नया आयाम पाने को उत्सुक है।
हर किसी के दिल में है शांति
और मन में है एक दृढ़ विश्वास।
देश की प्रगति के लिए
हम सभी बढ़ाएँगे अपना हाथ।

शीश अपना गर्व से आज ऊँचा है
छाती भी अपनी छप्पन इंच चौड़ी है।
विरोधी देशों के दिल मे ख़ौफ़ है
क्योंकि अपना तिरंगा आज
सारे विश्व में
शान से  बेख़ौफ़ तैर रहा है।

मोदी है तो मुमकिन है।।
मोदी है! तभी हम सभी हैं।।

Namo












man men ek aakrosh thaa

dil men bhi bdaa kop thaa।

kab badlegaa samay hamaaraa

ye soch soch

man shok men thaa।


dil ke dhdakan se tej hamaare

man men ye vichaaron ki lahar uphante the ।

agle pal

phir kaun saa kaarnaamen(bhrastaachaar)

hamaare sarkaar ke dekhne ko milne hain।

kyaa yahi din dekhne ko hamne

enhen vot de jitaaa the।


roj sainik hamaare shahid ho rahen the

jantaa aatankvaad aur mahangaai ke chapet men thi।

par sarkaar soi thi apne kisi duniyaa men

bhrastaachaar ke naye aayaam jo paane the।

sir jhukaa thaa ham sabhi kaa

dar dar ke sabhi ji rahe the।

shodh hotaa thaa apne yahaan

par parikshan

virodhiyon ke sahamati se karte the।

aajaadi paaa pachaas varsh ho chale the

par hamaari soch abhi bhi

janjiron se jakde the।


phir ham sab ne uthaai ek kraantikaari kadam

badal kar rakh dia

sarkaar ko ham।

aaj hamen nahin hai

apni karni pe koi pachhtaavaa।

kyonki desh aaj badal rahaa hai

aur bdhaayaa hai sunahre path par kadam।

har kshetr men ek lahar si daud pdi hai

aur har bhaartiy es vikaas ke daur men

ek nayaa aayaam paane ko utsuk hai।

har kisi ke dil men hai shaanti

aur man men hai ek dridh vishvaas।

desh ki pragati ke lia

ham sabhi bdhaaange apnaa haath।


shish apnaa garv se aaj unchaa hai

chhaati bhi apni chhappan ench chaudi hai।

virodhi deshon ke dil me khauf hai

kyonki apnaa tirangaa aaj

saare vishv men

shaan se  bekhauf tair rahaa hai।


modi hai to mumakin hai।।

modi hai! tabhi ham sabhi hain।।



Written by sushil kumar

Shayari



1 Apr 2019

Rastrawad ke rang mein rangne ko

Shayari

राष्ट्रवाद के रंग में रंगने को

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Jay hind

राष्ट्रवाद के रंग में रंगने को
आओ चले हम
नमो के संग।
जहाँ देखो
लोग नशे में हैं।
राष्ट्रवाद के जश्न में हैं।
Jay hind

क्या हिन्दू
क्या मुस्लिम
आज सारे धर्म
एक ही उमंग में हैं।
बच्चे,जवान और बूढ़े क्या
मिट्टी के हर कण कण से
बस एक ही आवाज़ गूँज रही है।
मोदी से बड़ा कोई राष्ट्रवादी नेता नहीं है
जो इस देश के लिए समर्पित है।
Jay hind

वोट खरीदने बहुत आए यहाँ
सुनहरे सपनों का चक्रव्यूह बना
उसमे फँसा चले गए सभी।
पर बात जहाँ देश की आती है
दिल से बस एक ही नाम
जुबान पर आ जाती है।
आज विश्व में अपना तिरंगा
बड़े शान से हवा में तैर रहा है।
Jay hind

हर हिंदुस्तानी का दिल गर्व से
जय हिंद जय हिंद का उद्घोष कर रहा है।
दुश्मनो के दिल में ख़ौफ़ पैदा कर
हम चैन की नींद सो रहे हैं।
क्योंकि अपना चौकीदार
हर क्षण चौकन्ना रह
अपने देश की गरिमा की रक्षा कर रहा है।
इस लिए दुबारा मोदी जी को वोट दे
उन्हें विजय बनाएँगे।
अपने देश की कायापलट कर
हम दुनिया में श्रेष्ठ कहलाएँगे।
Jay hind

बोलो दिल से
जय हिंद।।
जय भारत।।














raashtrvaad ke rang men rangne ko

aao chale ham

namo ke sang।

jahaan dekho

log nashe men hain।

raashtrvaad ke jashn men hain।




kyaa hindu

kyaa muslim

aaj saare dharm

ek hi umang men hain।

bachche,javaan aur budhe kyaa

mitti ke har kan kan se

bas ek hi aavaaj gunj rahi hai।

modi se bdaa koi raashtrvaadi netaa nahin hai

jo es desh ke lia samarpit hai।




vot kharidne bahut aaa yahaan

sunahre sapnon kaa chakravyuh banaa

usme phnsaa chale gaye sabhi।

par baat jahaan desh ki aati hai

dil se bas ek hi naam

jubaan par aa jaati hai।

aaj vishv men apnaa tirangaa

bde shaan se havaa men tair rahaa hai।




har hindustaani kaa dil garv se

jay hind jay hind kaa udghosh kar rahaa hai।

dushmno ke dil men khauf paidaa kar

ham chain ki nind so rahe hain।

kyonki apnaa chaukidaar

har kshan chaukannaa rah

apne desh ki garimaa ki rakshaa kar rahaa hai।

es lia dubaaraa modi ji ko vot de

unhen vijay banaaange।

apne desh ki kaayaapalat kar

ham duniyaa men shreshth kahlaaange।




bolo dil se

jay hind।।

jay bhaarat।।




Written by sushil kumar

Shayari

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...