2 Mar 2019

Main rahun !Naa rahun !

Shayari

मैं रहूँ !ना रहूँ !

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Hindi shayari,patriotic poems

मैं रहूँ !ना रहूँ !
मुझे इसकी कोई परवाह नहीं।
देश मेरा रहे सलामत
उसी में छिपी है जान मेरी।
Hindi shayari,patriotic poems
चिड़ियों की चहचहाट से 
हर सुबह
गूंज उठता है मेरा देश सारा।
मानो धरती माँ की कर रहे हो वन्दना
मिलकर एक स्वर में हम सारे।
किसान उठ चल पड़ते हैं खलिहान
लेकर अपने कन्धे पर हल।
धरती की सुन्दरता को सींचने को
हरित करने को सारा थल।
Hindi shayari,patriotic poems
वही सीमा पर सीने तान खड़े हैं
हमारे वीर भारतीय पराक्रमी बल।
भारत माँ की रक्षा करने को
लेकर सारे मन में दृढ़ प्रण।
हर दिन यहाँ होली होती है
मनती है दीवाली हर दिन।
अपने रक्त के हर कतरे कतरे से
भारत माँ को तिलक लगाने को 
है सभी में होड़।
मेंरे देश की मिट्टी की 
इस संसार में कोई दाम नहीं।
सोंधी सोंधी सुगंध में रहती है
मेरी भारत माँ 
सदा साथ हमारे।
अन्नपूर्णा कहलाती है
भरती है पेट हर हाल में ये।
कोई भूखा नहीं सोता है इस जहाँ
देश मेरा महान है ये।
ऐसे देश के लिए मर मिटने को
हम सदा रहते हैं तैयार यहाँ।
भारतीय सेना कहलाते हैं हम
दुश्मनों के नींद उड़ाने को 
तैयार हैं यहाँ।
हम रहें !ना रहें !
हमें इसकी कोई परवाह नहीं।
देश मेरा रहे सलामत
उसी में छिपी है जान मेरी।

जय हिंद।
जय भारत।
Hindi shayari,patriotic poems










main rahun !naa rahun !

mujhe eski koi parvaah nahin।

desh meraa rahe salaamat

usi men chhipi hai jaan meri।


chidiyon ki chahachhaat se 

har subah

gunj uthtaa hai meraa desh saaraa।

maano dharti maan ki kar rahe ho vandnaa

milakar ek svar men ham saare।

kisaan uth chal pdte hain khalihaan

lekar apne kandhe par hal।

dharti ki sundartaa ko sinchne ko

harit karne ko saaraa thal।


vahi simaa par sine taan khde hain

hamaare vir bhaartiy paraakrmi bal।

bhaarat maan ki rakshaa karne ko

lekar saare man men dridh pran।

har din yahaan holi hoti hai

manti hai divaali har din।

apne rakt ke har katre katre se

bhaarat maan ko tilak lagaane ko 

hai sabhi men hod।

menre desh ki mitti ki 

es sansaar men koi daam nahin।

sondhi sondhi sugandh men rahti hai

meri bhaarat maan 

sadaa saath hamaare।

annpurnaa kahlaati hai

bharti hai pet har haal men ye।

koi bhukhaa nahin sotaa hai es jahaan

desh meraa mahaan hai ye।

aise desh ke lia mar mitne ko

ham sadaa rahte hain taiyaar yahaan।

bhaartiy senaa kahlaate hain ham

dushmnon ke nind udaane ko 

taiyaar hain yahaan।

ham rahen !naa rahen !

hamen eski koi parvaah nahin।

desh meraa rahe salaamat

usi men chhipi hai jaan meri।


jay hind।

jay bhaarat।



Written by Sushil kumar

Shayari





No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...