8 Mar 2019

Chhoti si pankti aaj ke hindustani nariyon ke upar

Shayari

छोटी सी पंक्ति आज के हिंदुस्तानी नारियों पर।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

नारी तू है नारायणी
सारे संसार में है
बस तेरी ही हुकूमत।

चाहे जिस घर में भी झाँक लो आप
पति बेचारा नाचता रहता है जिंदगी भर बस पत्नी के इशारे पर।

अम्बानी हो
चाहे हो टाटा
पत्नी के सामने
वह बन जाता है बेबस।

हर दिन उनके नए नए अरमान दिल में अंकुरित हो उठते हैं।
जिसे पूरा ना करो तो
सारे घर को सिर पर उठा लेती हैं।
पति बेचारा
करे तो क्या करे??
उसका जन्म हुआ ही है
उनके सारे फरमाइशें पूरा करने को।
पर जो भी हो
वो हमसे प्यार भी उतना ही करती हैं।
इतनी चोट देने के बाद
कहीं कुछ गलत ना हो जाए
हमारी लम्बी उम्र के लिए करवा चौथ और तीज रखती हैं।
और उस दिन
हम भी भाव भिवोर हो
उन्हें सदा सुहागन होने का आशिर्वाद दे देते हैं।

पर कभी आपने अनुभव किया है
जब वो मायके चली जाती हैं।
हमारा जीवन कितना नीरस सा हो जाता है।
हर पल
सौ सौ साल के बराबर प्रतीत होने लगते हैं।
क्यों??
क्योंकि हम भी उनसे उतना ही प्यार करते हैं।

नारी के बिना नर कभी भी सम्पूर्ण नहीं हो सकता।
और बिना उनके
हमारी सृस्टि भी कभी सफल नहीं हो सकती।
माँ, बहन,भाभी,पत्नी बन
वो जिंदगी में हमारे दस्तक देती हैं।
और अपनी लीलाएँ कर
हमारे जीवन को प्रकाशमय कर
सही राह दिखाती हैं।
और हमें
हमारे मन्ज़िल तक पहुँचाती हैं।


🙏🙏नारी की जय हो।🙏🙏









naari tu hai naaraayni

saare sansaar men hai

bas teri hi hukumat।


chaahe jis ghar men bhi jhaank lo aap

pati bechaaraa naachtaa rahtaa hai jindgi bhar bas patni ke eshaare par।


ambaani ho

chaahe ho taataa

patni ke saamne

vah ban jaataa hai bebas।


har din unke naye naye armaan dil men ankurit ho uthte hain।

jise puraa naa karo to

saare ghar ko sir par uthaa leti hain।

pati bechaaraa

kare to kyaa kare??

uskaa janm huaa hi hai

unke saare pharmaaeshen puraa karne ko।

par jo bhi ho

vo hamse pyaar bhi utnaa hi karti hain।

etni chot dene ke baad

kahin kuchh galat naa ho jaaa

hamaari lambi umr ke lia karvaa chauth aur tij rakhti hain।

aur us din

ham bhi bhaav bhivor ho

unhen sadaa suhaagan hone kaa aashirvaad de dete hain।


par kabhi aapne anubhav kiyaa hai

jab vo maayke chali jaati hain।

hamaaraa jivan kitnaa niras saa ho jaataa hai।

har pal

sau sau saal ke baraabar prtit hone lagte hain।

kyon??

kyonki ham bhi unse utnaa hi pyaar karte hain।


naari ke binaa nar kabhi bhi sampurn nahin ho saktaa।

aur binaa unke

hamaari sriasti bhi kabhi saphal nahin ho sakti।

maan, bahan,bhaabhi,patni ban

vo jindgi men hamaare dastak deti hain।

aur apni lilaaan kar

hamaare jivan ko prkaashamay kar

sahi raah dikhaati hain।

aur hamen

hamaare manjil tak pahunchaati hain।

Nari ki jay ho

Written by sushil kumar

Shayari

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...