Email subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

छोटी सी पंक्ति आज के हिंदुस्तानी नारियों पर।

छोटी सी पंक्ति आज के हिंदुस्तानी नारियों पर।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

नारी तू है नारायणी
सारे संसार में है
बस तेरी ही हुकूमत।

चाहे जिस घर में भी झाँक लो आप
पति बेचारा नाचता रहता है जिंदगी भर बस पत्नी के इशारे पर।

अम्बानी हो
चाहे हो टाटा
पत्नी के सामने
वह बन जाता है बेबस।

हर दिन उनके नए नए अरमान दिल में अंकुरित हो उठते हैं।
जिसे पूरा ना करो तो
सारे घर को सिर पर उठा लेती हैं।
पति बेचारा
करे तो क्या करे??
उसका जन्म हुआ ही है
उनके सारे फरमाइशें पूरा करने को।
पर जो भी हो
वो हमसे प्यार भी उतना ही करती हैं।
इतनी चोट देने के बाद
कहीं कुछ गलत ना हो जाए
हमारी लम्बी उम्र के लिए करवा चौथ और तीज रखती हैं।
और उस दिन
हम भी भाव भिवोर हो
उन्हें सदा सुहागन होने का आशिर्वाद दे देते हैं।

पर कभी आपने अनुभव किया है
जब वो मायके चली जाती हैं।
हमारा जीवन कितना नीरस सा हो जाता है।
हर पल
सौ सौ साल के बराबर प्रतीत होने लगते हैं।
क्यों??
क्योंकि हम भी उनसे उतना ही प्यार करते हैं।

नारी के बिना नर कभी भी सम्पूर्ण नहीं हो सकता।
और बिना उनके
हमारी सृस्टि भी कभी सफल नहीं हो सकती।
माँ, बहन,भाभी,पत्नी बन
वो जिंदगी में हमारे दस्तक देती हैं।
और अपनी लीलाएँ कर
हमारे जीवन को प्रकाशमय कर
सही राह दिखाती हैं।
और हमें
हमारे मन्ज़िल तक पहुँचाती हैं।


🙏🙏नारी की जय हो।🙏🙏
Written by sushil kumar

No comments:

वो अकेला ही चला था

वो अकेला ही चला था kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। वो अकेला ही चला था बदलने सारे हिंदुस्तान को। एक नई सोच,एक नया...