6 Mar 2019

Pyar karne walo ke lie💐💐💐

Shayari

प्यार करने वालों के लिए 💐💐💐

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



Love


इशारों ही इशारों में गुफ्तगू क्या चली
मन भँवरा पंख फैला पहुँचा
एक कली की गली।
कली ने भी खिल
उसके स्वागत में बढ़ी।
फिर चल पड़ा प्यार भरे
पलों का वो दौर।
सदियों तक बहती रही
वो प्यार भरी तरंगिनी।
आज भी ठीक वैसी है प्यास
जैसी प्रारंभिक दौर में थी।
समय बदला
प्रकृति बदली
पर उनका प्यार रहा स्थिर।
Love









eshaaron hi eshaaron men guphtgu kyaa chali

man bhnavraa pankh phailaa pahunchaa

ek kali ki gali।

kali ne bhi khil

uske svaagat men bdhi।

phir chal pdaa pyaar bhare

palon kaa vo daur।

sadiyon tak bahti rahi

vo pyaar bhari tarangini।

aaj bhi thik vaisi hai pyaas

jaisi praarambhik daur men thi।

samay badlaa

prakriati badli

par unkaa pyaar rahaa sthir।




Written by Sushil Kumar

Shayari

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...