Email subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

अस्तित्व की खोज।।

अस्तित्व की खोज।।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

हर कोई
अस्तित्व अपनी खंगाल रहा है।
अपने होने का वजूद
वह स्वयं में
या किसी अन्य में
तलाश कर रहा है।

कल बड़े बेगाने से बैठे हुए थे
किसी कोने में
एक महफ़िल में।
आज सभी बेगाने घेरे हुए हैं
मेरे सफलता के राज़ को पहचानने में।
मेरी सोच जो कल कहीं
अटकी खड़ी रह गई थी
किसी सवाल पर।
आज भी वहीं खड़ी हुई है
इस उम्मीद में
कि कोई सही जवाब देकर
उसे संतुष्ट करे।

ये लोग क्यों किसी को घेर कर
खड़े रहते हैं किसी महफ़िल में।
कल किसी और को घेरे हुए थे जो लोग
आज मैं उनके बीच में घिरा हुआ हूँ
एक प्रेरणास्रोत बनकर।
फिर मुझे एहसास हुआ कि
मैं नहीं
मेरे ओहदे ने
इन्हें मेरी तरफ आकर्षित किया है।
और
ये अपने अस्तित्व को
मेरे अस्तित्व में तलाशने की कोशिश में लग गए हैं।
शायद इसीलिए
मेरी सफलता का राज़
बार बार ये मुझसे पूछ रहे हैं।

पर सही बताऊँ तो
सफलता पाने को
केवल एक मार्ग की ज़रूरत नहीं होती है।
जुनून और धैर्य की ज्यादा अहमियत होती है
किसी भी बड़ी उपलब्धि को हासिल करने में।
Entity


Written by sushil kumar





No comments:

तेरी किस्मत तेरे हाथ में है।

तेरी किस्मत तेरे हाथ में है। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। मैं चला जा रहा था अकेले,झुंझलाते हुए खुद से। कभी खु...