5 Mar 2019

Main kal ka suraj naa bhi dekh sakun to.

Shayari

मैं कल का सूरज ना भी देख सकूँ तो

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

Jai hind

मैं कल का सूरज ना भी देख सकूँ तो
मुझे कोई परवाह नहीं।
भारत देश अपना रहे सलामत
उसी में छिपी है जान मेरी।
Jai hind
कोई भी दुश्मन आजमा कर देख ले
भारत के फौलाद हैं हम।
हिमालय सा जज्बा है हमारा
टकराकर हमसे
सभी हो जाएँगे ध्वस्त।
Jai hind

1971 या 1999 का हो युद्ध
मुँह की खाई थी किसने!
सभी को है खबर।
आज भी हम सीमा पर
सीने तान खड़े हैं
खुद पर गर्व कर।
Jai hind

अभिमान है हमें उस देश पर
जिसकी मिट्टी पर हमने जन्म लिया।
संस्कारो की माला जो हमने
अपने पूर्वजों से ग्रहण किया।
Jai hind
आज भी अपने दुश्मनों को
सुधरने का
हर मौका हम देते हैं।
पर जो ना बदली उनकी चाल
तो बिजली बन
हम उनपर बरसते हैं।
जीते हैं अपनी माँ के लिए
मरते हैं अपनी माँ के लिए।
हमारे साँस के हर कश कश पर लिखा है
वन्दे मातरम! वन्दे मातरम!
वन्दे मातरम!वन्दे मातरम!
जय हिंद।।
Jai hind









main kal kaa suraj naa bhi dekh sakun to

mujhe koi parvaah nahin।

bhaarat desh apnaa rahe salaamat

usi men chhipi hai jaan meri।


koi bhi dushman aajmaa kar dekh le

bhaarat ke phaulaad hain ham।

himaalay saa jajbaa hai hamaaraa

takraakar hamse

sabhi ho jaaange dhvast।



1971 yaa 1999 kaa ho yuddh

munh ki khaai thi kisne!

sabhi ko hai khabar।

aaj bhi ham simaa par

sine taan khde hain

khud par garv kar।



abhimaan hai hamen us desh par

jiski mitti par hamne janm liyaa।

sanskaaro ki maalaa jo hamne

apne purvjon se grahan kiyaa।


aaj bhi apne dushmnon ko

sudharne kaa

har maukaa ham dete hain।

par jo naa badli unki chaal

to bijli ban

ham unapar baraste hain।

jite hain apni maan ke lia

marte hain apni maan ke lia।

hamaare saans ke har kash kash par likhaa hai

vande maataram! vande maataram!

vande maataram!vande maataram!

jay hind।।


Written by Sushil Kumar@kavitadilse.top

Shayari

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...