18 Mar 2019

Vo akela hi chala tha

Shayari

वो अकेला ही चला था

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


वो अकेला ही चला था
बदलने सारे हिंदुस्तान को।
एक नई सोच,एक नया विश्वास
सारे भारतीयों के
हृदय में बोकर।
वो निकल पड़ा था एक मिशन पर
सारे प्रणाली से भ्रष्टाचार मिटाने को।

सारी मानवता चल पड़ी थी
उसके पीछे
उसके नेक कदम पर
उसके कदम से कदम मिलाकर।
विकास की मंज़िल पाने को
अपने अधूरे सपनों को पूर्ण कर सँवारने को।

आज जब काले धन पर रोक लग चुका है
अपने प्रणाली में भी कुछ सुधार आ चुका है।
तो खाने वालों के पेट मे
एक चुभन सा लग रहा है।
और बौखलाहट में
वे कुछ भी बड़बड़ाने से लगे हैं।
और हमारे चौकीदार को चोर
वे बनाने में लगे हैं।

अगर चोर ही होते
फिर इनसे डरता कोई क्यों?
यहाँ अपने देश के भ्रष्ट लोगों को छोड़ो
अपने विरोधी देशों की नींद तक
इन्होंने उड़ा कर रखी है।
उनकी चैन और सुकून को भी चुरा कर रखी है।
पता नहीं ?
फिर भी क्यों कुछ मनचले हैं हमारे
जो चौकीदार को ही चोर बनाने में लगे हैं।

शायद इसलिए आज सारे विपक्षी दल
अपने मतभेदों को भूल।
एक साथ खड़े हो गए हैं
चौकीदार को हटाने के खातिर।
पर हम ये हरगिज़ होने नहीं देंगे
चौकीदार की कुर्सी
उससे छीनने नहीं देंगे।
क्योंकि चौकीदार अपना फ़र्ज़
अब अच्छे से निभा रहा है।
दोषियों को अब बख्शा नहीं जा रहा है।
चौकीदार अपना है बहुत ही सजग
और ईमानदारी से वह अपना काम निभाता चला रहा है।
Shayari











vo akelaa hi chalaa thaa

badalne saare hindustaan ko।

ek nayi soch,ek nayaa vishvaas

saare bhaartiyon ke

hriaday men bokar।

vo nikal pdaa thaa ek mishan par

saare prnaali se bhrashtaachaar mitaane ko।


saari maanavtaa chal pdi thi

uske pichhe

uske nek kadam par

uske kadam se kadam milaakar।

vikaas ki manjil paane ko

apne adhure sapnon ko purn kar snvaarne ko।


aaj jab kaale dhan par rok lag chukaa hai

apne prnaali men bhi kuchh sudhaar aa chukaa hai।

to khaane vaalon ke pet me

ek chubhan saa lag rahaa hai।

aur baukhlaahat men

ve kuchh bhi bdabdaane se lage hain।

aur hamaare chaukidaar ko chor

ve banaane men lage hain।


agar chor hi hote

phir ense dartaa koi kyon?

yahaan apne desh ke bhrasht logon ko chhodo

apne virodhi deshon ki nind tak

enhonne udaa kar rakhi hai।

unki chain aur sukun ko bhi churaa kar rakhi hai।

pataa nahin ?

phir bhi kyon kuchh manachle hain hamaare

jo chaukidaar ko hi chor banaane men lage hain।


shaayad esalia aaj saare vipakshi dal

apne matbhedon ko bhul।

ek saath khde ho gaye hain

chaukidaar ko hataane ke khaatir।

par ham ye haragij hone nahin denge

chaukidaar ki kursi

usse chhinne nahin denge।

kyonki chaukidaar apnaa frj

ab achchhe se nibhaa rahaa hai।

doshiyon ko ab bakhshaa nahin jaa rahaa hai।

chaukidaar apnaa hai bahut hi sajag

aur imaandaari se vah apnaa kaam nibhaataa chalaa rahaa hai।



Written by Sushil kumar@kavitadilse.top

Shayari

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...