29 Mar 2019

Hamare priya modi ji ki hi sarkar aa rahi hai.

Shayari

हमारे प्रिय मोदी जी की ही सरकार आ रही है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Bharat

हम भारत देश में जन्म लिए।
हम भारत के हित की सोचेंगे।
हम स्वयं अपना कदम बढ़ाएंगे।
भारत को भी खींच उठाएँगे।
हम शांति दूत हैं इस विश्व के
पर हम कायर नहीं
जो विरोधियों के दबाव में,
अपने कदम पीछे हटाएँगे।
वो दौर कोई और था
ये दौर कोई और है।
पहले स्वयं के हित की सोच थी
आज देश के हित की सोच है।
पहले कायरता की खाई में गिरे थे हम सभी
पर आज हिमालय की वीरता के गोद में बैठे हैं हम।
Bharat,narendra modi

आज हमारी सोच में ललकार है
दुश्मनों के लिए।
तो बहुत सारा प्यार है वहीं
अपनो के लिए।
आज सारे देश में विकास की लहर है
गाँव - गाँव और शहर- शहर में
बिजली और सड़क है।
आज अपने सुनहरे देश की भविष्य
हमें उसकी छवि में नजर आ रही है।
आज हर दिल एक स्वर में
बस यही राग पुकार रही है।
इस बार फिर से
हमारे प्रिय मोदी की ही सरकार
आ रही है।
Bharat,narendra modi

जय हिंद।।
जय भारत।।












ham bhaarat desh men janm lia।

ham bhaarat ke hit ki sochenge।

ham svayan apnaa kadam bdhaaange।

bhaarat ko bhi khinch uthaaange।

ham shaanti dut hain es vishv ke

par ham kaayar nahin

jo virodhiyon ke dabaav men,

apne kadam pichhe hataaange।

vo daur koi aur thaa

ye daur koi aur hai।

pahle svayan ke hit ki soch thi

aaj desh ke hit ki soch hai।

pahle kaayartaa ki khaai men gire the ham sabhi

par aaj himaalay ki virtaa ke god men baithe hain ham।




aaj hamaari soch men lalkaar hai

dushmnon ke lia।

to bahut saaraa pyaar hai vahin

apno ke lia।

aaj saare desh men vikaas ki lahar hai

gaanv - gaanv aur shahar- shahar men

bijli aur sdak hai।

aaj apne sunahre desh ki bhavishy

hamen uski chhavi men najar aa rahi hai।

aaj har dil ek svar men

bas yahi raag pukaar rahi hai।

es baar phir se

hamaare priy modi ki hi sarkaar

aa rahi hai।




jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar.

Shayari

27 Mar 2019

Maat pita diwas

Shayari

मात - पिता दिवस।।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


बेरोजगार थे।
तो रोजगार के तनाव में
घर नहीं जाया करते थे।

माँ बाबू जी के ताने से
बचने के लिए
बाहर ही कहीं
समय बिताया करते थे।
कभी दोस्तों के साथ
तो कभी एकांत में
सरकारी नौकरी की
तैयारी किया करते थे।

घर पहुँचने पर
माँ चिड़चिड़ा कर
हमसे पूछ लिया करती थी।
क्या हवा खाके पेट भर गया है तो ठीक है
वरना आ बैठ
खाना खा ले संग में।

मैं भी गुस्से में
उनसे ये बोल दिया करता था।
भूख नहीं लगी है
मुझे माँ।
बाहर से आया हूँ खाकर।


माँ से अच्छा उसके बच्चे को
दुनिया में कोई नहीं समझ सकता है।
भूख बच्चे को लगती है
माँ बेचैन सी हो जाती है।
चोट बच्चे को लगती है
माँ बिलख सी जाती है।

पता नहीं
उस दिन क्या हुआ था?
माँ के आँखों से
अश्रु बह निकले थे।
मेरे करीब आ कर कहने लगी।
कल से तेरे को
कोई कुछ नहीं बोलेगा।
तू समय पर खाना खा लिया कर।
पढ़ाई करना है
तो कर
वरना अपना कोई धंधा शुरु कर ले।
पापा से कह कर तुझे
कुछ पैसे दिलवा दूँगी कल।
पर तू कभी भी ऐसे
तकलीफ मत दिया कर खुद को।

चल मैं भी सुबह से भूखी हूँ
आ खाना खा ले मेरे संग में।
वरना मैं भी नही खाऊँगी कभी
फिर सारे जिंदगी भर।

उनके ये शब्द
किसी धनुष से निकले
बाण की भाँती
मेरे हृदय को छलनी कर गए थे।
दिल मेरा भर आया था उस वक्त
जब मैं अपनी खुदगर्जी को
महसूस कर पाया था।

और अगले महीने बेरोज़गारी की लेबल
मेरे सर से हट जाती है।
ये और कुछ नहीं
माँ बाबूजी के आशीर्वाद के रूप में
दिए हुए उनके तानो के बदौलत थे।
और हमारी मेहनत थी।
और कुछ ईश्वर की मर्जी थी।

हम अपने माँ बाबू जी को हमेशा
बचपन से तकलीफ देते आते हैं।
जो हरपल एक पैर पर खड़े हो सदा
हमारी खुशी के लिए
रब से प्रार्थना किए जाते हैं।
आज हम जिस मुकाम पर हैं
ये सब
उनके ही दिए संस्कार के बदौलत है।
पर वे कभी भी अपना हक
हमपे नहीं जताते हैं।
भले कभी तकलीफ में हो वे खुद
पर हमारी खुशी देख वो हर्षाते हैं।
सही में
माँ और पिता सदा हमारे लिए
भगवान के दिए हुए
सबसे अनमोल उपहार हैं।
इन्हें सदा सहेज कर रखने में ही
हमारे जीवन का उद्धार है।
चाहे जितना इनकी सेवा करलो।
इनके द्वारा
हमारे लिए किए त्याग का
कर्ज़ हम कभी नहीं चुका पाते हैं।
इसलिए आज से हर दिन हम
अपने दिन की शुरुवात
उनके अच्छे सेहत की प्रार्थना से करते हैं।
ताकि उनका हाथ हमारे सर पर सदा बना रहे
और उनके मार्गदर्शन में
सदा उन्नति की ओर कदम बढ़ाते जाएँ हम।
Parents day













berojgaar the।

to rojgaar ke tanaav men

ghar nahin jaayaa karte the।


maan baabu ji ke taane se

bachne ke lia

baahar hi kahin

samay bitaayaa karte the।

kabhi doston ke saath

to kabhi ekaant men

sarkaari naukri ki

taiyaari kiyaa karte the।


ghar pahunchne par

maan chidchidaa kar

hamse puchh liyaa karti thi।

kyaa havaa khaake pet bhar gayaa hai to thik hai

varnaa aa baith

khaanaa khaa le sang men।


main bhi gusse men

unse ye bol diyaa kartaa thaa।

bhukh nahin lagi hai

mujhe maan।

baahar se aayaa hun khaakar।



maan se achchhaa uske bachche ko

duniyaa men koi nahin samajh saktaa hai।

bhukh bachche ko lagti hai

maan bechain si ho jaati hai।

chot bachche ko lagti hai

maan bilakh si jaati hai।


pataa nahin

us din kyaa huaa thaa?

maan ke aankhon se

ashru bah nikle the।

mere karib aa kar kahne lagi।

kal se tere ko

koi kuchh nahin bolegaa।

tu samay par khaanaa khaa liyaa kar।

pdhaai karnaa hai

to kar

varnaa apnaa koi dhandhaa shuru kar le।

paapaa se kah kar tujhe

kuchh paise dilvaa dungi kal।

par tu kabhi bhi aise

takliph mat diyaa kar khud ko।


chal main bhi subah se bhukhi hun

aa khaanaa khaa le mere sang men।

varnaa main bhi nahi khaaungi kabhi

phir saare jindgi bhar।


unke ye shabd

kisi dhanush se nikle

baan ki bhaanti

mere hriaday ko chhalni kar gaye the।

dil meraa bhar aayaa thaa us vakt

jab main apni khudagarji ko

mahsus kar paayaa thaa।


aur agle mahine berojgaari ki lebal

mere sar se hat jaati hai।

ye aur kuchh nahin

maan baabuji ke aashirvaad ke rup men

dia hua unke taano ke badaulat the।

aur hamaari mehanat thi।

aur kuchh ishvar ki marji thi।


ham apne maan baabu ji ko hameshaa

bachapan se takliph dete aate hain।

jo harapal ek pair par khde ho sadaa

hamaari khushi ke lia

rab se praarthnaa kia jaate hain।

aaj ham jis mukaam par hain

ye sab

unke hi dia sanskaar ke badaulat hai।

par ve kabhi bhi apnaa hak

hampe nahin jataate hain।

bhale kabhi takliph men ho ve khud

par hamaari khushi dekh vo harshaate hain।

sahi men

maan aur pitaa sadaa hamaare lia

bhagvaan ke dia hua

sabse anmol uphaar hain।

enhen sadaa sahej kar rakhne men hi

hamaare jivan kaa uddhaar hai।

chaahe jitnaa enki sevaa karlo।

enke dvaaraa

hamaare lia kia tyaag kaa

karj ham kabhi nahin chukaa paate hain।

esalia aaj se har din ham

apne din ki shuruvaat

unke achchhe sehat ki praarthnaa se karte hain।

taaki unkaa haath hamaare sar par sadaa banaa rahe

aur unke maargadarshan men

sadaa unnati ki or kadam bdhaate jaaan ham।




Everyday is a Happy parents day.

written by sushil kumar @kavitadilse.top

Shayari


26 Mar 2019

Meri aankhen bhar aai hai.

Shayari

मेरी आँखे भर आई है


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मेरी आँखे भर आई है
मेरे देश की हालत देखकर।
काम क्रोध लोभ मोह अहंकार वश
नैतिकता कहीं
धूमिल सी होती चली जा रही है।
जिसे देखो
बस लगा पड़ा है
अपनी हवस को संतृप्त करने में।

प्यार और विश्वास जैसी भावनाएं तो
आज कोसों दूर तक
कहीं दिख नहीं रही है।
प्यार जो सिखाता है
न्योछावर कर देने को।
पर आज कल का प्यार भी
जानलेवा सा होता जा रहा है।

राम और कृष्ण की भूमि पर जहाँ
धर्म की स्थापना हेतु
राम जी ने लंकापति रावण से युद्ध किया
पांडवो ने कौरवों से महाभारत लड़ा।
जहाँ प्रेम और त्याग का पाठ पढ़ाने को
भगवान राम बनवास तक झेल गए।
पर फिर भी मनुष्य की आँखे नहीं खुली।
तो ये बड़ी चिंता की बात है।
कलयुग सर चढ़कर बोल रहा है।
आज फिर से धर्म की स्थापना के लिए
कल्कि को अवतार लेना ही होगा।
धर्म भ्रष्ट युग का अंत करके
पुनः सतयुग की स्थापना करनी ही होगी।








meri aankhe bhar aai hai

mere desh ki haalat dekhakar।

kaam krodh lobh moh ahankaar vash

naitiktaa kahin

dhumil si hoti chali jaa rahi hai।

jise dekho

bas lagaa pdaa hai

apni havas ko santriapt karne men।


pyaar aur vishvaas jaisi bhaavnaaan to

aaj koson dur tak

kahin dikh nahin rahi hai।

pyaar jo sikhaataa hai

nyochhaavar kar dene ko।

par aaj kal kaa pyaar bhi

jaanlevaa saa hotaa jaa rahaa hai।


raam aur kriashn ki bhumi par jahaan

dharm ki sthaapnaa hetu

raam ji ne lankaapati raavan se yuddh kiyaa

paandvo ne kaurvon se mahaabhaarat ldaa।

jahaan prem aur tyaag kaa paath pdhaane ko

bhagvaan raam banvaas tak jhel gaye।

par phir bhi manushy ki aankhe nahin khuli।

to ye bdi chintaa ki baat hai।

kalayug sar chdhakar bol rahaa hai।

aaj phir se dharm ki sthaapnaa ke lia

kalki ko avtaar lenaa hi hogaa।

dharm bhrasht yug kaa ant karke

punah satayug ki sthaapnaa karni hi hogi।


Written by sushil kumar

Shayari

24 Mar 2019

Azaad dhara ke

Shayari

आज़ाद धरा के

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Azadi
आज़ाद धरा के
आज़ाद अम्बर का
मैं वो आज़ाद पंक्षी हूँ।
जिसकी कोई सीमा नहीं
जिसे कोई बंधन नहीं।
जिसे कोई रोक टोक नहीं।
सारा अम्बर
सारी धरा
जिसका है अपना घर।
Azadi

जब मन किया
पँख फैला
उड़ चले अपने फलक की ओर।
भ्रमण किया खूब इधर उधर
चहचहा कर किया
सारे वातावरण को मधुरमय।
फिर जब भूख लगी तो
उतर आएँ
अपनी धरा पर
चुगने को अन्न।
ये होती है
आज़ादी।
जो मन किया
वो किया।
Azadi

पर मनुष्यों ने तो आज़ादी की
परिभाषा ही बदल डाली है।
सारे धरती को विभाजित कर
अपनी आज़ादी की सीमा बांध डाली है।
रंग रूप,जाति धर्म के आधार पर
ईश्वर तक को नहीं बख्शा है।
ये कैसी आज़ादी पाने को
मानव ने
अपने भाइयों का खून तक बहा डाला है।
Azadi

सोचो !!
जरा सोचो तुम।
क्या तुमने आज़ादी पा ली है।
रंग रूप,जाति धर्म के नाम पर
ये क्या कोहराम तुमने
दिमाग में मचाली है।
अपनी संकीर्ण सोच को
आज दिल से
तजने का समय आ चुका है।
हम सारे मानव एक हैं
और सारी विविधताओं को नष्ट कर
आज़ादी पाने का समय आ चुका है।







aajaad dharaa ke

aajaad ambar kaa

main vo aajaad pankshi hun।

jiski koi simaa nahin

jise koi bandhan nahin।

jise koi rok tok nahin।

saaraa ambar

saari dharaa

jiskaa hai apnaa ghar।




jab man kiyaa

pnakh phailaa

ud chale apne phalak ki or।

bhraman kiyaa khub edhar udhar

chahachhaa kar kiyaa

saare vaataavaran ko madhuramay।

phir jab bhukh lagi to

utar aaan

apni dharaa par

chugne ko ann।

ye hoti hai

aajaadi।

jo man kiyaa

vo kiyaa।




par manushyon ne to aajaadi ki

paribhaashaa hi badal daali hai।

saare dharti ko vibhaajit kar

apni aajaadi ki simaa baandh daali hai।

rang rup,jaati dharm ke aadhaar par

ishvar tak ko nahin bakhshaa hai।

ye kaisi aajaadi paane ko

maanav ne

apne bhaaeyon kaa khun tak bahaa daalaa hai।




socho !!

jaraa socho tum।

kyaa tumne aajaadi paa li hai।

rang rup,jaati dharm ke naam par

ye kyaa kohraam tumne

dimaag men machaali hai।

apni sankirn soch ko

aaj dil se

tajne kaa samay aa chukaa hai।

ham saare maanav ek hain

aur saari vividhtaaon ko nasht kar

aajaadi paane kaa samay aa chukaa hai।


Written by sushil kumar

Shayari

22 Mar 2019

Khud ko tu pahchan le

Shayari

खुद को तू पहचान ले

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।


खुद को तू पहचान ले
अपनी अस्तित्व को तू जान ले।
उद्देश्य! तेरा है क्या?
मन मंथन कर
तू ठान ले।

लक्ष्य को रख सामने
कर्म तू आरम्भ कर।
उठा कदम तू दृढ़कर
मन में अटूट विश्वास रख।

भले मंजिल तुझे दिखे नहीं
राह लगे दुश्वार कभी।
पाँव तेरा थके कहीं
लड़खड़ा कर तू गिरे वहीं।

आत्मविश्वास दिल में रख
उठ खड़े हो अपने पैर पर।।
और चल पड़ हिमालय की ओर
अपने पड़ाव को पाने को।

थक कर कहीं ऊँघ मत
हौसला दिल में बांधे रख।
खुद पर तू विश्वास रख
अपने मन के संशय का तू विनाश कर।

अपने जुनून के चिंगारी को
तू उसे हवा दे।
स्वयं को तू इतना जला
कि सूर्य बनकर तू कल चमक।
तेरे तप के फल देने को
खुद ईश्वर आएं तेरे समक्ष।









khud ko tu pahchaan le

apni astitv ko tu jaan le।

uddeshy! teraa hai kyaa?

man manthan kar

tu thaan le।


lakshy ko rakh saamne

karm tu aarambh kar।

uthaa kadam tu dridhkar

man men atut vishvaas rakh।


bhale manjil tujhe dikhe nahin

raah lage dushvaar kabhi।

paanv teraa thake kahin

ldakhdaa kar tu gire vahin।


aatmavishvaas dil men rakh

uth khde ho apne pair par।।

aur chal pd himaalay ki or

apne pdaav ko paane ko।


thak kar kahin ungh mat

hauslaa dil men baandhe rakh।

khud par tu vishvaas rakh

apne man ke sanshay kaa tu vinaash kar।


apne junun ke chingaari ko

tu use havaa de।

svayan ko tu etnaa jalaa

ki sury banakar tu kal chamak।

tere tap ke phal dene ko

khud ishvar aaan tere samaksh।


Written by sushil kumar

Shayari

Astitva ki khoj.

Shayari

अस्तित्व की खोज।।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

हर कोई
अस्तित्व अपनी खंगाल रहा है।
अपने होने का वजूद
वह स्वयं में
या किसी अन्य में
तलाश कर रहा है।

कल बड़े बेगाने से बैठे हुए थे
किसी कोने में
एक महफ़िल में।
आज सभी बेगाने घेरे हुए हैं
मेरे सफलता के राज़ को पहचानने में।
मेरी सोच जो कल कहीं
अटकी खड़ी रह गई थी
किसी सवाल पर।
आज भी वहीं खड़ी हुई है
इस उम्मीद में
कि कोई सही जवाब देकर
उसे संतुष्ट करे।

ये लोग क्यों किसी को घेर कर
खड़े रहते हैं किसी महफ़िल में।
कल किसी और को घेरे हुए थे जो लोग
आज मैं उनके बीच में घिरा हुआ हूँ
एक प्रेरणास्रोत बनकर।
फिर मुझे एहसास हुआ कि
मैं नहीं
मेरे ओहदे ने
इन्हें मेरी तरफ आकर्षित किया है।
और
ये अपने अस्तित्व को
मेरे अस्तित्व में तलाशने की कोशिश में लग गए हैं।
शायद इसीलिए
मेरी सफलता का राज़
बार बार ये मुझसे पूछ रहे हैं।

पर सही बताऊँ तो
सफलता पाने को
केवल एक मार्ग की ज़रूरत नहीं होती है।
जुनून और धैर्य की ज्यादा अहमियत होती है
किसी भी बड़ी उपलब्धि को हासिल करने में।
Entity











har koi

astitv apni khangaal rahaa hai।

apne hone kaa vajud

vah svayan men

yaa kisi any men

talaash kar rahaa hai।


kal bde begaane se baithe hua the

kisi kone men

ek mahfil men।

aaj sabhi begaane ghere hua hain

mere saphaltaa ke raaj ko pahchaanne men।

meri soch jo kal kahin

atki khdi rah gayi thi

kisi savaal par।

aaj bhi vahin khdi hui hai

es ummid men

ki koi sahi javaab dekar

use santusht kare।


ye log kyon kisi ko gher kar

khde rahte hain kisi mahfil men।

kal kisi aur ko ghere hua the jo log

aaj main unke bich men ghiraa huaa hun

ek prernaasrot banakar।

phir mujhe ehsaas huaa ki

main nahin

mere ohde ne

enhen meri taraph aakarshit kiyaa hai।

aur

ye apne astitv ko

mere astitv men talaashne ki koshish men lag gaye hain।

shaayad esilia

meri saphaltaa kaa raaj

baar baar ye mujhse puchh rahe hain।


par sahi bataaun to

saphaltaa paane ko

keval ek maarg ki jrurat nahin hoti hai।

junun aur dhairy ki jyaadaa ahamiyat hoti hai

kisi bhi bdi upalabdhi ko haasil karne men।


Written by sushil kumar

Shayari




21 Mar 2019

Hamari sena,hamari shan hai.

Shayari

हमारे सेना हमारी शान है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हमारे सेना हमारी शान है।
वो शरहद पर हैं
इसलिए तो हमारी जान है।
वो कभी भी मरते नहीं
और सदा अमर होकर
हमारे सीमा की रक्षा करते हैं।
उनके हर मनोकामना पूर्ण हो
ऐसी मनोकामना
हम होली की शुभ अवसर पर
ईश्वर से करते हैं।
जय हिंद।
जय भारत।












hamaare senaa hamaari shaan hai।

vo sharahad par hain

esalia to hamaari jaan hai।

vo kabhi bhi marte nahin

aur sadaa amar hokar

hamaare simaa ki rakshaa karte hain।

unke har manokaamnaa purn ho

aisi manokaamnaa

ham holi ki shubh avasar par

ishvar se karte hain।

jay hind।

jay bhaarat।



Written by sushil kumar

Shayari

20 Mar 2019

Holi ka tyohar hai.

Shayari

होली का त्योहार है

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

होली का त्योहार है
रंग और गुलाल भरी खुशियोंं की बौ-छार है।

हर दिल में
आज वो बचपन का उमंग
पुनः जाग उठा है।

सारे मन के मैल
मानो आज इस पावन त्योहार पर धूल चुके हैं।

और हम सभी
जातिवाद, धर्मवाद और सभी विकारों से ऊपर उठ
पूरे जोश खरोश और उमंग के साथ
होली के रंग में
एक साथ
सतरंगी खुशियों के झरने में
भींगे जा रहे हैं।

और तो और
हमारे साथ सारी प्रकृति भी
इस त्योहार के प्रभाव से बच नहीं पाई हैं।
दिन ढलने को है और
सारे अम्बर की लालिमा
हमें ऐसा आभास करा रही है।
मानो धरती ने अम्बर को
लाल गुलाल से रंग दिया हो।
और ठीक वैसे ही
धरती की हरियाली देख
ऐसा आभास हो रहा है
जैसे अम्बर ने भी हरे रंग के गुलाल से
धरती को रंगने का मौका नहीं गंवाया है।

कितना मनोहर दृश्य है
मानो सारी प्रकृति आज खुशी में
झूम रही हो।


आज के इस शुभ पल के अवसर पर
मैं फिर से सारे दोस्त,सारे रिश्तेदार व सबसे महत्वपूर्ण मेरे फौजी भाइयों व बहनों को होली की ढेर सारी शुभकामनाएं दिल से देता हूँ।ईश्वर से यही प्रार्थना करता हूँ कि आप सभी लोगों की सारे मनोकामनाएं पूर्ण हो।।ईश्वर सदा आपका सही मार्गदर्शन करें।

धन्यवाद

।।जय हिंद।।

।।जय भारत।

और फिर से
होली की दिल से सभी भारतीयों को ढेर सारी शुभकामनाएं।

सुशील कुमार

।।एक नई क्रांति की ज़रूरत है भारत को।।
।।राष्ट्रवाद की क्रांति।।

सुशील कुमार
Holi

Holi

हैप्पी होली।।











holi kaa tyohaar hai

rang aur gulaal bhari khushiyonn ki bau-chhaar hai।


har dil men

aaj vo bachapan kaa umang

punah jaag uthaa hai।


saare man ke mail

maano aaj es paavan tyohaar par dhul chuke hain।


aur ham sabhi

jaativaad, dharmvaad aur sabhi vikaaron se upar uth

pure josh kharosh aur umang ke saath

holi ke rang men

ek saath

satarangi khushiyon ke jharne men

bhinge jaa rahe hain।


aur to aur

hamaare saath saari prakriati bhi

es tyohaar ke prbhaav se bach nahin paai hain।

din dhalne ko hai aur

saare ambar ki laalimaa

hamen aisaa aabhaas karaa rahi hai।

maano dharti ne ambar ko

laal gulaal se rang diyaa ho।

aur thik vaise hi

dharti ki hariyaali dekh

aisaa aabhaas ho rahaa hai

jaise ambar ne bhi hare rang ke gulaal se

dharti ko rangne kaa maukaa nahin ganvaayaa hai।


kitnaa manohar driashy hai

maano saari prakriati aaj khushi men

jhum rahi ho।



aaj ke es shubh pal ke avasar par

main phir se saare dost,saare rishtedaar v sabse mahatvpurn mere phauji bhaaeyon v bahnon ko holi ki dher saari shubhkaamnaaan dil se detaa hun।ishvar se yahi praarthnaa kartaa hun ki aap sabhi logon ki saare manokaamnaaan purn ho।।ishvar sadaa aapkaa sahi maargadarshan karen।


dhanyvaad


।।jay hind।।


।।jay bhaarat।


aur phir se

holi ki dil se sabhi bhaartiyon ko dher saari shubhkaamnaaan।


sushil kumaar


।।ek nayi kraanti ki jrurat hai bhaarat ko।।

।।raashtrvaad ki kraanti।।




Written by sushil kumar

Holi Shayari

18 Mar 2019

Vo akela hi chala tha

Shayari

वो अकेला ही चला था

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


वो अकेला ही चला था
बदलने सारे हिंदुस्तान को।
एक नई सोच,एक नया विश्वास
सारे भारतीयों के
हृदय में बोकर।
वो निकल पड़ा था एक मिशन पर
सारे प्रणाली से भ्रष्टाचार मिटाने को।

सारी मानवता चल पड़ी थी
उसके पीछे
उसके नेक कदम पर
उसके कदम से कदम मिलाकर।
विकास की मंज़िल पाने को
अपने अधूरे सपनों को पूर्ण कर सँवारने को।

आज जब काले धन पर रोक लग चुका है
अपने प्रणाली में भी कुछ सुधार आ चुका है।
तो खाने वालों के पेट मे
एक चुभन सा लग रहा है।
और बौखलाहट में
वे कुछ भी बड़बड़ाने से लगे हैं।
और हमारे चौकीदार को चोर
वे बनाने में लगे हैं।

अगर चोर ही होते
फिर इनसे डरता कोई क्यों?
यहाँ अपने देश के भ्रष्ट लोगों को छोड़ो
अपने विरोधी देशों की नींद तक
इन्होंने उड़ा कर रखी है।
उनकी चैन और सुकून को भी चुरा कर रखी है।
पता नहीं ?
फिर भी क्यों कुछ मनचले हैं हमारे
जो चौकीदार को ही चोर बनाने में लगे हैं।

शायद इसलिए आज सारे विपक्षी दल
अपने मतभेदों को भूल।
एक साथ खड़े हो गए हैं
चौकीदार को हटाने के खातिर।
पर हम ये हरगिज़ होने नहीं देंगे
चौकीदार की कुर्सी
उससे छीनने नहीं देंगे।
क्योंकि चौकीदार अपना फ़र्ज़
अब अच्छे से निभा रहा है।
दोषियों को अब बख्शा नहीं जा रहा है।
चौकीदार अपना है बहुत ही सजग
और ईमानदारी से वह अपना काम निभाता चला रहा है।
Shayari











vo akelaa hi chalaa thaa

badalne saare hindustaan ko।

ek nayi soch,ek nayaa vishvaas

saare bhaartiyon ke

hriaday men bokar।

vo nikal pdaa thaa ek mishan par

saare prnaali se bhrashtaachaar mitaane ko।


saari maanavtaa chal pdi thi

uske pichhe

uske nek kadam par

uske kadam se kadam milaakar।

vikaas ki manjil paane ko

apne adhure sapnon ko purn kar snvaarne ko।


aaj jab kaale dhan par rok lag chukaa hai

apne prnaali men bhi kuchh sudhaar aa chukaa hai।

to khaane vaalon ke pet me

ek chubhan saa lag rahaa hai।

aur baukhlaahat men

ve kuchh bhi bdabdaane se lage hain।

aur hamaare chaukidaar ko chor

ve banaane men lage hain।


agar chor hi hote

phir ense dartaa koi kyon?

yahaan apne desh ke bhrasht logon ko chhodo

apne virodhi deshon ki nind tak

enhonne udaa kar rakhi hai।

unki chain aur sukun ko bhi churaa kar rakhi hai।

pataa nahin ?

phir bhi kyon kuchh manachle hain hamaare

jo chaukidaar ko hi chor banaane men lage hain।


shaayad esalia aaj saare vipakshi dal

apne matbhedon ko bhul।

ek saath khde ho gaye hain

chaukidaar ko hataane ke khaatir।

par ham ye haragij hone nahin denge

chaukidaar ki kursi

usse chhinne nahin denge।

kyonki chaukidaar apnaa frj

ab achchhe se nibhaa rahaa hai।

doshiyon ko ab bakhshaa nahin jaa rahaa hai।

chaukidaar apnaa hai bahut hi sajag

aur imaandaari se vah apnaa kaam nibhaataa chalaa rahaa hai।



Written by Sushil kumar@kavitadilse.top

Shayari

17 Mar 2019

Hamara chaukidar chor hai

Shayari

हमारा चौकीदार चोर है??

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हमारा चौकीदार चोर है
बाकी सारे ईमानदार हैं।
पाँच सालों में कोई घोटाला नहीं हुआ।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
विरोधी देशों की नींदें हराम हो गईं हैं।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज जब हम अपने दुश्मनों को
ईंट का जवाब पत्थर से दे रहे हैं।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज सारा विश्व भारत के साथ खड़ा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज अभिनंदन हमारा
सही सलामत देश वापस लौट आ रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज कालेधन पर चोट हुई है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज अपनी जी डी पी 7.7% पर है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज अपना देश आगे बढ़ रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज सभी वर्गों का विकास हो रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज सारे भ्रष्ट विरोधी दलों को
एक साथ खड़ा होना पड़ रहा है।
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
आज हम सारे देशवासी
अपने चौकीदार के साथ खड़े हैं
फिर भी हमारा चौकीदार चोर है।
Kavita









hamaaraa chaukidaar chor hai

baaki saare imaandaar hain।

paanch saalon men koi ghotaalaa nahin huaa।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

virodhi deshon ki ninden haraam ho gin hain।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj jab ham apne dushmnon ko

int kaa javaab patthar se de rahe hain।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj saaraa vishv bhaarat ke saath khdaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj abhinandan hamaaraa

sahi salaamat desh vaapas laut aa rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj kaaledhan par chot hui hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj apni ji di pi 7.7% par hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj apnaa desh aage bdh rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj sabhi vargon kaa vikaas ho rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj saare bhrasht virodhi dalon ko

ek saath khdaa honaa pd rahaa hai।

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।

aaj ham saare deshvaasi

apne chaukidaar ke saath khde hain

phir bhi hamaaraa chaukidaar chor hai।




 written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari

15 Mar 2019

Mere har sans mein

Shayari

मेरे हर साँस में

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मेरे हर साँस में
कुछ नया एहसास है।
कुछ नए जज़्बात हैं
तो कुछ दिल में खास है।
हर दिन की तरह
आज की सुबह में भी
कुछ बात है।
कुछ नए अवसर
और नई राहें
प्रोत्साहन कर रहें हैं हमें
कि तू आगाज़ कर।
समय ने भी पुकार कर
आज यही कहा है हमसे
बीते बिगड़े बातों को भूल
हौसला रख,आगे बढ़।
नए चुनौतियों से
आँखे मिला
दो दो हाथ करने को
रहें हमेशा तैयार हम।








mere har saans men

kuchh nayaa ehsaas hai।

kuchh naye jjbaat hain

to kuchh dil men khaas hai।

har din ki tarah

aaj ki subah men bhi

kuchh baat hai।

kuchh naye avasar

aur nayi raahen

protsaahan kar rahen hain hamen

ki tu aagaaj kar।

samay ne bhi pukaar kar

aaj yahi kahaa hai hamse

bite bigde baaton ko bhul

hauslaa rakh,aage bdh।

naye chunautiyon se

aankhe milaa

do do haath karne ko

rahen hameshaa taiyaar ham।

written by Sushil Kumar @ kavitadilse.top

Shayari

10 Mar 2019

Main ek soch hun

Shayari

मैं एक सोच हूँ

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मैं एक सोच हूँ
तुम्हें शायद पसन्द आऊँ
या ना भी आऊँ।
पर दिल में मेरे कोई दोष नहीं है।
मन में भी कोई आक्रोश नहीं है।
हृदय में है मेरे 
बहती है गंगा।
सभी को साथ लेकर
चलने की है दृढ़ इच्छा।
दोस्त क्या?
दुश्मन क्या?
सभी मेरे हैं भाई बन्धु।
बिन इनके 
हमारा कोई जहाँ भी 
है क्या संभव??

भले तुमने कल 
मुझपे चोट किया हो।
मेरे बदन को तुमने 
लहू लुहान किया हो।
पर समय ने मेरा 
पूरा साथ दिया है।
और जख्म मेरे भरकर
 आज पुनर्जीवित किया है।
और आज मैं पुनः
सब कुछ पुराना भूलकर।
नए मिलन की संगीत के 
तराने को 
प्यार से बुनकर।
लाया हूँ ख़ास तुम्हारे खातिर
ताकि तू उसे अनुभव कर।
तुम्हें साथ लेकर 
चलने को 
मैं आगे बढ़ा हूँ।
अपने मन में नहीं रखा है
तुम्हारे लिए कोई घृणा।
क्योंकि प्यार से बढ़कर इस जग में
और कोई धर्म नहीं है।















main ek soch hun

tumhen shaayad pasand aaun

yaa naa bhi aaun।

par dil men mere koi dosh nahin hai।

man men bhi koi aakrosh nahin hai।

hriaday men hai mere 

bahti hai gangaa।

sabhi ko saath lekar

chalne ki hai dridh echchhaa।

dost kyaa?

dushman kyaa?

sabhi mere hain bhaai bandhu।

bin enke 

hamaaraa koi jahaan bhi 

hai kyaa sambhav??



bhale tumne kal 

mujhpe chot kiyaa ho।

mere badan ko tumne 

lahu luhaan kiyaa ho।

par samay ne meraa 

puraa saath diyaa hai।

aur jakhm mere bharakar

 aaj punarjivit kiyaa hai।

aur aaj main punah

sab kuchh puraanaa bhulakar।

naye milan ki sangit ke 

taraane ko 

pyaar se bunakar।

laayaa hun khaas tumhaare khaatir

taaki tu use anubhav kar।

tumhen saath lekar 

chalne ko 

main aage bdhaa hun।

apne man men nahin rakhaa hai

tumhaare lia koi ghrinaa।

kyonki pyaar se bdhakar es jag men

aur koi dharm nahin hai।


Written by sushil kumar@ kavitadilse.top

Shayari

8 Mar 2019

Chhoti si pankti aaj ke hindustani nariyon ke upar

Shayari

छोटी सी पंक्ति आज के हिंदुस्तानी नारियों पर।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

नारी तू है नारायणी
सारे संसार में है
बस तेरी ही हुकूमत।

चाहे जिस घर में भी झाँक लो आप
पति बेचारा नाचता रहता है जिंदगी भर बस पत्नी के इशारे पर।

अम्बानी हो
चाहे हो टाटा
पत्नी के सामने
वह बन जाता है बेबस।

हर दिन उनके नए नए अरमान दिल में अंकुरित हो उठते हैं।
जिसे पूरा ना करो तो
सारे घर को सिर पर उठा लेती हैं।
पति बेचारा
करे तो क्या करे??
उसका जन्म हुआ ही है
उनके सारे फरमाइशें पूरा करने को।
पर जो भी हो
वो हमसे प्यार भी उतना ही करती हैं।
इतनी चोट देने के बाद
कहीं कुछ गलत ना हो जाए
हमारी लम्बी उम्र के लिए करवा चौथ और तीज रखती हैं।
और उस दिन
हम भी भाव भिवोर हो
उन्हें सदा सुहागन होने का आशिर्वाद दे देते हैं।

पर कभी आपने अनुभव किया है
जब वो मायके चली जाती हैं।
हमारा जीवन कितना नीरस सा हो जाता है।
हर पल
सौ सौ साल के बराबर प्रतीत होने लगते हैं।
क्यों??
क्योंकि हम भी उनसे उतना ही प्यार करते हैं।

नारी के बिना नर कभी भी सम्पूर्ण नहीं हो सकता।
और बिना उनके
हमारी सृस्टि भी कभी सफल नहीं हो सकती।
माँ, बहन,भाभी,पत्नी बन
वो जिंदगी में हमारे दस्तक देती हैं।
और अपनी लीलाएँ कर
हमारे जीवन को प्रकाशमय कर
सही राह दिखाती हैं।
और हमें
हमारे मन्ज़िल तक पहुँचाती हैं।


🙏🙏नारी की जय हो।🙏🙏









naari tu hai naaraayni

saare sansaar men hai

bas teri hi hukumat।


chaahe jis ghar men bhi jhaank lo aap

pati bechaaraa naachtaa rahtaa hai jindgi bhar bas patni ke eshaare par।


ambaani ho

chaahe ho taataa

patni ke saamne

vah ban jaataa hai bebas।


har din unke naye naye armaan dil men ankurit ho uthte hain।

jise puraa naa karo to

saare ghar ko sir par uthaa leti hain।

pati bechaaraa

kare to kyaa kare??

uskaa janm huaa hi hai

unke saare pharmaaeshen puraa karne ko।

par jo bhi ho

vo hamse pyaar bhi utnaa hi karti hain।

etni chot dene ke baad

kahin kuchh galat naa ho jaaa

hamaari lambi umr ke lia karvaa chauth aur tij rakhti hain।

aur us din

ham bhi bhaav bhivor ho

unhen sadaa suhaagan hone kaa aashirvaad de dete hain।


par kabhi aapne anubhav kiyaa hai

jab vo maayke chali jaati hain।

hamaaraa jivan kitnaa niras saa ho jaataa hai।

har pal

sau sau saal ke baraabar prtit hone lagte hain।

kyon??

kyonki ham bhi unse utnaa hi pyaar karte hain।


naari ke binaa nar kabhi bhi sampurn nahin ho saktaa।

aur binaa unke

hamaari sriasti bhi kabhi saphal nahin ho sakti।

maan, bahan,bhaabhi,patni ban

vo jindgi men hamaare dastak deti hain।

aur apni lilaaan kar

hamaare jivan ko prkaashamay kar

sahi raah dikhaati hain।

aur hamen

hamaare manjil tak pahunchaati hain।

Nari ki jay ho

Written by sushil kumar

Shayari

6 Mar 2019

Pyar karne walo ke lie💐💐💐

Shayari

प्यार करने वालों के लिए 💐💐💐

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



Love


इशारों ही इशारों में गुफ्तगू क्या चली
मन भँवरा पंख फैला पहुँचा
एक कली की गली।
कली ने भी खिल
उसके स्वागत में बढ़ी।
फिर चल पड़ा प्यार भरे
पलों का वो दौर।
सदियों तक बहती रही
वो प्यार भरी तरंगिनी।
आज भी ठीक वैसी है प्यास
जैसी प्रारंभिक दौर में थी।
समय बदला
प्रकृति बदली
पर उनका प्यार रहा स्थिर।
Love









eshaaron hi eshaaron men guphtgu kyaa chali

man bhnavraa pankh phailaa pahunchaa

ek kali ki gali।

kali ne bhi khil

uske svaagat men bdhi।

phir chal pdaa pyaar bhare

palon kaa vo daur।

sadiyon tak bahti rahi

vo pyaar bhari tarangini।

aaj bhi thik vaisi hai pyaas

jaisi praarambhik daur men thi।

samay badlaa

prakriati badli

par unkaa pyaar rahaa sthir।




Written by Sushil Kumar

Shayari

5 Mar 2019

Main kal ka suraj naa bhi dekh sakun to.

Shayari

मैं कल का सूरज ना भी देख सकूँ तो

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।।

Jai hind

मैं कल का सूरज ना भी देख सकूँ तो
मुझे कोई परवाह नहीं।
भारत देश अपना रहे सलामत
उसी में छिपी है जान मेरी।
Jai hind
कोई भी दुश्मन आजमा कर देख ले
भारत के फौलाद हैं हम।
हिमालय सा जज्बा है हमारा
टकराकर हमसे
सभी हो जाएँगे ध्वस्त।
Jai hind

1971 या 1999 का हो युद्ध
मुँह की खाई थी किसने!
सभी को है खबर।
आज भी हम सीमा पर
सीने तान खड़े हैं
खुद पर गर्व कर।
Jai hind

अभिमान है हमें उस देश पर
जिसकी मिट्टी पर हमने जन्म लिया।
संस्कारो की माला जो हमने
अपने पूर्वजों से ग्रहण किया।
Jai hind
आज भी अपने दुश्मनों को
सुधरने का
हर मौका हम देते हैं।
पर जो ना बदली उनकी चाल
तो बिजली बन
हम उनपर बरसते हैं।
जीते हैं अपनी माँ के लिए
मरते हैं अपनी माँ के लिए।
हमारे साँस के हर कश कश पर लिखा है
वन्दे मातरम! वन्दे मातरम!
वन्दे मातरम!वन्दे मातरम!
जय हिंद।।
Jai hind









main kal kaa suraj naa bhi dekh sakun to

mujhe koi parvaah nahin।

bhaarat desh apnaa rahe salaamat

usi men chhipi hai jaan meri।


koi bhi dushman aajmaa kar dekh le

bhaarat ke phaulaad hain ham।

himaalay saa jajbaa hai hamaaraa

takraakar hamse

sabhi ho jaaange dhvast।



1971 yaa 1999 kaa ho yuddh

munh ki khaai thi kisne!

sabhi ko hai khabar।

aaj bhi ham simaa par

sine taan khde hain

khud par garv kar।



abhimaan hai hamen us desh par

jiski mitti par hamne janm liyaa।

sanskaaro ki maalaa jo hamne

apne purvjon se grahan kiyaa।


aaj bhi apne dushmnon ko

sudharne kaa

har maukaa ham dete hain।

par jo naa badli unki chaal

to bijli ban

ham unapar baraste hain।

jite hain apni maan ke lia

marte hain apni maan ke lia।

hamaare saans ke har kash kash par likhaa hai

vande maataram! vande maataram!

vande maataram!vande maataram!

jay hind।।


Written by Sushil Kumar@kavitadilse.top

Shayari

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...