15 Feb 2019

Aaj fir se kisi ne ek gandi chal chali hai

Shayari

आज फिर से किसी ने

                      एक गन्दी चाल चली है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari,love shayari

आज फिर से किसी ने
                    एक गन्दी चाल चली है।

उस हैवान ने फिर से आज
                अपनी नियत जतलाई है।

नहीं चाहिए कोई उसे
                       अमन और शांति।

इंसान के रूप में
                  वो छुपा हुआ भेड़िया है।

उसे लग चुकी है
                हैवानियत की लत।

दूसरों की संपत्ति हड़पने का
                     उसका बन गया है मकसद।


पहले तो अपना बन
                    घुस आए थे अंदर।

करने लगे हैं देश को
                    भीतर से अब जर्जर।

जलाकर द्वेष और घृणा की ज्वाला
      करना चाह रहे हैं आज वो देश का बंटवारा।


क्या यही दिन देखने को
               हमारे पूर्वजों ने अपनी आहुति दी थी।

देश के टुकड़े टुकड़े करके
      क्या कभी उनके आत्मा को शांति मिलेगी।


बहुत सह चुके हैं
              अब और कितना सहेंगे।

अगर वो चैन से रहेंगे
            तो उन्हें हम दूध मख्खन देंगे।

पर कश्मीर जो कभी माँगा
                तो उन्हें चीर के रख देंगे।

अब हम अपने देश का
               और न टुकड़ा होने देंगे।

मेरा देश
           मेरे जीवन से भी है अनमोल।

अब और ना करने देंगे
             अपने देश की अखंडता को मटियामेट।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Shayari,love shayari








aaj phir se kisi ne

                    ek gandi chaal chali hai।


us haivaan ne phir se aaj

                apni niyat jatlaai hai।


nahin chaahia koi use

                       aman aur shaanti।


ensaan ke rup men

                  vo chhupaa huaa bhediyaa hai।


use lag chuki hai

                haivaaniyat ki lat।


dusron ki sampatti hdapne kaa

                     uskaa ban gayaa hai makasad।



pahle to apnaa ban

                    ghus aaa the andar।


karne lage hain desh ko

                    bhitar se ab jarjar।


jalaakar dvesh aur ghrinaa ki jvaalaa

      karnaa chaah rahe hain aaj vo desh kaa bantvaaraa।



kyaa yahi din dekhne ko

               hmaare purvjon ne apni aahuti di thi।


desh ke tukde tukde karke

      kyaa kabhi unke aatmaa ko shaanti milegi।



bahut sah chuke hain

              ab aur kitnaa sahenge।


agar vo chain se rahenge

            to unhen ham dudh makhkhan denge।


par kashmir jo kabhi maangaa

                to unhen chir ke rakh denge।


ab ham apne desh kaa

               aur n tukdaa hone denge।


meraa desh

           mere jivan se bhi hai anmol।


ab aur naa karne denge

             apne desh ki akhandtaa ko matiyaamet।


jay hind।।

jay bhaarat।।



Written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari





     
          

No comments:

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...