Email subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

आज फिर से किसी ने एक गन्दी चाल चली है।

आज फिर से किसी ने

                      एक गन्दी चाल चली है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari,love shayari

आज फिर से किसी ने
                    एक गन्दी चाल चली है।

उस हैवान ने फिर से आज
                अपनी नियत जतलाई है।

नहीं चाहिए कोई उसे
                       अमन और शांति।

इंसान के रूप में
                  वो छुपा हुआ भेड़िया है।

उसे लग चुकी है
                हैवानियत की लत।

दूसरों की संपत्ति हड़पने का
                     उसका बन गया है मकसद।


पहले तो अपना बन
                    घुस आए थे अंदर।

करने लगे हैं देश को
                    भीतर से अब जर्जर।

जलाकर द्वेष और घृणा की ज्वाला
      करना चाह रहे हैं आज वो देश का बंटवारा।


क्या यही दिन देखने को
               हमारे पूर्वजों ने अपनी आहुति दी थी।

देश के टुकड़े टुकड़े करके
      क्या कभी उनके आत्मा को शांति मिलेगी।


बहुत सह चुके हैं
              अब और कितना सहेंगे।

अगर वो चैन से रहेंगे
            तो उन्हें हम दूध मख्खन देंगे।

पर कश्मीर जो कभी माँगा
                तो उन्हें चीर के रख देंगे।

अब हम अपने देश का
               और न टुकड़ा होने देंगे।

मेरा देश
           मेरे जीवन से भी है अनमोल।

अब और ना करने देंगे
             अपने देश की अखंडता को मटियामेट।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Shayari,love shayari


Written by sushil kumar @ kavitadilse.top





     
          

No comments:

मैं हिन्दू नहीं।

मैं हिन्दू नहीं। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। मैं हिन्दू नहीं ना मैं मुसलमान हूँ। मैं सिख नहीं ना मैं क...