17 Feb 2019

Bahut sah liya hai hamne

Shayari

बहुत सह लिया है हमने

kavitadilse.top द्वारा आपस अभी पाठको को समर्पित है।
hindi patriotic shayari


बहुत सह लिया है हमने
खून की नदियां बहा दी तुमने।
पूरा भारत रो रहा है आज
बिजली कड़क रही है उनके हृदय में।

hindi patriotic shayari

क्या गुनाह किया था उन जवानों ने
जो तुमने ले ली उनकी जान।
बेगुनाहों का खून बहाकर
आज तुम्हारे रूह को मिली होगी आराम।
hindi patriotic shayari

आँखो में चिंगारी है
दिल में भी आक्रोश है।
सभी गद्दारो को भस्म करने को
मन मे हुआ विस्फोट है।
hindi patriotic shayari

उथल पुथल सा मच चुका है।
भावनाओ का बवंडर है जोर पर।
कहीं सारा पाकिस्तान ना मिट जाए।
हमारी जलती क्रोध में।

जय हिंद।।
जय भारत।।







bahut sah liyaa hai hamne

khun ki nadiyaan bahaa di tumne।

puraa bhaarat ro rahaa hai aaj

bijli kdak rahi hai unke hriaday men।





kyaa gunaah kiyaa thaa un javaanon ne

jo tumne le li unki jaan।

begunaahon kaa khun bahaakar

aaj tumhaare ruh ko mili hogi aaraam।




aankho men chingaari hai

dil men bhi aakrosh hai।

sabhi gaddaaro ko bhasm karne ko

man me huaa visphot hai।




uthal puthal saa mach chukaa hai।

bhaavnaao kaa bavandar hai jor par।

kahin saaraa paakistaan naa mit jaaa।

hamaari jalti krodh men।


jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar @kavitadilse.top

Shayari


16 Feb 2019

Hum nahin thamne wale

Shayari

हम नहीं थमने वाले

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari


हम नहीं थमने वाले
ना ही अब हम झुकने वाला।

बहुत हो गई गांधीगिरी
सुभाष बनने का समय आ गया।

खून के एक एक कतरे का हिसाब
लेने का समय आ गया।

वो दुखियारी बेबस माँ की
आँखों से बहती आँसुओ की कसम है।

वो उन शहिदों के परिवारो के आँखो से
बहते सैलाब की कसम है।

हम नही थमेंगे
ना ही अब हम झुकेंगे।

जब तक देश में छिपे गद्दारों का सर
धड़ से अलग ना कर देंगे।

चिंगारी जो भड़की है
अब नहीं वो बुझेगी।

जब तक सारे आतंकियो के भस्म को
महासागर में ना बहा देंगे हम।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Shayari,kavita











ham nahin thamne vaale

naa hi ab ham jhukne vaalaa।


bahut ho gayi gaandhigiri

subhaash banne kaa samay aa gayaa।


khun ke ek ek katre kaa hisaab

lene kaa samay aa gayaa।


vo dukhiyaari bebas maan ki

aankhon se bahti aansuo ki kasam hai।


vo un shahidon ke parivaaro ke aankho se

bahte sailaab ki kasam hai।


ham nahi thamenge

naa hi ab ham jhukenge।


jab tak desh men chhipe gaddaaron kaa sar

dhd se alag naa kar denge।


chingaari jo bhdki hai

ab nahin vo bujhegi।


jab tak saare aatankiyo ke bhasm ko

mahaasaagar men naa bahaa denge ham।


jay hind।।

jay bhaarat।।





Written by sushil kumar @ kavitadilse.top
Shayari

Are darindo!

Shayari

अरे दरिंदो! 

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित।।

Deshbhakti shayari,hindi shayari


अरे दरिंदो!
मानवता का तुम्हारे अंदर नामोनिशान नहीं।
बेगुनाहों का खून बहाकर तुम्हें आता है आनंद बड़ा।

पीठ पर हमला करके समझते हो
खुद को तुर्रम खान बड़े।
हमारी धरती माँ का खाते हो
और उनपर ही रखते हो बुरी नज़र।

दिल फट सा जाता है
जब सुनता हूँ ऐसी बुरी खबर।
देश के पहरेदार शहीद हुए हैं
कुछ कायर बुजदिल आतंकियों की साज़िश से।

अब और कितना सहेंगे हम
कब तक आँखे होएंगी नम।
देश में भावनाओं का सैलाब उठ चुका है
जो गद्दारों को बहा ले जाने को है व्याकुल।

आ गया है समय नमो
गद्दारों को ठिकाने लगाने का।
अब जो उन्हें सबक ना सिखाया
तो चढ़ बैठेंगे हमारे सर पर वो।
Deshbhakti shayari,hindi shayari


जय हिंद।।
जय भारत।।





are darindo!

maanavtaa kaa tumhaare andar naamonishaan nahin।

begunaahon kaa khun bahaakar tumhen aataa hai aanand bdaa।


pith par hamlaa karke samajhte ho

khud ko turram khaan bde।

hamaari dharti maan kaa khaate ho

aur unapar hi rakhte ho buri njar।


dil phat saa jaataa hai

jab suntaa hun aisi buri khabar।

desh ke pahredaar shahid hua hain

kuchh kaayar bujadil aatankiyon ki saajish se।


ab aur kitnaa sahenge ham

kab tak aankhe hoangi nam।

desh men bhaavnaaon kaa sailaab uth chukaa hai

jo gaddaaron ko bahaa le jaane ko hai vyaakul।


aa gayaa hai samay namo

gaddaaron ko thikaane lagaane kaa।

ab jo unhen sabak naa sikhaayaa

to chdh baithenge hamaare sar par vo।





jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari

15 Feb 2019

Aaj fir se kisi ne ek gandi chal chali hai

Shayari

आज फिर से किसी ने

                      एक गन्दी चाल चली है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari,love shayari

आज फिर से किसी ने
                    एक गन्दी चाल चली है।

उस हैवान ने फिर से आज
                अपनी नियत जतलाई है।

नहीं चाहिए कोई उसे
                       अमन और शांति।

इंसान के रूप में
                  वो छुपा हुआ भेड़िया है।

उसे लग चुकी है
                हैवानियत की लत।

दूसरों की संपत्ति हड़पने का
                     उसका बन गया है मकसद।


पहले तो अपना बन
                    घुस आए थे अंदर।

करने लगे हैं देश को
                    भीतर से अब जर्जर।

जलाकर द्वेष और घृणा की ज्वाला
      करना चाह रहे हैं आज वो देश का बंटवारा।


क्या यही दिन देखने को
               हमारे पूर्वजों ने अपनी आहुति दी थी।

देश के टुकड़े टुकड़े करके
      क्या कभी उनके आत्मा को शांति मिलेगी।


बहुत सह चुके हैं
              अब और कितना सहेंगे।

अगर वो चैन से रहेंगे
            तो उन्हें हम दूध मख्खन देंगे।

पर कश्मीर जो कभी माँगा
                तो उन्हें चीर के रख देंगे।

अब हम अपने देश का
               और न टुकड़ा होने देंगे।

मेरा देश
           मेरे जीवन से भी है अनमोल।

अब और ना करने देंगे
             अपने देश की अखंडता को मटियामेट।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Shayari,love shayari








aaj phir se kisi ne

                    ek gandi chaal chali hai।


us haivaan ne phir se aaj

                apni niyat jatlaai hai।


nahin chaahia koi use

                       aman aur shaanti।


ensaan ke rup men

                  vo chhupaa huaa bhediyaa hai।


use lag chuki hai

                haivaaniyat ki lat।


dusron ki sampatti hdapne kaa

                     uskaa ban gayaa hai makasad।



pahle to apnaa ban

                    ghus aaa the andar।


karne lage hain desh ko

                    bhitar se ab jarjar।


jalaakar dvesh aur ghrinaa ki jvaalaa

      karnaa chaah rahe hain aaj vo desh kaa bantvaaraa।



kyaa yahi din dekhne ko

               hmaare purvjon ne apni aahuti di thi।


desh ke tukde tukde karke

      kyaa kabhi unke aatmaa ko shaanti milegi।



bahut sah chuke hain

              ab aur kitnaa sahenge।


agar vo chain se rahenge

            to unhen ham dudh makhkhan denge।


par kashmir jo kabhi maangaa

                to unhen chir ke rakh denge।


ab ham apne desh kaa

               aur n tukdaa hone denge।


meraa desh

           mere jivan se bhi hai anmol।


ab aur naa karne denge

             apne desh ki akhandtaa ko matiyaamet।


jay hind।।

jay bhaarat।।



Written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari





     
          

13 Feb 2019

Sun mere sathi|| happy valentine day

Shayari

सुन मेरे साथी

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठको को समर्पित।

Valentine,happy valentine day,hindi kavita,hindi shayari

सुन मेरे साथी
सुन मेरे हमदम।
Valentine,happy valentine day,hindi kavita,hindi shayari

तेरे बिन एक पल भी
इस दुनिया में
अब और नहीं सहा जाता है।
मेरी रूह सदा तेरी याद में हर पल
मुझे तेरे करीब लिए जाती है।
हर वक़्त बस तेरी खैरियत की रब से
फरियाद मैं करता हूँ।
जो तू दूर कभी होता है
उतना ही करीब खुदको पाता हूँ।
मेरे साथ चल तू
चल तुझे ले चलूँ अपनी
प्यार की दुनिया में।
जहाँ मैं और तुम एक आशियाना बना।
मिल हम तुम उसे सजाएँगे।
प्यार की खेती सिचवाकर वहाँ
इश्क़ और मोहब्बत उपजाएँगे।
प्यार की बगिया में हमदोनो मिल
प्यार की धुन गुनगुनाएंगे।
Valentine,happy valentine day,hindi kavita,hindi shayari

Happy valentine day









sun mere saathi

sun mere hamadam।




tere bin ek pal bhi

es duniyaa men

ab aur nahin sahaa jaataa hai।

meri ruh sadaa teri yaad men har pal

mujhe tere karib lia jaati hai।

har vkt bas teri khairiyat ki rab se

phariyaad main kartaa hun।

jo tu dur kabhi hotaa hai

utnaa hi karib khudko paataa hun।

mere saath chal tu

chal tujhe le chalun apni

pyaar ki duniyaa men।

jahaan main aur tum ek aashiyaanaa banaa।

mil ham tum use sajaaange।

pyaar ki kheti sichvaakar vahaan

eshk aur mohabbat upjaaange।

pyaar ki bagiyaa men hamdono mil

pyaar ki dhun gunagunaaange।

Happy Valentine's day

Written by sushil Kumar @kavitadilse.top

Shayari

11 Feb 2019

Aaj fir se kal ki khoj mein nikla hun.

Shayari

आज फिर से कल की खोज में निकला हूँ।।


Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari,kavita,hindi shayari

आज फिर से कल की खोज में निकला हूँ।
निकला हूँ कल का
उगता हुआ नया सूरज देखने को।।
Shayari,kavita,hindi shayari

नीले नीले पट पर स्वर्णिम रंगों से
सूरज के मुखौटे को रँगने को।
नया जोश
नई तरंगें
सभी इक दिशा में लगा जोर।
करने को चले फतह
इक नया आसमान।
एक नया दौर।

Shayari,kavita,hindi shayari


Shayari,kavita,hindi shayari

हर दिल में अंकुरित
एक नया जोश है।
मंजिल को पाने की
सब में एक होड़ है।
थकने का समय नहीं
विश्राम कहीं अभी बहुत दूर है।
पसीने में लतपत
बढ़ा रहें हैं कदम सभी।
कतरा कतरा लहू से अपना
सींच रहे हैं अपने कर्म स्थान।
बना रहा हैं पथ नया
सफलता के नए आयाम को
चूमने को।









aaj phir se kal ki khoj men niklaa hun।

niklaa hun kal kaa

ugtaa huaa nayaa suraj dekhne ko।।




nile nile pat par svarnim rangon se

suraj ke mukhaute ko rnagne ko।

nayaa josh

nayi tarangen

sabhi ek dishaa men lagaa jor।

karne ko chale phatah

ek nayaa aasmaan।

ek nayaa daur।









har dil men ankurit

ek nayaa josh hai।

manjil ko paane ki

sab men ek hod hai।

thakne kaa samay nahin

vishraam kahin abhi bahut dur hai।

pasine men latapat

bdhaa rahen hain kadam sabhi।

katraa katraa lahu se apnaa

sinch rahe hain apne karm sthaan।

banaa rahaa hain path nayaa

saphaltaa ke naye aayaam ko

chumne ko।





Written by Sushil Kumar @ kavitadilse.top

Shayari

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...