31 Jan 2019

Aankho mein krodh hai

Shayari

आँखो में क्रोध है

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आँखो में क्रोध है
दिल में भी आक्रोश है।
मानो आज सृष्टि का अंत करने को
उनकी तीसरी नेत्र व्याकुल है।

मानवता का नामोनिशान आज
किसी मानव में नहीं दिख रहा।
जिसे देखो स्वार्थवश हो
अपने हित की बस यूँ सोच रहा।
अपने प्रियजनों के खून बहाने में
उनमें कोई ना संकोच रहा।

क्या यही दिन देखने को ब्रह्मा ने
कभी मानव का सृजन किया।
मानवता का पाठ पढ़ाना था जिन्हें
सही मार्ग दिखाना था जग को।
राक्षस बन
अपने रचियता पर ही
आज क्रूर प्रहार किया।

कल्कि अवतार लेने को है इस युग में
करने को है पूरे जग का सर्वनाश।
आज पाप की गगरी भर चुकी है
अब तो लेना होगा बागडोर
ईश्वर को अपने हाथ में।





aankho men krodh hai

dil men bhi aakrosh hai।

maano aaj sriashti kaa ant karne ko

unki tisri netr vyaakul hai।


maanavtaa kaa naamonishaan aaj

kisi maanav men nahin dikh rahaa।

jise dekho svaarthavash ho

apne hit ki bas yun soch rahaa।

apne priyajnon ke khun bahaane men

unmen koi naa sankoch rahaa।


kyaa yahi din dekhne ko brahmaa ne

kabhi maanav kaa sriajan kiyaa।

maanavtaa kaa paath pdhaanaa thaa jinhen

sahi maarg dikhaanaa thaa jag ko।

raakshas ban

apne rachiytaa par hi

aaj krur prhaar kiyaa।


kalki avtaar lene ko hai es yug men

karne ko hai pure jag kaa sarvnaash।

aaj paap ki gagri bhar chuki hai

ab to lenaa hogaa baagdor

ishvar ko apne haath men।




written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari


Hamein chain ki nind kahan aaega??

Shayari

हमें चैन की नींद कहाँ आएगा??


Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


भूत फिर से जाग रहा है
करने को चाह रहा है
फिर से उपद्रव।
देश को खतरे में डाल
राजगद्दी हथियाने को
चाल चल रहा है 
फिर से मीर जाफर।

देश को अगर बचाना है
तो इन्हें सबक सिखाना होगा।
बहुत रंग बदल लिया है इन्होंने
गिरगिट भी इन्हें देख 
शर्माया होगा।

देश के आवाम को भटकाने के अलावा
इन्हें कुछ नहीं आता है।
अपनी शातिर अभिलाषा को
इन्हें छुपाने नहीं आता है।

बहुत सह लिया इनकी दोगले पंती को
अब और सहा नहीं जाता है।
जब तक इन्हें देश से बाहर न कर दें
हमें चैन की नींद कहाँ आएगा??

जय हिंद।
जय भारत।
वन्दे मातरम।।











bhut phir se jaag rahaa hai

karne ko chaah rahaa hai

phir se upadrav।

desh ko khatre men daal

raajagaddi hathiyaane ko

chaal chal rahaa hai

phir se mir jaaphar।


desh ko agar bachaanaa hai

to enhen sabak sikhaanaa hogaa।

bahut rang badal liyaa hai enhonne

giragit bhi enhen dekh

sharmaayaa hogaa।


desh ke aavaam ko bhatkaane ke alaavaa

enhen kuchh nahin aataa hai।

apni shaatir abhilaashaa ko

enhen chhupaane nahin aataa hai।


bahut sah liyaa enki dogle panti ko

ab aur sahaa nahin jaataa hai।

jab tak enhen desh se baahar n kar den

hamen chain ki nind kahaan aaagaa??


jay hind।

jay bhaarat।

vande maataram।।


written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari


29 Jan 2019

Kranti ki chingari

Shayari

क्रांति की चिंगारी

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


क्रांति की चिंगारी
हर दिल में
आज फिर से यहाँ
धधक रही।

देश को लूटने से बचाने को भारत माँ
आज फिर से
लक्ष्मी बाई का आह्वान कर रही।

पर इस बार की परिस्थिति कुछ अलग ही है
मेरे प्यारे देशप्रेमियों।
अंग्रेज नहीं
आज अपनो में ही हैं
जो लूटने को आतुर हैं
अपनी भारत माता को।

कैसे बचा पाएगी मणिकर्णिका
अपने देश को
अपने ही लोगो से।










kraanti ki chingaari

har dil men

aaj phir se yahaan

dhadhak rahi।


desh ko lutne se bachaane ko bhaarat maan

aaj phir se

lakshmi baai kaa aahvaan kar rahi।


par es baar ki paristhiti kuchh alag hi hai

mere pyaare deshapremiyon।

angrej nahin

aaj apno men hi hain

jo lutne ko aatur hain

apni bhaarat maataa ko।


kaise bachaa paaagi manikarnikaa

apne desh ko

apne hi logo se।





written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

27 Jan 2019

Har pal mein vo pal talash raha hun main.

Shayari

हर पल में वो पल तलाश रहा हूँ मैं।।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


हर पल में वो पल तलाश रहा हूँ मैं।
बार बार लौट पुनः वहाँ जा रहा हूँ मैं।
बहुत दिन हो गए हैं
पर खुशियों से मुलाकात हो ना पाई है।
और खुशियों के खोज में
बार बार भूत में 
लौटे जा क्यों रहा हूँ मैं।

समय का पहिया 
लगातार आगे ही चलता जा रहा है।
पर क्यों 
समय को पीछे खिंचने का प्रयत्न कर रहा हूँ मैं।

खुशियों को क्यों ना वर्तमान में तलाशने का प्रयास करे हम।
हर पल,हर क्षण में
क्यों ना  
अपनी खुशियों के ओस को एकत्र करें हम।

Hindi shayari,hindi kavita,kavita,shayari







har pal men vo pal talaash rahaa hun main।

baar baar laut punah vahaan jaa rahaa hun main।

bahut din ho gaye hain

par khushiyon se mulaakaat ho naa paai hai।

aur khushiyon ke khoj men

baar baar bhut men 

laute jaa kyon rahaa hun main।


samay kaa pahiyaa 

lagaataar aage hi chaltaa jaa rahaa hai।

par kyon 

samay ko pichhe khinchne kaa prayatn kar rahaa hun main।


khushiyon ko kyon naa vartmaan men talaashne kaa pryaas kare ham।

har pal,har kshan men

kyon naa  

apni khushiyon ke os ko ekatr karen ham।





written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari




26 Jan 2019

Kya bataen???

Shayari

क्या बताएँ ??

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


क्या बताएँ??
किस कदर तुमसे हम प्यार करते हैं।
हर घड़ी
हर पल
बस तेरी खैरियत की
रब से फरियाद करते हैं ।

कहीं भी जाऊँ
कहीं भी रहूँ
तेरी यादें मेरी परछाई बन
मेरा साथ निभाती है।

तेरी वो मीठी मीठी बातें
तेरा वो हमसे नज़रों का चुराना
तेरा वो पास आकर
मेरे को उकसाना।
कहाँ भूल पाया हूँ मैं
तेरा वो मुस्कुराना।।

तेरी हँसी देख
मैं सारा जग भूल सा जाता हूँ।
मानो सारा जहाँ थम सा गया हो
बस एक उस क्षण में।
मानो तुम्हें पाकर
जीवन मेरा सार्थक हो गया है।










kyaa bataaan??

kis kadar tumse ham pyaar karte hain।

har ghdi

har pal

bas teri khairiyat ki

rab se phariyaad karte hain ।


kahin bhi jaaun

kahin bhi rahun

teri yaaden meri parchhaai ban

meraa saath nibhaati hai।


teri vo mithi mithi baaten

teraa vo hamse njron kaa churaanaa

teraa vo paas aakar

mere ko uksaanaa।

kahaan bhul paayaa hun main

teraa vo muskuraanaa।।


teri hnsi dekh

main saaraa jag bhul saa jaataa hun।

maano saaraa jahaan tham saa gayaa ho

bas ek us kshan men।

maano tumhen paakar

jivan meraa saarthak ho gayaa hai।


written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

20 Jan 2019

Tumhen kya laga??

Shayari

तुम्हे क्या लगा??

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


तुम्हे क्या लगा??
मैं भाग गया!
पर तुम्हें नहीं पता
मैं हूँ नहीं
कोई भगोड़ा।

हौसला है कायम।
जुनून है ज्वलन।
मुसीबतों की खाई में गिरकर
उठना है मुमकिन।।

सांस की आखिरी कश लेने तक
मैं लड़ता रहूँगा मरते दम तक।
माना मुसीबतों का पहाड़ खड़ा है
मेरे सामने।
लहूलुहान कर मुझे
मेरे हौसले को झकझोरने।
पर मैं भी कहाँ पीछे हटने वाला।
बन समुंदर की लहरें
करने लगा चोट लगातार
उन पत्थरों पर।

आज भी मैं
बिल्कुल वहीं हूँ खड़ा।
दे रहा हूँ चोट
लगातार उन मुसीबतों की दीवार पर।
टूटेगी
और ज़रूर टूटेगी वो दीवार।।
हासिल कर ही लूँगा अपनी मंज़िल
आज नहीं तो कल।।
तुम्हें क्या लगा??,शायरी,लव शायरी














tumhe kyaa lagaa??

main bhaag gayaa!

par tumhen nahin pataa

main hun nahin

koi bhagodaa।


hauslaa hai kaayam।

junun hai jvalan।

musibton ki khaai men girakar

uthnaa hai mumakin।।


saans ki aakhiri kash lene tak

main ldtaa rahungaa marte dam tak।

maanaa musibton kaa pahaad khdaa hai

mere saamne।

lahuluhaan kar mujhe

mere hausle ko jhakjhorne।

par main bhi kahaan pichhe hatne vaalaa।

ban samundar ki lahren

karne lagaa chot lagaataar

un patthron par।


aaj bhi main

bilkul vahin hun khdaa।

de rahaa hun chot

lagaataar un musibton ki divaar par।

tutegi

aur jrur tutegi vo divaar।।

haasil kar hi lungaa apni manjil

aaj nahin to kal।।






written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari


19 Jan 2019

Hamari yadein nai purani

Shayari

हमारी यादें नई पुरानी

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


हमारी यादें नई पुरानी
आते जाते बयां कर जाती है
कोई कहानी।।

कभी नम कर जाती है अँखियों को
तो कभी मुस्कान दे जाती है
चेहरों पर।।

कभी डराती हैं
तो कभी हँसाती हैं।
बिन सावन मेघ बरसा जाती हैं।

हर घड़ी संग रहकर
हमें जीने के लिए सही मार्ग दर्शाती हैं।

सही गलत का पहचान करवा कर
पिछले गलतियों में सुधार करवाती हैं।

अगर यादें ना हो
हम मनुष्यों के जीवन में।
हम गलती कर करके थक जाएँगे।

गलती की
भूल गए।

गलती की
भूल गए।

जो याद रहती  है हमें
इसलिए सुधार लाते हैं।

और हम मनुष्य
मनुष्य कहलाते हैं।







hamaari yaaden nayi puraani

aate jaate bayaan kar jaati hai

koi kahaani।।


kabhi nam kar jaati hai ankhiyon ko

to kabhi muskaan de jaati hai

chehron par।।


kabhi daraati hain

to kabhi hnsaati hain।

bin saavan megh barsaa jaati hain।


har ghdi sang rahakar

hamen jine ke lia sahi maarg darshaati hain।


sahi galat kaa pahchaan karvaa kar

pichhle galatiyon men sudhaar karvaati hain।


agar yaaden naa ho

ham manushyon ke jivan men।

ham galti kar karke thak jaaange।


galti ki

bhul gaye।


galti ki

bhul gaye।


jo yaad rahti  hai hamen

esalia sudhaar laate hain।


aur ham manushy

manushy kahlaate hain।



written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari


15 Jan 2019

Har pal,har lamha.

Shayari

हर पल हर लम्हा ।।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


हर पल हर लम्हा
बस तेरे ख्यालों में डूबा रहता हूँ।।
कहीं भी जाऊँ
कहीं भी रहूँ
बस तेरे सोच में उलझा रहता हूँ।।

ना खाने की फिक्र
ना पीने की फिक्र
बस तुम्हारी मखमली यादों में
डूबे रहता हुँ।।

अगर जो कोई टोके
तो मैं ज़रा भौचक्का सा रह जाता हूँ।
मुझे लगा
तुमने आवाज़ दिया।
पर तुम्हें पास ना पाकर
बड़ा बेचैन सा हो जाता हूँ।।
तुम्हें फोन कर
तूम्हारे हाल चाल पूछ।
मैं अपने दिल में चैन पाता हूँ।।

ईश्वर से हर वक़्त 
बस एक ही दुआ करता हूँ।
मेरे हर खुशी और
मेरे हर सुख से
उसकी जिन्दगानी रंगीन बना दे।
उसके सारे गम और दुख
मेरे नसीब में तू डाल दे।
मेरी साँस चले ना चले
उसकी नब्ज़ हमेशा चलती रहे।
उसकी खुशी देख मैं रहूँगा
सदा उसके संग।

Har pal har lamha,love shayari,love poems










har pal har lamhaa

bas tere khyaalon men dubaa rahtaa hun।।

kahin bhi jaaun

kahin bhi rahun

bas tere soch men uljhaa rahtaa hun।।


naa khaane ki phikr

naa pine ki phikr

bas tumhaari makhamli yaadon men

dube rahtaa hun।।


agar jo koi toke

to main jraa bhauchakkaa saa rah jaataa hun।

mujhe lagaa

tumne aavaaj diyaa।

par tumhen paas naa paakar

bdaa bechain saa ho jaataa hun।।

tumhen phon kar

tumhaare haal chaal puchh।

main apne dil men chain paataa hun।।


ishvar se har vkt 

bas ek hi duaa kartaa hun।

mere har khushi aur

mere har sukh se

uski jindgaani rangin banaa de।

uske saare gam aur dukh

mere nasib men tu daal de।

meri saans chale naa chale

uski nabj hameshaa chalti rahe।

uski khushi dekh main rahungaa

sadaa uske sang।




written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari



13 Jan 2019

Vachan det sab naa thake.

Shayari

वचन देत सब ना थके।।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


वचन देत सब ना थके
पर अमल करे ना कोई।।
जग हमारा सुंदर हो जाए।
जो एको वचन पालन करे होत कोई।।

गुरु वाचाल
नेतो वाचाल
सब जन यहाँ वाचाले होई।।
सीख देत देत 
दिल भरे नहीं।
पर जब करनी करे के 
जो बारी आय
तो सब फुस्स होय।।

वचन करै के पहले
तनिक अपन अंदर झाँकन लेई।
जो स्वयं पालन कर सके
तभीहे सब के प्रवचन फरमावे चाही।।

माँ बाप से कटु व्यवहार करे
जग में प्रेम फैलावे चाही।
घर सुंदर बनत नहीं इनसे
कैसे जग खूबसूरत बन पाय।।


वचन देत सब ना थके
पर अमल करे ना कोई।।
जग हमारा सुंदर हो जाए।
जो एको वचन पालन करे होत कोई










vachan det sab naa thake

par amal kare naa koi।।

jag hamaaraa sundar ho jaaa।

jo eko vachan paalan kare hot koi।।


guru vaachaal

neto vaachaal

sab jan yahaan vaachaale hoi।।

sikh det det 

dil bhare nahin।

par jab karni kare ke 

jo baari aay

to sab phuss hoy।।


vachan karai ke pahle

tanik apan andar jhaankan lei।

jo svayan paalan kar sake

tabhihe sab ke pravachan pharmaave chaahi।।


maan baap se katu vyavhaar kare

jag men prem phailaave chaahi।

ghar sundar banat nahin ense

kaise jag khubsurat ban paay।।



vachan det sab naa thake

par amal kare naa koi।।

jag hamaaraa sundar ho jaaa।

jo eko vachan paalan kare hot koi





written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari



7 Jan 2019

Pyar pyar pyar aur kewal pyar

Shayari

प्यार प्यार प्यार और केवल प्यार।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



सुबह क्या
शाम क्या
दिन क्या
रात क्या
हर घड़ी
तेरी खैरियत की
फ़रयाद करता हूँ
अपने रब से।

नैन झपकना भूल भी जाऊँ
पर सुमिरन तेरी सलामती की
अपने ईश्वर से
हमेशा करता ही रहता हूँ।

दुख और तकलीफ़ तेरे
सारे मेरे नसीब में हो जाएँ।
अपने खुशियों के बना गुलदस्ते
तुझे भेंट में देदूँ।

दिल करता है
तुझे कभी भी
अपने नजरों से ओझल ना होने दूँ।
बस तुम्हें निहारता रहूँ।
और अपने हृदय में
सदा सदा के लिए
तुम्हे बसा लूँ।

आई लव यू।।











subah kyaa

shaam kyaa

din kyaa

raat kyaa

har ghdi

teri khairiyat ki

fryaad kartaa hun

apne rab se।


nain jhapaknaa bhul bhi jaaun

par sumiran teri salaamti ki

apne ishvar se

hameshaa kartaa hi rahtaa hun।


dukh aur taklif tere

saare mere nasib men ho jaaan।

apne khushiyon ke banaa guladaste

tujhe bhent men dedun।


dil kartaa hai

tujhe kabhi bhi

apne najron se ojhal naa hone dun।

bas tumhen nihaartaa rahun।

aur apne hriaday men

sadaa sadaa ke lia

tumhe basaa lun।


I love you।।


written by Sushil Kumar at kavitadilse.top



5 Jan 2019

Jiwan ek sangit hai, tum use gungunate jao.

Shayari

जीवन एक संगीत है

तुम उसे गुनगुनाते जाओ।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।






मैं चला
तुम चले
हम सब चलें
अपनी मंजिल की ओर।
कोई तेज़
कोई मध्यम
तो कोई धीमी गति से चला।
जिसे जितनी तीव्र चाह
वह उसी गति से चला।

रस्ते मिले
उबड़े खाबड़े
तो कभी मिला
एकदम समतल।
जीवन कभी भी एकरस नहीं।
कहीं धूप
तो कहीं है छाव।
मिला जो है
हमें किरदार
बस उसे निभाते जाओ।
जीवन एक संगीत है
तुम उसे गुनगुनाते जाओ।














main chalaa

tum chale

ham sab chalen

apni manjil ki or।

koi tej

koi madhyam

to koi dhimi gati se chalaa।

jise jitni tivr chaah

vah usi gati se chalaa।


raste mile

ubde khaabde

to kabhi milaa

ekadam samatal।

jivan kabhi bhi ekaras nahin।

kahin dhup

to kahin hai chhaav।

milaa jo hai

hamen kirdaar

bas use nibhaate jaao।

jivan ek sangit hai

tum use gunagunaate jaao।



written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

Uski yaadon mein khoya rahta hun.

Shayari

उसकी यादों में खोया रहता हूँ।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

USKI YAADON ME KHOYA RAHTA HUN,hindi poem and hindi shayari,love poems

लोगों को एहसास हुआ
कि हम है
अलग क्यों बैठे।
भरी महफ़िल में
क्यों अपनी तन्हाई संग
 गुफ्तगू हैं करते।
USKI YAADON ME KHOYA RAHTA HUN,hindi poem and hindi shayari,love poems

अरे जनाब
आप जरा हमारे साथ आइए
एक दो जाम अपने लबों से लगाकर
सारे गम को मिटाइए।
क्यों इतने उखड़े उखड़े से
लग रहे हो आप यहाँ।
सारे दुखड़ों को भुलाकर
हमारे कदम के साथ
कदम मिलाइए।
USKI YAADON ME KHOYA RAHTA HUN,LOVE POEMS,HINDI SHAYRI

मैं क्या बताऊँ इन्हें
कि मैं क्यों हूँ उदास।
भरी महफ़िल में भी है
मुझे अपनी महबूबा कि तलाश।
कहाँ एक पल भी
उसे भूल भी मैं पाता हूँ।
बिन उसके एक पल भी
कहीं चैन नहीं पाता हूँ।
भरी महफ़िल हो
या हो तन्हाई
बस उसकी यादों में
खोया रहता हूँ।
USKI YAADON ME KHOYA RAHTA HUN,HINDI POEMS,HINDI SHAYARI










logon ko ehsaas huaa

ki ham hai

alag kyon baithe।

bhari mahfil men

kyon apni tanhaai sang

 guphtgu hain karte।



are janaab

aap jaraa hamaare saath aaea

ek do jaam apne labon se lagaakar

saare gam ko mitaaea।

kyon etne ukhde ukhde se

lag rahe ho aap yahaan।

saare dukhdon ko bhulaakar

hamaare kadam ke saath

kadam milaaea।



main kyaa bataaun enhen

ki main kyon hun udaas।

bhari mahfil men bhi hai

mujhe apni mahbubaa ki talaash।

kahaan ek pal bhi

use bhul bhi main paataa hun।

bin uske ek pal bhi

kahin chain nahin paataa hun।

bhari mahfil ho

yaa ho tanhaai

bas uski yaadon men

khoyaa rahtaa hun।




written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

2 Jan 2019

Ek baat to bata de tu mujhe.

Shayari

एक बात तो बता दे तू मुझे

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


ek baat to bata de mujhe,hindi poems,hindi shayari,love poems
एक बात तो बता दे तू मुझे
सोचने में पीएचडी की है तूने??
सुबह से शाम धलने को चली
पक्षियों ने भी पंख फैला
अपने घोंसले की ओर उड़ी।
पर तू तो अभी तक
खड़ा है वहीं।
ek baat to bata de mujhe,hindi poems,hindi shayari,love poems

सोच सोच कर तू थक चुका।
निष्कर्ष पर तब भी नहीं पहुँचा।
इतना भी फिर क्या सोचना
समय के साथ कदम उठाते चल।
कर्म पर अपने विश्वास रख
सोच को किसी दरिये में फेंक।
ek baat to bata de mujhe,hindi poems,hindi shayari,love poems

जीयो हमेशा वर्तमान में।
कर परिश्रम तू आज में।।
भविष्य सुनहरा है खड़ा।
देख तेरे
कल इंतजार में।
ek baat to bata de mujhe,love poems,hindi shayari,hindi poems













ek baat to bataa de tu mujhe

sochne men PHD ki hai tune??

subah se shaam dhalne ko chali

pakshiyon ne bhi pankh phailaa

apne ghonsle ki or udi।

par tu to abhi tak

khdaa hai vahin।



soch soch kar tu thak chukaa।

nishkarsh par tab bhi nahin pahunchaa।

etnaa bhi phir kyaa sochnaa

samay ke saath kadam uthaate chal।

karm par apne vishvaas rakh

soch ko kisi dariye men phenk।



jiyo hameshaa vartmaan men।

kar parishram tu aaj men।।

bhavishy sunahraa hai khdaa।

dekh tere

kal entjaar men।






written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari



कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...