30 Dec 2019

ऐसा कोई दिन नहीं।aisa koi din nahin.

Shayari


ऐसा कोई दिन नहीं

जब तुम्हें मैने याद ना किया हो।
ऐसा कोई पल नहीं
जब तुम मेरे ख्याल में ना आए हो।
तुमसे झगड़ता हूँ
तुमसे लड़ता हूँ
पर प्यार भी उतना ही करता हूँ।

दो पल के लिए
जो तुम नज़रों से ओझल क्या होते हो?
दिल बेचैन सा हो जाता है
मन में हड़कंप सी मच जाती है।
और तुम्हारी खैरियत के लिए रब से दुआ में
शीश झुकने लगते हैं।

तुम्हारे आते ही
सारे ख्याल एक क्षण में
कहीं खो से जाते हैं।
बाँसुरी के मंत्रमुग्ध धुन
पीछे से बज पड़ते हैं।
एक जादू भरे पल का
फिर से आगाज़ हो जाता है।
मैं और तुम एक दूसरे में
फिर से जी उठते हैं।



aisaa koi din nahin

jab tumhen maine yaad naa kiyaa ho।

aisaa koi pal nahin

jab tum mere khyaal men naa aaa ho।

tumse jhagdtaa hun

tumse ldtaa hun

par pyaar bhi utnaa hi kartaa hun।


do pal ke lia

jo tum njron se ojhal kyaa hote ho?

dil bechain sa ho jaataa hai

man men hdakamp si mach jaati hai।

aur tumhaari khairiyat ke lia rab se duaa men

shish jhukne lagte hain।


tumhaare aate hi

saare khyaal ek kshan men

kahin kho jaate hain।

baansuri ke mantramugdh dhun

pichhe se baj pdte hain।

ek jaadu bhare pal kaa

phir se aagaaj ho jaataa hai।

main aur tum ek dusre men

phir se ji uthte hain।


Written by sushil kumar

26 Dec 2019

मुझे कोई बदल नहीं सकता mujhe koi badal nahin sakta.

मुझे कोई बदल नहीं सकता।


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मेरे अश्क़ पोंछने को
कोई दिखा नहीं।
मेरे दर्द बाँटने को
कोई बचा नहीं।
पर हाँ कुछ मौकापरस्त लोग
आ पहुँचे हैं मेरे करीब।
जो मेरे बर्बादी के चीते पर भी
अपनी रोटियां सेंकने से
बाज नहीं आ रहे।

मैं जैसा कल को था
वैसा ही आज भी रह गया।
रईसी चली गई
पर दानवीरता नहीं छूटी।
बनावटी दुनिया में
मैं ठगाता चला गया।
लोगों ने मेरे मलबे से
अपने महल तक बना लिए।


mere ashk ponchhne ko

koi dikhaa nahin।

mere dard baantne ko

koi bachaa nahin।

par haan kuchh maukaaparast log

aa pahunche hain mere karib।

jo mere barbaadi ke chite par bhi

apni rotiyaan senkne se

baaj nahin aa rahe।


main jaisaa kal ko thaa

vaisaa hi aaj bhi rah gayaa।

risi chali gayi

par daanvirtaa nahin chhuti।

banaavti duniyaa men

main thagaataa chalaa gayaa।

logon ne mere malbe se

apne mahal tak banaa lia।





Written by sushil kumar




18 Dec 2019

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था:- khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa

Shayari




खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।


मैं तो चला जा रहा था अपनी धुन में
अपने मंजिल की ओर।
तू ही रोड़ा बन
मेरे राह में अड़चन बने जा रहा था।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।

तेरी जिक्र भी कहाँ कर रहा था
किसी भी बातों में कहीं भी।
तू खुद ही मेरे हर बात से
खुदको जोड़े जा रहा था।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।

मदमस्त था अपनी ज़िंदगी में
गुनगुनाता जा रहा था मीठे गीत।
पर क्यों तुझे
मेरे हर सुरीले गीत में भी
अपशब्द नज़र आ रहा था।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।

मैं नहीं चाहता था
कभी किसी से फालतू का भिड़ना।
पर अगर कोई मच्छर बार बार
तेरे कान में भिनभिनाए जा रहा हो।
और तेरे धैर्य की परीक्षा
वो बार बार लिए जा रहा हो।
तो जाहिर है
एक ताली में उसे
नरक के द्वार पहुँचाना आता है मुझे।

खामख्वाह ही तू मुझसे उलझे जा रहा था।




khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


main to chalaa jaa rahaa thaa apni dhun men

apne manjil ki or।

tu hi rodaa ban

mere raah men adchan bane jaa rahaa thaa।


khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


teri jikr bhi kahaan kar rahaa thaa

kisi bhi baaton men kahin bhi।

tu khud hi mere har baat se

khudko jode jaa rahaa thaa।


khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


madamast thaa apni jindgi men

gunagunaataa jaa raha thaa mithe git।

par kyon tujhe

mere har surile git men bhi

apashabd njar aa rahaa thaa।


khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa rahaa thaa।


main nahin chaahtaa thaa

kabhi kisi se phaaltu kaa bhidnaa।

par agar koi machchhar baar baar

tere kaan men bhinabhinaaa jaa rahaa ho।

aur tere dhairy ki parikshaa

vo baar baar lia jaa rahaa ho।

to jaahir hai

ek taali men use

narak ke dvaar pahunchaanaa aataa hai mujhe।



khaamakhvaah hi tu mujhse uljhe jaa


rahaa thaa।


Written by sushil kumar





14 Dec 2019

मन बावरे संभल जा।man bavre sambhal ja.

Shayari


मन  बावरे संभल जा।

                   क्यों भटक रहा है इधर उधर।
ईश्वर की भक्ति को छोड़,
                    क्यों फँस रहा है नए नए बन्धनों में।
ये दुनिया है बड़ी ही शातिर
                  पहले तो मीठे मीठे बोल बोलकर रिझाएगी तुझे।
जब फंस गया जो उसके चाल में
                         तो बीच मंझधार में छोड़कर
                            चुप चाप निकल जाएगी फुर्ररर से।


man  baavre sambhal jaa।

                   kyon bhatak rahaa hai edhar udhar।

ishvar ki bhakti ko chhod,

                    kyon phnas rahaa hai naye naye bandhnon men।

ye duniyaa hai bdi hi shaatir

                  pahle to mithe mithe bol bolakar rijhaaagi tujhe।

jab phans gayaa jo uske chaal men

                         to bich manjhdhaar men chhodkar

                            chup chaap nikal jaaagi phurrarar se।





Written by sushil kumar

जिन्दगी की नब्ज पकड़कर चलना मुझे आ गया।zindagi ki nabz pakadkar chalna mujhe aa gaya.

Shayari

जिन्दगी की नब्ज पकड़कर चलना मुझे आ गया।zindagi ki nabz pakadkar chalna mujhe aa gaya.


जिन्दगी की नब्ज पकड़कर चलना मुझे आ गया।
मुसीबत भरे लम्हों को झेलना मुझे आ गया।
जीवन के हर परीक्षा को हल करना मुझे आ गया।
दुख के हर लम्हों में,खुशियों को समेटना आ गया।
जिन्दगी बहुत छोटी सी है
उस अनमोल पल को जीना आ गया।



jindgi ki nabj pakdakar chalnaa mujhe aa gayaa।

musibat bhare lamhon ko jhelnaa mujhe aa gayaa।

jivan ke har parikshaa ko hal karnaa mujhe aa gayaa।

dukh ke har lamhon men,khushiyon ko sametnaa aa gayaa।

jindgi bahut chhoti si hai

us anmol pal ko jinaa aa gayaa।

Written by sushil kumar

दिल है बेचैन dil hai bechain

Shayari

Dil hai bechain


दिल है बेचैन,
मेरे रस्ते पर हैं नैन।
आज दिखी नहीं मेरी जान,
मैं हो गया हूँ परेशान।
कहाँ चला गया मेरा चाँद
मेरा सूना सूना है,दिल का आसमान



dil hai bechain,

mere raste par hain nain।

aaj dikhi nahin meri jaan,

main ho gayaa hun pareshaan।

kahaan chalaa gayaa meraa chaand

meraa sunaa sunaa hai,dil kaa aasmaan


Written by sushil kumar

खैरीयत khairiyat

Shayari

Khariyat


हर साँस के साथ,बस एक ही आवाज दिल में गुंजता है।
तुम्हारी खैरीयत रहे,मैं तो यहाँ जिंदा हूँ।
आज भी हर  सुबह,तुम्हारी खैरीयत के लिए दुआ करता हूँ।
हमारा दिन भले खराब जाए, पर तुम्हारी झोली में केवल खुशियों की सौगात के लिए फरियाद करता हूँ।
मेरी जिंदगी है बहुत ही छोटी सी,
यह हमें पता है।
पर जिंदगी के हर नए पन्ने को तेरे नाम से लिख दिया करता हूँ।



har saans ke saath,bas ek hi aavaaj dil men gunjtaa hai।

tumhaari khairiyat rahe,main to yahaan jindaa hun।

aaj bhi har  subah,tumhaari khairiyat ke lia duaa kartaa hun।

hamaaraa din bhale kharaab jaaa, par tumhaari jholi men keval khushiyon ki saugaat ke lia phariyaad kartaa hun।

meri jindgi hai bahut hi chhoti si,

yah hamen pataa hai।

par jindgi ke har naye panne ko tere naam se likh diyaa kartaa hun।



Written by sushil kumar

मैं तन्हा सा बैठा हूँ .. main tanha sa baitha hun..

Shayari



मैं तन्हा सा बैठा हूँ

                   भरी महफिल में।।
मन डूबा सा है
                   तेरी यादों के समुंदर में।।
व्याकुल नैना हर चेहरे में
                    तेरी मुरत तलाश रही है।
तू मिल जा मुझे
                    बस यही रब से दुआ कर रही है।।


main tanhaa saa baithaa hun

                   bhri mahaphil men।।

man dubaa saa hai

                   teri yaadon ke samundar men।।

vyaakul nainaa har chehre men

                    teri murat talaash rahi hai।

tu mil jaa mujhe

                    bas yahi rab se duaa kar rahi hai।।

Written by sushil kumar



मन की टीस।। mann ki tis.

Shayari



मन में एक टीस लिए,

                   ना जाने कब से जी रहा हूँ।
दुखों के पहाड़ तले
                    ना जाने कब से दब रहा हूँ।
खुशियों की तलाश में
                   ना जाने कब से भटक रहा हूँ।
सदियां बीत गई हैं
                  पर उम्मीद की लौ को बुझने नहीं दिया हूँ।
कसक तो कल भी थी
                   और आज भी है खुशियों को समेटने की।
दुख बस इस बात की है,
         खुशी बस नाम मात्र की,और दुख बहुत ज्यादा है बटोरने को।


man men ek tis lia,

                   naa jaane kab se ji rahaa hun।

dukhon ke pahaad tale

                    naa jaane kab se dab rahaa hun।

khushiyon ki talaash men

                   naa jaane kab se bhatak rahaa hun।

sadiyaan bit gayi hain

                  par ummid ki lau ko bujhne nahin diyaa hun।

kasak to kal bhi thi

                   aur aaj bhi hai khushiyon ko sametne ki।

dukh bas es baat ki hai,

         khushi bas naam maatr ki,aur dukh bahut jyaadaa hai batorne ko।


Written by sushil kumar

13 Dec 2019

तेरे हर धडकन को. Tere har dhadkan ko


Shayari



तेरे हर धडकन को

                   आज जरा मुझे सुनने दो।
गरम साँसों को
                आज जरा स्पर्श करने दो।
भौरे को आज
                फूलोंं का रस लेने दो।
मैं बहका हूँ आज
               जरा खुद को तुम बहकने दो।
लो आ गया है
                  आज फिर से प्यार का मौसम।
सावन को इजाजत देदो
                      आज फिर से बरसने को।



tere har dhadakan ko

                   aaj jaraa mujhe sunne do।

garam saanson ko

                aaj jaraa sparsh karne do।

bhaure ko aaj

                phulonn kaa ras lene do।

main bahkaa hun aaj

               jraa khud ko tum bahakne do।

lo aa gayaa hai

                  aaj phir se pyaar kaa mausam।

saavan ko ejaajat dedo

                      aaj phir se barasne ko।


Shayari
Written by sushil kumar

आज हर दिल तूझे देख है बहका. aaj har dil tujhe dekh hai bahkaa

Shayari


आज हर दिल तूझे देख है बहका

               मेरा दिल भी कहाँ से आज संभला।।
क्या खूब तूझे बनाया है रब ने
               क्या नाक नक्श तूझे ईश्वर ने है बख्शा।।






aaj har dil tujhe dekh hai bahkaa

               meraa dil bhi kahaan se aaj sambhlaa।।

kyaa khub tujhe banaayaa hai rab ne

               kyaa naak naksh tujhe ishvar ne hai bakhshaa।।

Written by sushil kumar

10 Dec 2019

Badhali

Shayari


ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है।

मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है।
हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है।
खैर रखना उनकी, मेरी जान उनमे समाई है।



aisi badhaali aaj dil pe jo chhaai hai।

man  hai badahvaas aur aankhon men nami aai hai।

har vakt bas ishvar se yahi duhaai hai।

khair rakhnaa unki, meri jaan unme samaai hai।


Written by sushil kumar

Tere na milne se

Shayari


तेरे ना मिलने से,मेरा दिल है इतना बेकरार।

जो तू मिले तो,मैं हो जाऊँ फनाह बार बार।।
तेरे एक झलक पाने को करता रहता हूँ इंतजार।
जो तूझे पालूँ,तो पालूँगा सारा आज संसार।।



tere naa milne se,meraa dil hai etnaa bekraar।

jo tu mile to,main ho jaaun phanaah baar baar।।


Written by sushil kumar
tere ek jhalak paane ko kartaa rahtaa hun entjaar।

jo tujhe paalun,to paalungaa saaraa aaj sansaar।।



Mere pyar ko badnam na kar.

Shayari


मेरे प्यार को बदनाम ना कर।

मेरे विश्वास को ताड़ ताड़ ना कर।
किया है मोहब्बत तुझसे दिलोजान से।
दिल तोड़ इस आशिक की जान ना ले।


mere pyaar ko badnaam naa kar।

mere vishvaas ko taad taad naa kar।

kiyaa hai mohabbat tujhse dilojaan se।

dil tod es aashik ki jaan naa le।

Written by sushil kumar

Hamare soch mein aapki soch mil jae.

Shayari


हमारे सोच में आपकी सोच मिल जाए।।

हमारे विचार में आपका विचार मिल जाए।।
ये जहान और समय कहीं थम ना जाए।।
जो हमदोनों के धड़कन एक हो जाएँ।।






hamaare soch men aapki soch mil jaaa।।

hamaare vichaar men aapkaa vichaar mil jaaa।।

ye jahaan aur samay kahin tham naa jaaa।।

jo hamdonon ke dhdakan ek ho jaaan।।

Written by sushil kumar

Sahi kaam karna gunah ho gaya.

Shayari


सही काम करना गुनाह हो गया।।

गलत काम करने वालो का राज हो गया।।
पैसा बोलता है,पैसा तोलता है।।
जो ना रंगे उसके रंग में,उसे जमीन में गड़ना है।।
सच्चाई के राह पर चलना दुस्वार हो गया।।
बुराई के राह पर चलने वालो की जयजयकार हो गया।।
कलयुगी रावण ने संसार में हाहाकार मचा दिया।।
भगवान राम के प्रकट होने का समय निकट आ गया।।
सही काम करना गुनाह हो गया।।
गलत काम करने वालो का राज हो गया।।




sahi kaam karnaa gunaah ho gayaa।।

galat kaam karne vaalo kaa raaj ho gayaa।।

paisaa boltaa hai,paisaa toltaa hai।।

jo naa range uske rang men,use jamin men gdnaa hai।।

sachchaai ke raah par chalnaa dusvaar ho gayaa।।

buraai ke raah par chalne vaalo ki jayajaykaar ho gayaa।।

kalayugi raavan ne sansaar men haahaakaar machaa diyaa।।

bhagvaan raam ke prakat hone kaa samay nikat aa gayaa।।

sahi kaam karnaa gunaah ho gayaa।।

galat kaam karne vaalo kaa raaj ho gayaa।।



Written by sushil kumar

Koshish karne walon ki kabhi haar nahin hoti hai

Shayari


कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

थक कर बैठ जाने वालों को कभी जीत नहीं होती।।
हवा के साथ तो मीर कासिम जैसे कायर चलते हैं।।
मजा तो तब है जब आप वीर भगत सिंह बन आँधी के विरुद्ध चलते हैं।।



koshish karne vaalon ki kabhi haar nahin hoti।।

thak kar baith jaane vaalon ko kabhi jit nahin hoti।।

havaa ke saath to mir kaasim jaise kaayar chalte hain।।

majaa to tab hai jab aap vir bhagat sinh ban aandhi ke viruddh chalte hain।।


Written by sushil kumar

Main kisi ka gulam nahin

Shayari

मैं किसी का गुलाम नहीं।।

      मैं आजाद पंक्षी हूँ नीले गगन का।।
मस्त उड़ता हूँ बेफिक्र होकर।।   
             आसमान में बस इधर उधर।।
मुझे तुम जिम्मेदारियों से मत बाँधो।।
      मैं तो बहती हवा सा हूँ जो ठंडक देता है हर दिल को।



main kisi kaa gulaam nahin।।

      main aajaad pankshi hun nile gagan kaa।।

mast udtaa hun bephikr hokar।। 

             aasmaan men bas edhar udhar।।

mujhe tum jimmedaariyon se mat baandho।।

      main to bahti havaa saa hun jo thandak detaa hai har dil ko।


Written by sushil kumar


Har din ke naye savere mein ho tum.

Shayari


हर दिन के नये सवेरे में हो तुम।।

उगते हुए सुरज की रोशनी हो तुम।।
किलकारी मारते हुए नवजात के मुस्कान में हो तुम।।
बच्चों के लिए माँ के प्यार में हो तुम।।
सब का भला हो वैसे विचारों में हो तुम।।
हर सकारात्मक जज्बातों में हो तुम।।
हे ईश्वर मेरे हृदय में हो तुम।।
हे ईश्वर मेरे हृदय में हो तुम।।





har din ke naye savere men ho tum।।

ugte hua suraj ki roshni ho tum।।

kilkaari maarte hua navjaat ke muskaan men ho tum।।

bachchon ke lia maan ke pyaar men ho tum।।

sab kaa bhalaa ho vaise vichaaron men ho tum।।

har sakaaraatmak jajbaaton men ho tum।।

he ishvar mere hriaday men ho tum।।

he ishvar mere hriaday men ho tum।।



Written by sushil kumar

Shadi ke din

Shayari


शादी के दिन पत्नी हमारी होट दिखती है।।

बाद में वही हमारे जीवन पर बोझ लगती है।।
दूसरे की बीबी हमेशा हमें खास लगती है।।
क्योंकि वो हमेशा हमारे साथ नहीं रहती है।।
दूसरे के नलायक बच्चे भी हमें समझदार दिखते हैं।।
अपने होनहार बच्चे हमें निखट्टू ही नजर आते हैं।।
साल भर हम पढ़ाई छोड़ खेलते कूदते हैं।।
इम्तिहान के समय क्रीड़ा छोड़ हम बड़े अध्ययनकर्ता बन जाते हैं।।




shaadi ke din patni hamaari hot dikhti hai।।

baad men vahi hamaare jivan par bojh lagti hai।।

dusre ki bibi hameshaa hamen khaas lagti hai।।

kyonki vo hameshaa hamaare saath nahin rahti hai।।

dusre ke nalaayak bachche bhi hamen samajhdaar dikhte hain।।

apne honhaar bachche hamen nikhattu hi najar aate hain।।

saal bhar ham pdhaai chhod khelte kudte hain।।

emtihaan ke samay kridaa chhod ham bde adhyayanakartaa ban jaate hain।।



Written by sushil kumar

Teri sundarta ki kya karun bakhan

Shayari


तेरी सुंदरता की क्या करुँ बखान।।

मानो बनाने वाले ने लगा दी है सारी जान।।
आँखों की सुंदरता को कैसे करूँ शब्दों में बयान।।
बस तुम मुझे देखते रहो,और मैं पीता रहूँ तुम्हारे आँखों से जाम।।
क्या खूब तराशा है ईश्वर ने तुम्हारे नाक नक्श को।।
मानो जर्रे जर्रे से हो रहा हो नूर की बौछार।।





teri sundartaa ki kyaa karun bakhaan।।

maano banaane vaale ne lagaa di hai saari jaan।।

aankhon ki sundartaa ko kaise karun shabdon men bayaan।।

bas tum mujhe dekhte raho,aur main pitaa rahun tumhaare aankhon se jaam।।

kyaa khub taraashaa hai ishvar ne tumhaare naak naksh ko।।

maano jarre jarre se ho rahaa ho nur ki bauchhaar।।

Written by sushil kumar

Jhulsati garmi mein

Shayari


झुलसाती गरमी में

                   जब सारा जन जीवन बदहाल हो जाए।
 पेड़ पौधे सूखने लगे
                   और मनुष्यों का जीवन बेहाल हो जाए।
फिर कहीं दूर आसमान में
                    मस्त मौला बादल नजर आ जाए।
और मन में एक आस की किरण
                     फूट फूट कर बाहर आ जाए।




jhulsaati garmi men

                   jab saaraa jan jivan badhaal ho jaaa।

 ped paudhe sukhne lage

                   aur manushyon kaa jivan behaal ho jaaa।

phir kahin dur aasmaan men

                    mast maulaa baadal najar aa jaaa।

aur man men ek aas ki kiran

                     phut phut kar baahar aa jaaa।


Written by sushil kumar

Khule gagan tale

Shayari


खुले गगन तले

                हम पंक्षी कहीं उड़ चले।।
बादलों के बीचों बीच
               तो कभी तूफानों के तले।।
पँखों में हवा भर
              आसमानी छत छूने चले।।
निर्भिक हो निडर हो
             बिना किसी डर,और बिना कोई हिचक मन में रखे।।
आत्मविश्वास की डोर पकड़
                 हर डग हम सटीक चलते रहें।।
कई बार धरातल पर हम गिरेंं
                  फिर उठ खड़े हुए लड़ने को अपने किस्मत से।।




khule gagan tale

                ham pankshi kahin ud chale।।

baadlon ke bichon bich

               to kabhi tuphaanon ke tale।।

pnkhon men havaa bhar

              aasmaani chhat chhune chale।।

nirbhik ho nidar ho

             binaa kisi dar,aur binaa koi hichak man men rakhe।।

aatmavishvaas ki dor pakd

                 har dag ham satik chalte rahen।।

kayi baar dharaatal par ham girenn

                  phir uth khde hua ldne ko apne kismat se।।


Written by sushil kumar

Man tarange

Shayari


मन तरंगें उठ रहीं है हमेशा।।

दिन हो या हो रात।।
जागें हो या हो सोएं।।
कभी थमती नहीं हैं ये तरंगे।।
बस लगातार बहती रहती है।।
जैसे बहती रहती है नदी में धार।।




man tarangen uth rahin hai hameshaa।।

din ho yaa ho raat।।

jaagen ho yaa ho soan।।

kabhi thamti nahin hain ye tarange।।

bas lagaataar bahti rahti hai।।

jaise bahti rahti hai nadi men dhaar।।

Written by sushil kumar


Dar dar ke ji rahe hain hum yahan.

Shayari


डर डर के जी रहे हैं हम यहाँ।।

कहीं हमसे कोई छीन ना ले प्यारा सा ये मेरा जहाँ।।
मेरे सपने और मेरे प्यारे रिश्ते सजे हैं यहाँ।।
बिन इनके ना रह पाऊँगा मैं किसी और जहाँ।।
हर छोटे छोटे पलों में खुशियों की झड़ी सी लगी है यहाँ।।
गम के पल भी सुगमता से कट जाते हैं,जब ये रिश्ते साथ खड़े रहते हैं वहाँ।।
मेरी वजूद आज इनसे ही है इस जहाँ।।
वरना कौन सार्थक बना पाएगा मेरे जीवन को यहाँ।।





dar dar ke ji rahe hain ham yahaan।।

kahin hamse koi chhin naa le pyaaraa saa ye meraa jahaan।।

mere sapne aur mere pyaare rishte saje hain yahaan।।

bin enke naa rah paaungaa main kisi aur jahaan।।

har chhote chhote palon men khushiyon ki jhdi si lagi hai yahaan।।

gam ke pal bhi sugamtaa se kat jaate hain,jab ye rishte saath khde rahte hain vahaan।।

meri vajud aaj ense hi hai es jahaan।।

varnaa kaun saarthak banaa paaagaa mere jivan ko yahaan।।



Written by sushil kumar

Yahan kaun kiski sunta hai

Shayari


यहाँ कौन किसकी सुनता है

सब अपना फायदा सोचता है।।
किसी को किसी की फिक्र नहीं
जो फिक्र करे वह देवता है।।
हर कोई यहाँ अपने में व्यस्त है
जिम्मेदारी लेने की किसी में क्रेज नहीं है।।
कर्तव्यनिष्ठता का पाठ सभी पढ़ाते हैं
वक्त आने पर  खुद चुक वो जाते हैं।।



yahaan kaun kiski suntaa hai

sab apnaa phaaydaa sochtaa hai।।

kisi ko kisi ki phikr nahin

jo phikr kare vah devtaa hai।।

har koi yahaan apne men vyast hai

jimmedaari lene ki kisi men krej nahin hai।।

kartavyanishthtaa kaa paath sabhi pdhaate hain

vakt aane par  khud chuk vo jaate hain।।

Written by sushil kumar

9 Dec 2019

Meri khamoshi mein ek sandesh hai.

Shayari

मेरी खामोशी में एक संदेश है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मेरी खामोशी देख
तुम्हें तो आज
बड़ा ही सुकून मिला होगा।
तुम्हारे रास्ते से हट
किनारे पर बैठे देख
तुम्हें बड़ी ही
शांति मिली होगी।

मैं अगर आज शांत हूँ
तो तू समझ ले कि
तुझे एक मौका दिया हूँ
बदलने के लिए।
अगर तू समझ गया
तब तो ठीक है।
वरना भूचाल बनकर
आ जाऊँगा तेरी ज़िंदगी में
तबाही करने के लिए।

मैं सुनता नहीं हूँ किसी की
इस दुनिया में।
अगर सुनता हूँ किसी की
वो केवल जमीर है अपना।
मेरे अंतरात्मा ने मुझे संकेत दिया कि
तू अब सही रास्ते पर आ जाएगा।
वरना तू आज खत्म हो चुका होता
सदा सदा के लिए
इस दुनिया से।

meri khaamoshi dekh

tumhen to aaj

bdaa hi sukun milaa hogaa।

tumhaare raaste se hat

kinaare par baithe dekh

tumhen bdi hi

shaanti mili hogi।


main agar aaj shaant hun

to tu samajh le ki

tujhe ek maukaa diyaa hun

badalne ke lia।

agar tu samajh gayaa

tab to thik hai।

varnaa bhuchaal banakar

aa jaaungaa teri jindgi men

tabaahi karne ke lia।


main suntaa nahin hun kisi ki

es duniyaa men।

agar suntaa hun kisi ki

vo keval jamir hai apnaa।

mere antraatmaa ne mujhe sanket diyaa ki

tu ab sahi raaste par aa jaaagaa।

varnaa tu aaj khatm ho chukaa hotaa

sadaa sadaa ke lia

es duniyaa se।

Consciences

Shayari
Written by sushil kumar

8 Dec 2019

main badalne ko taiyaar baithaa hun

Shayari 


मैं बदलने को तैयार बैठा हूँ।

Kavitadilse.Top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मैं बदलने को तैयार बैठा हूँ
पर कोई मुझे स्वीकार करने को
तैयार तो हो।
वही पुरानी गलतियों का ढिंढोरा पीटते
मुझे एहसास करवाने से
फुरसत जो मिले इन्हें
कभी तो।
गलती तो ईश्वर से भी हो जाती है
मेरी क्या औकात
मैं तो सन्तान हूँ
उस भगवन का।
पर जो अगर किसी को ग्लानि हो
उसकी करनी का।
उसे माफ करने की भी तो जिम्मेवारी बनती है ना
हर किसी को।



main badalne ko taiyaar baithaa hun

par koi mujhe svikaar karne ko

taiyaar to ho।

vahi puraani galatiyon kaa dhindhoraa pitte

mujhe ehsaas karvaane se

phurasat jo mile enhen

kabhi to।

galti to ishvar se bhi ho jaati hai

meri kyaa aukaat

main to santaan hun

us bhagavan kaa।

par jo agar kisi ko glaani ho

uski karni kaa।

use maaph karne ki bhi to jimmevaari banti hai naa

har kisi ko।


Written by sushil kumar

7 Dec 2019

Apno ki talash

Shayari।

अपनो की तलाश।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

God


अपनो की तलाश में
ना जाने कबसे
भटक रहा था।
बेगानो की झुंड में
किसी अपने को
तराश रहा था।

मिले थे कुछ फरेबी
जो अपने बन
हमें लूट गएँ।
पहले बन कर
हमारे हमदर्दी।
पीठ में छूरा घोंप
चले गए।

बहुत भटका
गली गली।
संसार का कोना कोना
छान मारा।
नहीं मिला
मेरा वो अपना।
मेरे घाव पर मरहम
लगाने वाला।

समय बदला
दिन बदले
घाव भी मेरा
सूख गया।
मेरे साथ
खड़ा था वो हमेशा।
मेरा मालिक।
रखवाला हमारा।



apno ki talaash men

naa jaane kabse

bhatak rahaa thaa।

begaano ki jhund men

kisi apne ko

taraash rahaa thaa।


mile the kuchh pharebi

jo apne ban

hamen lut gan।

pahle ban kar

hamaare hamadardi।

pith men chhuraa ghomp

chale gaye।


bahut bhatkaa

gali gali।

sansaar kaa konaa konaa

chhaan maaraa।

nahin milaa

meraa vo apnaa।

mere ghaav par maraham

lagaane vaalaa।


samay badlaa

din badle

ghaav bhi meraa

sukh gayaa।

mere saath

khdaa thaa vo hameshaa।

meraa maalik।

rakhvaalaa hamaaraa।


Shayari
Written by sushil kumar






6 Dec 2019

Swarthi shahar

Shayari

स्वार्थी शहर।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Selfish


हम कहाँ हाथ पसारे हुए हैं?
किससे उम्मीद जगाए हुए हैं?
ये दुनिया है बड़ी मतलबी
हम किससे आस लगाए बैठे हैं?

कुछ पाने की आस में
बहुत दे चुके हैं।
दे दे कर हम यहाँ
बहुत थक चुके हैं।
अब क्या क्या लेकर
मानेगे ये।
कुछ नहीं बचा है
पास हमारे।
बचा है अगर कुछ तो
जान बची है।
वो भी लेकर ही क्या
दम लेंगे ये।

फिर हमारी चिता के लपटों से
हाथ बहुत ये सकेंगे।
मानवता के वजूद को भस्म कर
बेशर्म हो
खूब यहाँ नाचेंगे।

इसलिए हाथ पसारो नहीं
किसी के आगे।
यहाँ कोई नहीं है
तुम्हारी फरियाद सुनने वाला।
दुनिया है
बड़ी ज़ालिम ।
तेरा सब कुछ लेकर
तुझे ठेंगा दिखाने को
तैयार रहेंगे सदा।
स्वयं पर विश्वास कर
बढ़ा ले तू अपना कदम।
तेरे हिस्से की होगी अगर
तो कोई माई के लाल
तुझसे छीन नहीं सकता है
तेरी मंज़िल।




ham kahaan haath pasaare hua hain?

kisse ummid jagaaa hua hain?

ye duniyaa hai bdi matalbi

ham kisse aas lagaaa baithe hain?


kuchh paane ki aas men

bahut de chuke hain।

de de kar ham yahaan

bahut thak chuke hain।

ab kyaa kyaa lekar

maanege ye।

kuchh nahin bachaa hai

paas hamaare।

bachaa hai agar kuchh to

jaan bachi hai।

vo bhi lekar hi kyaa

dam lenge ye।


phir hamaari chitaa ke lapton se

haath bahut ye sakenge।

maanavtaa ke vajud ko bhasm kar

besharm ho

khub yahaan naachenge।


esalia haath pasaaro nahin

kisi ke aage।

yahaan koi nahin hai

tumhaari phariyaad sunne vaalaa।

duniyaa hai

bdi jaalim ।

teraa sab kuchh lekar

tujhe thengaa dikhaane ko

taiyaar rahenge sadaa।

svayan par vishvaas kar

bdhaa le tu apnaa kadam।

tere hisse ki hogi agar

to koi maai ke laal

tujhse chhin nahin saktaa hai

teri manjil।


Shayari
Written by sushil kumar

4 Dec 2019

Mere chita par tum khushi khub mana lo

Shayari

मेरी चिता पर तुम खुशी खूब मना लो।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मेरी चिता पर तुम खुशी
खूब मना लो।
अपने ही शाख को अलग कर
तुम खूब जश्न मना लो।
पर मेरे योगदान को
तुम अनदेखा नहीं कर सकोगे।

जब जब संस्था को जरूरत पड़ी
मैने अपना खून-पसीना तक बहाया है।
सारे रिश्ते
सारे काम को ताक पर रखकर
सर्वप्रथम तुझे ही सजाया है।
फिर भी अगर तू समझ ना पाया
मेरा महत्व।
तो अच्छा होगा कि
मैं अलग हो ही जाऊँ तुमसे।




meri chitaa par tum khushi

khub manaa lo।

apne hi shaakh ko alag kar

tum khub jashn manaa lo।

par mere yogdaan ko

tum andekhaa nahin kar sakoge।


jab jab sansthaa ko jarurat pdi

maine apnaa khun-pasinaa tak bahaayaa hai।

saare rishte

saare kaam ko taak par rakhakar

sarvapratham tujhe hi sajaayaa hai।

phir bhi agar tu samajh naa paayaa

meraa mahatv।

to achchhaa hogaa ki

main alag ho hi jaaun tumse।


Written by sushil kumar
Shayari

2 Dec 2019

Ae shakti tu prahar kar

Shayari

ए शक्ति तू प्रहार कर।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



अरे भाई!
ये कैसी मर्दानगी है?
और कैसा पुरूषत्व है?
घर पर तो राम है,
गृहरेखा से बाहर निकलते ही
रावण क्यों बन जाता है?

ये किसका अभिशाप है
या कलयुग का प्रभाव है।
वहशी राक्षस यहाँ भटक रहे हैं
अपनी शिकार के तलाश में।

क्यों उनका दिल नहीं पिघलता है?
किसी के दर्द के चीत्कार से।
क्यों उनके आँखों में सैलाब नहीं उमड़ते हैं?
किसी की दयनीय पुकार से।
क्यों उनके हाथ नही काँपते हैं।
किसी को मौत के घाट उतारकर।

जिस नारी से जन्म लिया
उसी नारी का अपमान किया।
जब चाहा रौंदा ,भोग किया
जब मन भरा तो अग्नि को सौंप दिया।
हर नर में दुशासन है छिपा
चाह रहा द्रोपदी का
करने को चीरहरण।

हरि नहीं आएँगे अब
तेरी रक्षा करने को।
तू शस्त्र उठा
कर प्रहार उन दैत्यों पर
जो उठे हैं तेरी भक्षण को।
स्वयं को तू कम ना समझ
तू ही शक्ति
तू ही चण्डिका है।
रौद्र रूप तू दिखा उन दानवों को
जो कभी तेरे प्रतिष्ठा पर खतरा बने।
Rise up





are bhaai!

ye kaisi mardaangi hai?

aur kaisaa purushatv hai?

ghar par to raam hai,

griahrekhaa se baahar nikalte hi

raavan kyon ban jaataa hai?


ye kiskaa abhishaap hai

yaa kalayug kaa prbhaav hai।

vahshi raakshas yahaan bhatak rahe hain

apni shikaar ke talaash men।


kyon unkaa dil nahin pighaltaa hai?

kisi ke dard ke chitkaar se।

kyon unke aankhon men sailaab nahin umdte hain?

kisi ki dayniy pukaar se।

kyon unke haath nahi kaanpte hain।

kisi ko maut ke ghaat utaarakar।


jis naari se janm liyaa

usi naari kaa apmaan kiyaa।

jab chaahaa raundaa ,bhog kiyaa

jab man bharaa to agni ko saump diyaa।

har nar men dushaasan hai chhipaa

chaah rahaa dropdi kaa

karne ko chiraharan।


hari nahin aaange ab

teri rakshaa karne ko।

tu shastr uthaa

kar prhaar un daityon par

jo uthe hain teri bhakshan ko।

svayan ko tu kam naa samajh

tu hi shakti

tu hi chandikaa hai।

raudr rup tu dikhaa un daanvon ko

jo kabhi tere pratishthaa par khatraa bane।


Shayari
Written by sushil kumar

1 Dec 2019

Waah ri kismat!

Shayari

वाह री किस्मत!

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मैं खुद को बदलते बदलते
दोस्तों को बदल दिया।
कुछ दुश्मन दोस्त हुए
तो कुछ बैरी नए बने।

कुछ रिश्तेदार जो पहले
अपने गलियारे से
गुजरने से हिचकिचाते थे।
आज वो अपने घोसले को भूल
हमारे नीड़ में बसेरा डाल रखे हैं।

क्या री किस्मत!
ये कैसा यू टर्न
तूने मेरे ज़िंदगी में दिखाई है।
कल जब मेरे आँखों से बहते थे सैलाब
किसी को नही आता था मेरा ख्याल।
आज छोटी से छोटी ठोकर भी जो लग जाती है
लोग आ पहुँचते है मेरे घर पर
पूछने को मेरे हालचाल।



main khud ko badalte badalte

doston ko badal diyaa।

kuchh dushman dost hua

to kuchh bairi naye bane।


kuchh rishtedaar jo pahle

apne galiyaare se

gujarne se hichakichaate the।

aaj vo apne ghosle ko bhul

hamaare nid men baseraa daal rakhe hain।


kyaa ri kismat!

ye kaisaa yu tarn

tune mere jindgi men dikhaai hai।

kal jab mere aankhon se bahte the sailaab

kisi ko nahi aataa thaa meraa khyaal।

aaj chhoti se chhoti thokar bhi jo lag jaati hai

log aa pahunchte hai mere ghar par

puchhne ko mere haalchaal।



shaayri

Written by sushil kumar








Meri shahadat vyarth nahi jaegi

Shayari

मेरी शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है


मेरे बहते लहू को देखकर
मेरे हिम्मत ने हुँकार आज भरा है।
नहीं छोड़ूँगा अपने वतन के दुश्मनो को
जिसने मेरी माँ पर बुरी नज़र डाला है।

भले मेरे बदन को तू छलनी कर दे
पर मेरे हिम्मत को तू छलनी ना कर पाएगा।
मेरे रहते मेरी माँ का तू
एक बाल भी ना बांका कर पाएगा।

हर रक्त के कतरे कतरे से मेरे
एक वीर नया खड़ा हो जाएगा।
जो तुम जैसों के
धूल चटाने को
सीमा पर खड़ा हो
हर्षाएगा।

जितनी बार तुम कोशिश कर लो कायरों
उतनी बार तुम मुंह की खाओगे।
अपने भारत माँ की गरिमा के वास्ते
हम सर कटाकर भी शीश ना झुकाएँगे।



mere bahte lahu ko dekhakar

mere himmat ne hunkaar aaj bharaa hai।

nahin chhodungaa apne vatan ke dushmno ko

jisne meri maan par buri njar daalaa hai।


bhale mere badan ko tu chhalni kar de

par mere himmat ko tu chhalni naa kar paaagaa।

mere rahte meri maan kaa tu

ek baal bhi naa baankaa kar paaagaa।


har rakt ke katre katre se mere

ek vir nayaa khdaa ho jaaagaa।

jo tum jaison ke

dhul chataane ko

simaa par khdaa ho

harshaaagaa।


jitni baar tum koshish kar lo kaayron

utni baar tum munh ki khaaoge।

apne bhaarat maan ki garimaa ke vaaste

ham sar kataakar bhi shish naa jhukaaange।





Shayari
Written by sushil kumar





27 Nov 2019

Apna ghar,apna ghar hi hota hai.

Shayari

अपना घर,अपना घर ही होता है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


बहुत दिन हुआ रहते हुए
अपने इस कमरे में ।
क्यों ना अपने इस कमरे से
बाहर निकल कर देखें हम।

लोग जो कहते थकते नहीं हैं
उनके दुनिया के बारे में।
क्यों ना उनकी दुनिया में एक बार
कदम जमा कर देखे हम।

कुछ तो सच्चाई होगी
उनके संसार की।
क्यों ना उनके संसार में
अपना दिल रमा कर देखे हम।

अगर जो मन लग गया
तो कुछ देर वहाँ ठहर जाएँगे।
वरना कुछ भी हो
बाद में अपने घर को ही वापस आएँगे।
Apna ghar







bahut din huaa rahte hua

apne es kamre men ।

kyon naa apne es kamre se

baahar nikal kar dekhen ham।


log jo kahte thakte nahin hain

unke duniyaa ke baare men।

kyon naa unki duniyaa men ek baar

kadam jamaa kar dekhe ham।


kuchh to sachchaai hogi

unke sansaar ki।

kyon naa unke sansaar men

apnaa dil ramaa kar dekhe ham।


agar jo man lag gayaa

to kuchh der vahaan thahar jaaange।

varnaa kuchh bhi ho

baad men apne ghar ko hi vaapas aaange।


Shayari
Written by sushil kumar






26 Nov 2019

Mere humrahi tumsa koi nahin

Shayari

मेरे हमराही तुमसा कोई नहीं।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मेरे हमराही तुमसा
कोई नहीं।
तुम्हें समझ पाना
कभी मुमकिन ना हो पाया।
जब कभी लगा कि
मैं तुम्हें पहचान सा गया हूँ
तब तब खुद को मैं
धोखे में हूँ पाया।

ईश्वर ने बड़ी फुरसत से
हमारी जोड़ी को है बनाया।
तुम्हारे बिन नामुमकिन सा था
जीवन पथ पर सही कदम
आगे को बढ़ाना।
ठोकरें तो बहुत लगी
पर हमेशा तुमने
गिरने से है बचाया।
झगड़े भी बहुत हुए हमदोनो में
पर उतना ही करीब
तुमसे मैने
खुद को है पाया।

कभी नाराज भी जो रहती थी तुम
और मैं किसी मुसीबत में
खुद को घिरा हुआ पाया ।
तुम खींची चली आती थी
मेरे बचाव में।
मेरे और तकलीफ के बीच
सदा मैने तुमको ही पाया।

तुम कैसे इतना कर पाती हो?
मुझे इसका राज़ नहीं पता चल पाया ।
शायद कोई बहुत बड़ी शक्ति है तुम्हारे पीछे
जो तुम्हें दे जाती है इसका आभास हर बार ।

सच्चे इश्क़ और मोहब्बत की कहानियां
बहुत पढ़ी थी मैने।
पर महसूस तभी कर पाया
जब तुम्हें अपने साथ पाया।

सही में
कठिन से कठिन राह
आसान हो जाता है जिंदगी में।
जब कोई हमराही तुमसा
नसीब में मिल जाता है
जीवन बिताने के लिए।





mere hamraahi tumsaa

koi nahin।

tumhen samajh paanaa

kabhi mumakin naa ho paayaa।

jab kabhi lagaa ki

main tumhen pahchaan saa gayaa hun

tab tab khud ko main

dhokhe men hun paayaa।


ishvar ne bdi phurasat se

hamaari jodi ko hai banaayaa।

tumhaare bin naamumakin saa thaa

jivan path par sahi kadam

aage ko bdhaanaa।

thokren to bahut lagi

par hameshaa tumne

girne se hai bachaayaa।

jhagde bhi bahut hua hamdono men

par utnaa hi karib

tumse maine

khud ko hai paayaa।


kabhi naaraaj bhi jo rahti thi tum

aur main kisi musibat men

khud ko ghiraa huaa paayaa ।

tum khinchi chali aati thi

mere bachaav men।

mere aur takliph ke bich

sadaa maine tumko hi paayaa।


tum kaise etnaa kar paati ho?

mujhe eskaa raaj nhin pataa chal paayaa ।

shaayad koi bahut bdi shakti hai tumhaare pichhe

jo tumhen de jaati hai eskaa aabhaas har baar ।


sachche eshk aur mohabbat ki kahaaniyaan

bahut pdhi thi maine।

par mahsus tabhi kar paayaa

jab tumhen apne saath paayaa।


sahi men

kathin se kathin raah

aasaan ho jaataa hai jindgi men।

jab koi hamraahi tumsaa

nasib men mil jaataa hai

jivan bitaane ke lia।



Written by sushil kumar
Shayari


23 Nov 2019

Apne mukaddar ko badal do

Shayari

अपने मुकद्दर को बदल दो।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Shayari

मुझे नहीं पता
मेरे मुकद्दर में क्या है लिखा?
संघर्ष कर रहा हूँ पल पल
क्योंकि मैं हूँ अपने कर्मसाख पर टिका।

नतीजे की फिक्र तो
निकम्मो को रहती है।
कर्मवीर तो तूफान में भी
बड़ी सुगमता से निकाल लेते हैं
अपने लिए रास्ता।

आँखों में होने लगी थी
थोड़ी थोड़ी जलन।
थकान से रुके जा रहे थे
मेंरे बढ़ते हुए कदम।
पर हौसले कहाँ तैयार थे
सिकुड़ने को अपने पंख।
मैं पहुँचता जो चला जा रहा था
अपने मंजिल के इतने निकट।

अपने लक्ष्य को पाने की धुन में
ना जाने कितनी बार ठोकर लगी
और कितने बार मैं हूँ गिरा।
पर हर बार मैं उठ खड़ा हुआ
और अपने मंजिल को पाने की ललक में।
लहू लुहान तो हो चुका था
पर दर्द का मुझे
नहीं हो रहा था एहसास।
शायद ये मंज़िल पाने की लगन ही थी
जब सारे वेदनाएँ भी मुझे बस
यही प्रेरणा दे रहे थे आज।
बस चल लो दो और कदम
मंजिल तेरी खड़ी है स्वागत में
पुष्पमाला लिए अपने हाथ में।






mujhe nahin pataa

mere mukaddar men kyaa hai likhaa?

sangharsh kar rahaa hun pal pal

kyonki main hun apne karmsaakh par tikaa।


natije ki phikr to

nikammo ko rahti hai।

karmvir to tuphaan men bhi

bdi sugamtaa se nikaal lete hain

apne lia raastaa।


aankhon men hone lagi thi

thodi thodi jalan।

thakaan se ruke jaa rahe the

menre bdhte hua kadam।

par hausle kahaan taiyaar the

sikudne ko apne pankh।

main pahunchtaa jo chalaa jaa rahaa thaa

apne manjil ke etne nikat।


apne lakshy ko paane ki dhun men

naa jaane kitni baar thokar lagi

aur kitne baar main hun giraa।

par har baar main uth khdaa huaa

aur apne manjil ko paane ki lalak men।

lahu luhaan to ho chukaa thaa

par dard kaa mujhe

nahin ho rahaa thaa ehsaas।

shaayad ye manjil paane ki lagan hi thi

jab saare vednaaan bhi mujhe bas

yahi prernaa de rahe the aaj।

bas chal lo do aur kadam

manjil teri khdi hai svaagat men

pushpmaalaa lia apne haath men।




Written by sushil kumar
Shayari








21 Nov 2019

Jara sambhal ke rahna mujhse

Shayari

जरा संभल के रहना मुझसे।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मुझे चुप देखकर
मेरे सहनशीलता को लोग
बुजदिली से नाप रहे हैं।

उनके मन में
मुझ पर हावी होने के
नए नए विचार कुलबुला रहे हैं।

वो चाह रहे हैं मुझपर
अपना हक जताने को।
अनचाहे काम भी
वो चाह रहे हैं हमसे करवाने को।

उनकी धृष्ठता देख देख
मैं मन ही मन
मुस्कुरा रहा हूँ।

क्यों चिंगारी ले
मेरे मन में दबे बारूद को
फिर से वो सुलगा रहे हैं।

जाने अनजाने कहीं भस्म ना हो जाए
मुझसे यूँही
वो खेलते खेलते।






mujhe chup dekhakar

mere sahanshiltaa ko log

bujadili se naap rahe hain।


unke man men

mujh par haavi hone ke

naye naye vichaar kulabulaa rahe hain।


vo chaah rahe hain mujhapar

apnaa hak jataane ko।

anchaahe kaam bhi

vo chaah rahe hain hamse karvaane ko।


unki dhriashthtaa dekh dekh

main man hi man

muskuraa rahaa hun।


kyon chingaari le

mere man men dabe baarud ko

phir se vo sulgaa rahe hain।


jaane anjaane kahin bhasm naa ho jaaa

mujhse yunhi

vo khelte khelte।


Written by sushil kumar

Shayari

20 Nov 2019

Jeet kinare par baithkar nahi milti hai

Shayari

जीत किनारे पर बैठकर नहीं मिलती है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Win
Win

हताश क्यों हो रहे हो?
सफर अभी बाकी है।
हार से परेशान क्यों हो रहे हो?
मंजिल अभी बाकी है।

माना आज तुमने
कोशिश तो भरपूर की थी।
पर ठोकर कुछ अभी बाकी है।
चोटें भी अभी कुछ ही मिली हैं
आगे पुराने जख्म तक
हरे हो जाएँगे।
पर अपना बहता लहू देख
आज जो तुम डर जाओगे।
इतिहास क्या खाक बनाओगे?
जो तुम आज खुद से ना लड़ पाओगे।

सो उठाओ कदम!
बुलन्द कर अपने हौसले को।
करो चढ़ाई अपने अंदर के डर पे
और करलो फतह अपने किले को।
Win
Win☺







hataash kyon ho rahe ho?

saphar abhi baaki hai।

haar se pareshaan kyon ho rahe ho?

manjil abhi baaki hai।


maanaa aaj tumne

koshish to bharpur ki thi।

par thokar kuchh abhi baaki hai।

choten bhi abhi kuchh hi mili hain

aage puraane jakhm tak

hare ho jaaange।

par apnaa bahtaa lahu dekh

aaj jo tum dar jaaoge।

etihaas kyaa khaak banaaoge?

jo tum aaj khud se naa ld paaoge।


so uthaao kadam!

buland kar apne hausle ko।

karo chdhaai apne andar ke dar pe

aur karlo phatah apne kile ko।


Written by sushil kumar
Shayari

19 Nov 2019

Kaun apna,kaun paraya

Shayari

कौन अपना कौन पराया

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

कल तक जिस पर मुझे
खुद से भी ज्यादा भरोसा था।
जो अपना सबसे बड़ा
शुभचिंतक हुआ करता था।
आज वो मीर जाफर
विरोधी गुट में जाकर मिल गया है।
और आत्मघाती हमले की
योजना बना रहा है।

कौन अपना
कौन पराया
ये समझ पाना मुश्किल हो रहा है।
हर कोई यहाँ अपनेपन की
मुखौटा पहने घूम रहै हैं।
जिसे अपना समझकर
हम अपने गले लगा रहे थे
वो भी सिंहनख अपने हाथों में
कब से छुपा रखे थे।





kal tak jis par mujhe

khud se bhi jyaadaa bharosaa thaa।

jo apnaa sabse bdaa

shubhachintak huaa kartaa thaa।

aaj vo mir jaaphar

virodhi gut men jaakar mil gayaa hai।

aur aatmghaati hamle ki

yojnaa banaa rahaa hai।


kaun apnaa

kaun paraayaa

ye samajh paanaa mushkil ho rahaa hai।

har koi yahaan apnepan ki

mukhautaa pahne ghum rahai hain।

jise apnaa samajhakar

ham apne gale lagaa rahe the

vo bhi sinhanakh apne haathon men

kab se chhupaa rakhe the।


Written by sushil kumar
Shayari






18 Nov 2019

Maa:-ek ishwariya aashirwad

Shayari

माँ:-एक ईश्वरीय आशीर्वाद।

kavitadilse.top द्वारा हर माँ को समर्पित है।

Maa
Maa





दुनिया के भागम भाग में
भले मैं कहीं से कहीं पहुँच जाऊँ।

आसमा के आँचल में
कहीं सितारा बन
सभी तारों के संग टिमटिमाऊँ।
Maa
Maa💗

या फिर किसी शायरों के महफ़िल में
तेरी बन्दगी में
दो नगमे सुना जाऊँ।

हार से निराश ना होकर
अपनी सफलता के लिए जी जान लगा डालूँ।
और अपनी जीत का सारा श्रेय
तेरे दिए हुए अनमोल संस्कार को दे जाऊँ।

शायद ही ऐसा कोई दिन
कोई पल होगा माँ
जब तुम मेरे साथ नहीं थी।

तुम्हारे दिए हुए संस्कार ही तो
आज बोल रहे हैं।

और रब से भी कुछ ज्यादा नहीं
बस तेरा साथ और आशीर्वाद ही तो
हर लम्हा माँगा है।

Maa
Maa😊






duniyaa ke bhaagam bhaag men

bhale main kahin se kahin pahunch jaaun।


aasmaa ke aanchal men

kahin sitaaraa ban

sabhi taaron ke sang timatimaaun।



Maa💗


yaa phir kisi shaayron ke mahfil men

teri bandgi men

do nagme sunaa jaaun।


haar se niraash naa hokar

apni saphaltaa ke lia ji jaan lagaa daalun।

aur apni jit kaa saaraa shrey

tere dia hua anmol sanskaar ko de jaaun।


shaayad hi aisaa koi din

koi pal hogaa maan

jab tum mere saath nahin thi।


tumhaare dia hua sanskaar hi to

aaj bol rahe hain।


aur rab se bhi kuchh jyaadaa nahin

bas teraa saath aur aashirvaad hi to

har lamhaa maangaa hai।



Written by sushil kumar
Shayari





17 Nov 2019

Badle hum,ek sakaratmak badlav ke lie

shayari

बदलें हम,एक सकारात्मक बदलाव के लिए।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


ये जीवन ऊपर वाले की देन है
इसे व्यर्थ में तू बर्बाद ना कर।

जो थोड़ा समय बचा हुआ है
तेरे खाते में।
उसे काम में ला
किसी ज़रूरतमंद के लिए।

बहुत कर ली मनमानी तूने।
खूब लुत्फ उठा लिए
जवानी के लहर को।
अब सम्भल जरा
थाम अपने कदम को।
देख तेरे साथ वाले छोड़ गए
कब के तेरे घर को।

अब उठ
खड़ा हो।
कदम बढ़ा ले आगे।
सवेरा नया तैयार है
तेरे स्वागत में।

एक नई सोच
एक नई क्रांति
लिए मन में।
चलें हम रोशन करने
दुनिया को खुशयों से।

परम सुख का एहसास करना है जो
लोगों की खुशयों के
आधार बने हम तुम।
संतृप्ति कहाँ मिलती थी
इस दुनिया में???
आज से पहले
कहाँ पता था हमें??






ye jivan upar vaale ki den hai

ese vyarth men tu barbaad naa kar।


jo thodaa samay bachaa huaa hai

tere khaate men।

use kaam men laa

kisi jruratamand ke lia।


bahut kar li manmaani tune।

khub lutph uthaa lia

javaani ke lahar ko।

ab sambhal jaraa

thaam apne kadam ko।

dekh tere saath vaale chhod gaye

kab ke tere ghar ko।


ab uth

khdaa ho।

kadam bdhaa le aage।

saveraa nayaa taiyaar hai

tere svaagat men।


ek nayi soch

ek nayi kraanti

lia man men।

chalen ham roshan karne

duniyaa ko khushyon se।


param sukh kaa ehsaas karnaa hai jo

logon ki khushyon ke

aadhaar bane ham tum।

santriapti kahaan milti thi

es duniyaa men???

aaj se pahle

kahaan pataa thaa hamen??




written by sushil kumar

shayari



15 Nov 2019

Aaraam se chal abhi bahut dur jana hai.

Shayari

आराम से चल अभी बहुत दूर जाना है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

आराम से चल
अभी बहुत दूर जाना है।
जीवन के रथ को
अभी बहुत दूर चलाना है।

पर मन कहाँ दिमाग की
सुनने वाला है।
लक्ष्य अभी दिखी नहीं है
कदम को तेजी से बढ़ाना है।

ज्यादा जल्दी ना मचा
थक जाएगा बहुत जल्दी तू।
सफर को बना सुहाना
ना स्वाहा कर
उसे जीतने की होड़ में।

हार जीत के दायरे से
खुद को तू ऊपर उठा।
हौसले को चट्टान सा
ऊँचा और अडिग रख।

गिर भले तू हज़ार बार
पर कदम को तू मजबूती से रख।
मंजिल मिले ना मिले
पर हर पग को
संगीतमय कर।






aaraam se chal

abhi bahut dur jaanaa hai।

jivan ke rath ko

abhi bahut dur chalaanaa hai।


par man kahaan dimaag ki

sunne vaalaa hai।

lakshy abhi dikhi nahin hai

kadam ko teji se bdhaanaa hai।


jyaadaa jaldi naa machaa

thak jaaagaa bahut jaldi tu।

saphar ko banaa suhaanaa

naa svaahaa kar

use jitne ki hod men।


haar jit ke daayre se

khud ko tu upar uthaa।

hausle ko chattaan saa

unchaa aur adig rakh।


gir bhale tu hjaar baar

par kadam ko tu majbuti se rakh।

manjil mile naa mile

par har pag ko

sangitamay kar।




Written by sushil kabira
Shayari





13 Nov 2019

Tere haq ka hai,to chhin lo.

Shayari

तेरे हक का है तो छीन लो।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

अपने हक के लिए
तुम्हें आवाज खुद उठाना होगा।
आएगा नहीं आगे कोई
तुम्हें न्याय दिलाने लिए।

वाचाल तो बहुत मिलेंगे
तुम्हे राह से भटकाने के लिए।
पर हक तो तुम्हारा है
पग आगे बढ़ा
उसे पाने के लिए।

तू जो ठान ले आज
तो क्या मजाल
कि हक तेरा
कोई छीन ले।

भीख मिलती है आज
खैरात में।
तेरे हक का है तो
छीन लो।
Snatch






apne hak ke lia

tumhen aavaaj khud uthaanaa hogaa।

aaagaa nahin aage koi

tumhen nyaay dilaane lia।


vaachaal to bahut milenge

tumhe raah se bhatkaane ke lia।

par hak to tumhaaraa hai

pag aage bdhaa

use paane ke lia।


tu jo thaan le aaj

to kyaa majaal

ki hak teraa

koi chhin le।


bhikh milti hai aaj

khairaat men।

tere hak kaa hai to

chhin lo।



Written by sushil kumar
Shayari

12 Nov 2019

Yaadon ki baraat.

Shayari

यादों की बारात।


kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


क्या करें ??
उन यादों के पन्नों को जो
हमने पलटा है ।
दिल फिर से भावभिवोर हो
उनकी स्मृति में भावुक हो चला है।

कुछ तो बात होती है
उन भूले बिसरे यादों में।
जिनके एहसास मात्र से ही
नैनों से अश्रु बह निकल पड़ते हैं।
क्योंकि कुछ लोग
और उनकी यादें
दिल से बहुत ही करीब होते हैं।
बहुत ही करीब।




kyaa karen ??

un yaadon ke pannon ko jo

hamne paltaa hai ।

dil phir se bhaavabhivor ho

unki smriati men bhaavuk ho chalaa hai।


kuchh to baat hoti hai

un bhule bisre yaadon men।

jinke ehsaas maatr se hi

nainon se ashru bah nikal pdte hain।

kyonki kuchh log

aur unki yaaden

dil se bahut hi karib hote hain।

bahut hi karib।



Written by sushil kumar
Shayari

Jitni baar mai tere karib aaya

Shayari

जितनी बार मैं तेरे करीब आया

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


जितनी बार मैं तेरे करीब आया
उतनी बार दिल में
बड़ा सुकून पाया है।

सारे गम,सारे तनाव
पुराने सारे दर्द को भूल
दिल में
एक इत्मिनान सा आया है।

मेरी इर्दगिर्द की फैली सारी दुनिया
एक पल में मानो
तेरे इश्क में सिमट
तुझमे समाया है।




jitni baar main tere karib aayaa

utni baar dil men

bdaa sukun paayaa hai।


saare gam,saare tanaav

puraane saare dard ko bhul

dil men

ek etminaan saa aayaa hai।


meri erdagird ki phaili saari duniyaa

ek pal men maano

tere eshk men simat

tujhme samaayaa hai।




Written by sushil kumar
Shayari

10 Nov 2019

Ishq ka safar itna asaan nahin hota hai

Shayari

इश्क का सफर इतना आसान नही होता है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


इश्क़ तो बहुत किया मैने
पर सफल कभी ना हो पाया
अपने जीवन में।

जिसे भी पसन्द किया
वो पीछे हटी।
क्योंकि कोई और था
पहले से
उनके जीवन में।


पर मैने कभी भी हिम्मत नहीं हारी थी
अपने हृदय से।
मना करने वालो की सूची बनाना शुरू की
अपने डायरी में।

उनचास तो हो चले थे
मना करने वालों की सूची में।
पर भरोसा नहीं छोड़ा था
आज भी अपने जिगर में।


कोई तो होगा
जिसे मैं पसन्द आऊँगा।
मेरे लिए भी किसी का
दिल ज़रूर धड़केगा।

पर कौन है?
कहाँ है?
और वो कब मुझे मिलेगी?
ईश्वर ने
कहाँ छुपा रखा है??
मेरी होने वाली जोड़ी को।

उसी सोच की दरिया में
डूबता हुआ जा रहा था।
मैसेज का ट्यून ने बजकर
मुझे दरिया से बाहर निकाला था।
व्हाट्सएप्प किसी ने किया था
अपना दिल💓 मुझे उपहार में भेजा था।
कोई फिरकी ले रहा है
मेरा दिमाग ने
सख्ती से चेताया था।

मैने रिप्लाई किए बगैर उसका
अपना कॉल ईश्वर से फिर जोड़ा था।
देख ना भगवान
अब तो कुछ दया कर
लोगो ने अब मजा लेना भी
शुरू कर दिया था।

तभी मोबाइल की फिर से घण्टी बजी
देखा कोई अननोन नंबर था।
उठाया जैसे ही
उसके हेलो की आवाज़ से
दिल मेरा जोर से धड़का था।
इतनी मधुर स्वर सुनकर
मेरे दिल में जबरदस्त तरंगे जागी थी।
क्या यही है?
मेरे मौला।
जिसे तूने
मेरे लिए
इस दुनिया में चुना था।

आगे जो बोला उसने
मेरा दिल चकनाचूर हो चला था।
अपने पोस्टपेड बिल का भुगतान करें जल्द
वरना अगले दो दिनों में
आपका नम्बर बंद कर दिया जाएगा।

क्या भगवन!
तुम भी फिरकी ले रहे हो मेरी।
अब तो किस्मत खोल
बहुत हो गई देरी।
मरूँगा कुँवारे ही क्या?
बनाना भूल गए हो क्या
मेरी जोड़ी।

तभी फिर से मैसेज ट्यून बजी
देखा फिर वही अननोन नम्बर से
आया है व्हाट्स एप्प मैसेज।
पूरा पढ़ा तो पाया मैने
ये पहली वाली प्रेमिका का था नम्बर।
उसने लिखा था कि
मै पसन्द हूँ उसे।
उसके जीवन मे
कभी नहीं था कोई।

मैं धन्य हुआ
ईश्वर की माया देख।
मेरा प्रेम
सफल जो हुआ था।




eshk to bahut kiyaa maine

par saphal kabhi naa ho paayaa

apne jivan men।


jise bhi pasand kiyaa

vo pichhe hati।

kyonki koi aur thaa

pahle se

unke jivan men।



par maine kabhi bhi himmat nahin haari thi

apne hriaday se।

manaa karne vaalo ki suchi banaanaa shuru ki

apne daayri men।


unchaas to ho chale the

manaa karne vaalon ki suchi men।

par bharosaa nahin chhodaa thaa

aaj bhi apne jigar men।



koi to hogaa

jise main pasand aaungaa।

mere lia bhi kisi kaa

dil jrur dhdkegaa।


par kaun hai?

kahaan hai?

aur vo kab mujhe milegi?

ishvar ne

kahaan chhupaa rakhaa hai??

meri hone vaali jodi ko।


usi soch ki dariyaa men

dubtaa huaa jaa rahaa thaa।

maisej kaa tyun ne bajakar

mujhe dariyaa se baahar nikaalaa thaa।

vhaatsapp kisi ne kiyaa thaa

apnaa dil💓 mujhe uphaar men bhejaa thaa।

koi phirki le rahaa hai

meraa dimaag ne

sakhti se chetaayaa thaa।


maine riplaai kia bagair uskaa

apnaa kal ishvar se phir jodaa thaa।

dekh naa bhagvaan

ab to kuchh dayaa kar

logo ne ab majaa lenaa bhi

shuru kar diyaa thaa।


tabhi mobaael ki phir se ghanti baji

dekhaa koi annon nambar thaa।

uthaayaa jaise hi

uske helo ki aavaaj se

dil meraa jor se dhdkaa thaa।

etni madhur svar sunakar

mere dil men jabaradast tarange jaagi thi।

kyaa yahi hai?

mere maulaa।

jise tune

mere lia

es duniyaa men chunaa thaa।


aage jo bolaa usne

meraa dil chaknaachur ho chalaa thaa।

apne postped bil kaa bhugtaan karen jald

varnaa agle do dinon men

aapkaa nambar band kar diyaa jaaagaa।


kyaa bhagavan!

tum bhi phirki le rahe ho meri।

ab to kismat khol

bahut ho gayi deri।

marungaa kunvaare hi kyaa?

banaanaa bhul gaye ho kyaa

meri jodi।


tabhi phir se maisej tyun baji

dekhaa phir vahi annon nambar se

aayaa hai vhaats epp maisej।

puraa pdhaa to paayaa maine

ye pahli vaali premikaa kaa thaa nambar।

usne likhaa thaa ki

mai pasand hun use।

uske jivan me

kabhi nahin thaa koi।


main dhany huaa

ishvar ki maayaa dekh।

meraa prem

saphal jo huaa thaa।


Written by sushil kumar
Shayari






Mere ishq ko sara jahan dekh raha hai

Shayari

मेरे इश्क को सारा जहान देख रहा है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों के लिए समर्पित है।

मेरे इश्क को सारा ज़माना देख रहा है।
सुबह से शाम 
मेरा पैमाना देख रहा है।

मैं वो नहीं
जो हर स्त्री में अपना स्वार्थ देख रहा है।
मैं वो हूँ
जो अपनी प्रेमिका को छोड़
सभी में 
अपनी माँ देख रहा है।

कहते हैं लोग
कि वो धोखा कहाँ दे रहे हैं
अपने महबूब को।
वो तो 
ज़रूरतों को तृप्ति में लगे हैं
किसी अन्य के संग।

पर अगर
यही लब्ज कहीं सुन जो लिया
अपनी जीवनसंगिनी से।
संस्कार का ज्ञान भूल
अपशब्दों की बारिश कर बैठते हैं
अपने सहधर्मिणी पर।

ये कैसा दोगला चरित्र 
धारण कर रखा है
हर पुरुष ने।
अपनी सुविधाओं के अनुसार
रंग बदलता जा रहा है
वो गिरगिट सम।

समय आ गया है
कि हर नर
बदलाव लेकर आए 
अपने प्रवृत्ति में।
वरना कहीं
हो ना जाए भस्म
अपने इस दोगलेपन में।







mere eshk ko saaraa jmaanaa dekh rahaa hai।

subah se shaam

meraa paimaanaa dekh rahaa hai।


main vo nahin

jo har stri men apnaa svaarth dekh rahaa hai।

main vo hun

jo apni premikaa ko chhod

sabhi men

apni maan dekh rahaa hai।


kahte hain log

ki vo dhokhaa kahaan de rahe hain

apne mahbub ko।

vo to

jrurton ko triapti men lage hain

kisi any ke sang।


par agar

yahi labj kahin sun jo liyaa

apni jivanasangini se।

sanskaar kaa jyaan bhul

apashabdon ki baarish kar baithte hain

apne sahadharmini par।


ye kaisaa doglaa charitr

dhaaran kar rakhaa hai

har purush ne।

apni suvidhaaon ke anusaar

rang badaltaa jaa rahaa hai

vo giragit sam।


samay aa gayaa hai

ki har nar

badlaav lekar aaa

apne pravriatti men।

varnaa kahin

ho naa jaaa bhasm

apne es doglepan men।



Written by sushil kumar

Shayari

9 Nov 2019

Maa baap ka sath anmol hai.

Shayari

माँ बाप ईश्वर के द्वारा दिया गया सबसे बड़ा तोहफा है।उनका सम्मान होना ही चाहिए।आज हम जो भी हैं,उनके संस्कार के कारण ही हैं।जो माँ बाप का सम्मान करता है,उसके साथ ईश्वर भी खड़ा रहता है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Parents are valuable


मैं बदला
तुम बदले
बदला सब जग यहाँ पर।

नहीं बदला कोई
अगर यहाँ पर
वो माता पिता कहलाएँ।

कल जो बच्चा
बच्चा था
माँ बाप के नज़र में।
उम्र गुज़र जाने के
बाद भी
नहीं बदला है वो नज़रिया।

आज भी माँ
ठीक वैसे ही
मुझे डांट डपट करती है।
जब खाना छोड़ मैं
भागने के फिराक में रहता हूँ आफिस को
देर हो जाने की वजह से।
फर्क यही है कि
उस वक़्त स्कूल
मैं जाया करता था।
पर आज आफिस की भागम भाग में भी
माँ का आशीर्वाद सदा साथ में रहता है।

वो जब बचपन में
सर भारी भारी
हो जाया करता था
स्कूल में।
घर पहुँचने के बाद
माँ के तेल के चम्पी से
सर से भार
छू मंतर हो जाया करता था
एक क्षण में।
आज भी आफिस से जब
थक हार कर
घर को वापस जब आता हूँ।
माँ के हाथों के जादू का प्रभाव
आज भी ठीक वैसे ही है
पाता हूँ।

पापा के तो बात ही निराले हैं
वो अनुशासन और स्वास्थ्य के दीवाने हैं।
आज भी सुबह सुबह
जॉगिंग करने को
मुझे सूर्योदय से पहले
फ़ोन कर उठाते हैं।
और जो कभी नहीं उठ पाया समय पर
मुझे ज्ञान की पाठ पढ़ाते हैं।
वो कल बचपन में
कुछ ज्यादा ही कड़क थे।
आज कुछ नरमी बरतते हैं।
आफिस से लेट आने पर वो
स्वयं दौड़ लगा घर आ जाते हैं।

बचपन में जब पापा आफिस से
घर लौट आते थे।
समोसे और रसगुल्ले की पैकेट
थैली में भर लाते थे।
आज भी जब वो शाम में
सब्जी लेकर घर आते हैं।
समोसे और रसगुल्ले की थैली
सदा साथ में लाते हैं।
Parents are valuable

हर माँ बाप का सम्मान हो
ईश्वर से पहले उनका गुणगान हो।
माँ और पिता
एक अनमोल उपहार हैं
ईश्वर के।
जिनके छत्रछाया के बिना
नहीं बन सकते हैं
हम विश्व विजेता।








main badlaa

tum badle

badlaa sab jag yahaan par।


nahin badlaa koi

agar yahaan par

vo maataa pitaa kahlaaan।


kal jo bachchaa

bachchaa thaa

maan baap ke njar men।

umr gujr jaane ke

baad bhi

nahin badlaa hai vo njariyaa।


aaj bhi maan

thik vaise hi

mujhe daant dapat karti hai।

jab khaanaa chhod main

bhaagne ke phiraak men rahtaa hun aaphis ko

der ho jaane ki vajah se।

phark yahi hai ki

us vkt skul

main jaayaa kartaa thaa।

par aaj aaphis ki bhaagam bhaag men bhi

maan kaa aashirvaad sadaa saath men rahtaa hai।


vo jab bachapan men

sar bhaari bhaari

ho jaayaa kartaa thaa

skul men।

ghar pahunchne ke baad

maan ke tel ke champi se

sar se bhaar

chhu mantar ho jaayaa kartaa thaa

ek kshan men।

aaj bhi aaphis se jab

thak haar kar

ghar ko vaapas jab aataa hun।

maan ke haathon ke jaadu kaa prbhaav

aaj bhi thik vaise hi hai

paataa hun।


paapaa ke to baat hi niraale hain

vo anushaasan aur svaasthy ke divaane hain।

aaj bhi subah subah

jaging karne ko

mujhe suryoday se pahle

fon kar uthaate hain।

aur jo kabhi nahin uth paayaa samay par

mujhe jyaan ki paath pdhaate hain।

vo kal bachapan men

kuchh jyaadaa hi kdak the।

aaj kuchh narmi baratte hain।

aaphis se let aane par vo

svayan daud lagaa ghar aa jaate hain।


bachapan men jab paapaa aaphis se

ghar laut aate the।

samose aur rasagulle ki paiket

thaili men bhar laate the।

aaj bhi jab vo shaam men

sabji lekar ghar aate hain।

samose aur rasagulle ki thaili

sadaa saath men laate hain।




har maan baap kaa sammaan ho

ishvar se pahle unkaa gungaan ho।

maan aur pitaa

ek anmol uphaar hain

ishvar ke।

jinke chhatrchhaayaa ke binaa

nahin ban sakte hain

ham vishv vijetaa।



Written by sushil kumar
Shayari

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...