12 Dec 2018

Main tuta tara ⭐naa jane।।

Shayari

मैं टूटा तारा ⭐ ना जाने

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मैं टूटा तारा ⭐ ना जाने
ब्रह्मांड में कब से भटक🚶 रहा।
ना कोई मंजिल थी🤔
ना किसी की तलाश थी।
फिर भी ब्रह्मांड में चक्कर लगा रहा।


एक आस बस दिल में लिए हुए
कोई पड़ाव तो मिलेगा
मुझे
आज नहीं तो कल।
मैं निराश नहीं
ना ही हताश हूँ मैं।।😒
अपनी तकदीर को लेकर
कभी उदास नहींं हुआ
मैं।।


आज भी थमा नहीं
बेड़ियों से खुद को बाँधा नहीं।
निरंतर चलता आ रहा हूँ
निरंतर चलता चला जाऊँगा।।
जब तक कोई मंजिल मुझे
अपना ना ले मुझे स्वयं में।









main tutaa taaraa ⭐ naa jaane

brahmaand men kab se bhatak🚶 rahaa।

naa koi manjil thi🤔

naa kisi ki talaash thi।

phir bhi brahmaand men chakkar lagaa rahaa।





ek aas bas dil men lia hua

koi pdaav to milegaa

mujhe

aaj nahin to kal।

main niraash nahin

naa hi hataash hun main।।😒

apni takdir ko lekar

kabhi udaas nahinn huaa

main।।





aaj bhi thamaa nahin

bediyon se khud ko baandhaa nahin।

nirantar chaltaa aa rahaa hun

nirantar chaltaa chalaa jaaungaa।।

jab tak koi manjil mujhe

apnaa naa le mujhe svayan men।



मैं टूटा तारा ⭐ ना जाने।।
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...