7 Dec 2018

Pyar se bada koi ehsaas nahin hota hai.

Shayari

प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।प्यार को अगर आपने अपने जीवन  में पा लिया,तो सब कुछ पा लिया।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।

वो उनका दिखना
और मेरे आँखों का छिप छिप कर
उनका दर्शन करना।
और उनका मेरे नैनों की चोरी पकड़ना।
और फिर मिठी सी हल्की सी मुस्कान के साथ
मेरे नादानियों का जवाब देना।
क्या बताऊँ?
मेरा दिल तो उनका मुस्कान देख
घायल हो गया।

मेरी हिम्मत क्या बढ़ी
उनकी शैतानियां भी परवान चढ़ने लगी।
उन्होंने सभी से छिपकर
मुझे आँख क्या मारी।
मेरा हृदय तो बस
छलनी छलनी हो गया।
और मैं उनके पास में
जाकर बैठ गया।

उसकी आवाज
क्या बताऊँ।
ऐसा लगा बस मैं सुनता रहूँ।
और वो बोलती रहें।
उनका नाम संजना था।
और उनका स्टोपेज भी आ गया।
और मेरे दिल ने तपाक से पूछा
कल कहाँ मिलेंगे हम?
उन्होने कहा नगर पुस्तकालय में
सुबह दस बजे।

बस तो तब से
कुछ भी मेरा ना रहा
जो कुछ भी था
सारा उनके साथ चला गया।
अब तो जो वे नजरों से ओझल क्या हुए
मुझे लगा मेरा रूह भी
मेरे शरीर को छोड़
उनके पास जाने को तड़प उठा।
ये कैसा रिश्ता है?
और ये कब का सम्बंध है हमारा?
जो उनके सामने आते ही 
जागृत हो उठी है।

सारे रिश्तों में आज मानो
मिठास सा आ गया है।
बारिश जो मुझे कभी परेशान किया करती थी।
आज तो वो मानो मुझपे प्यार की बरसात कर रहीं हैं।
ओर मुझे ऐसा आभास हो रहा है कि
उनके प्यार के हर एक बूँद के
अहसास को संजोकर रख लूँ
हमेशा हमेशा के लिए।

कितना मधुर एहसास था।
मानो हर पल संगीत मय हो
और मैं भी पूरे जोश में 
प्यार भरे गीत गुनगुना रहा हूँ।

ये कैसा परिवर्तन था कि
पापा के आने से पहले
मैं खा पीकर सोने चला जाता था।
आज उनके आने के पश्चात
मैं उनके साथ खाना खाया
और सोने जाने से पहले 
उनके और माँ के पैर छू 
और गले लग 
धन्यवाद दे सोने चला गया।
मानो आज मैनै 
अपने इस जीवन में आने का उद्देश्य पा लिया हो।
और जल्द ही अपनी मंजिल को भी पाने वाला हूँ।

प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।
प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।


kavitadilse, kavita dilse, love poems, inspirational and motivational poems











vo unkaa dikhnaa

aur mere aankhon kaa chhip chhip kar

unkaa darshan karnaa।

aur unkaa mere nainon ki chori pakdnaa।

aur phir mithi si halki si muskaan ke saath

mere naadaaniyon kaa javaab denaa।

kyaa bataaun?

meraa dil to unkaa muskaan dekh

ghaayal ho gayaa।



meri himmat kyaa bdhi

unki shaitaaniyaan bhi parvaan chdhne lagi।

unhonne sabhi se chhipakar

mujhe aankh kyaa maari।

meraa hriaday to bas

chhalni chhalni ho gayaa।

aur main unke paas men

jaakar baith gayaa।



uski aavaaj

kyaa bataaun।

aisaa lagaa bas main suntaa rahun।

aur vo bolti rahen।

unkaa naam sanjnaa thaa।

aur unkaa stopej bhi aa gayaa।

aur mere dil ne tapaak se puchhaa

kal kahaan milenge ham?

unhone kahaa nagar pustkaalay men

subah das baje।



bas to tab se

kuchh bhi meraa naa rahaa

jo kuchh bhi thaa

saaraa unke saath chalaa gayaa।

ab to jo ve najron se ojhal kyaa hua

mujhe lagaa meraa ruh bhi

mere sharir ko chhod

unke paas jaane ko tdap uthaa।

ye kaisaa rishtaa hai?

aur ye kab kaa sambandh hai hamaaraa?

jo unke saamne aate hi 

jaagriat ho uthi hai।



saare rishton men aaj maano

mithaas saa aa gayaa hai।

baarish jo mujhe kabhi pareshaan kiyaa karti thi।

aaj to vo maano mujhpe pyaar ki barsaat kar rahin hain।

or mujhe aisaa aabhaas ho rahaa hai ki

unke pyaar ke har ek bund ke

ahsaas ko sanjokar rakh lun

hameshaa hameshaa ke lia।



kitnaa madhur ehsaas thaa।

maano har pal sangit may ho

aur main bhi pure josh men 

pyaar bhare git gunagunaa rahaa hun।



ye kaisaa parivartan thaa ki

paapaa ke aane se pahle

main khaa pikar sone chalaa jaataa thaa।

aaj unke aane ke pashchaat

main unke saath khaanaa khaayaa

aur sone jaane se pahle 

unke aur maan ke pair chhu 

aur gale lag 

dhanyvaad de sone chalaa gayaa।

maano aaj mainai 

apne es jivan men aane kaa uddeshy paa liyaa ho।

aur jald hi apni manjil ko bhi paane vaalaa hun।



pyaar se bdaa koi ahsaas nahin hotaa hai।।

pyaar se bdaa koi ahsaas nahin hotaa hai।।




प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...