3 Dec 2018

Prem kitne tarah ke hote hain???

प्रेम कितने तरह के होते हैं ??

।।प्रेम के प्रकार।।

1.निः स्वार्थ प्रेम

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। 

ऐसा प्रेम आजकल बहुत कम दिखने को मिलता है।
ज्यादातर लोग यहाँ खुद से ही प्रेम करते हैं।
ऐसी दुनिया में एक ही रिश्ता निः स्वार्थ प्रेम का जीता जागता उदाहरण बचा है।
वो है माँ का एक बच्चे के लिए।


2.स्वार्थ से भरा प्रेम


ऐसा प्रेम आज समाज का कोई भी वर्ग इससे अछूता नहीं रहा है।
हर कोई स्वार्थी है।
हर रिश्ते में स्वार्थ झलकता है।
हमें हमेशा सजग होकर रहना चाहिए।

पर जहाँ तक हो हमें हमेशा निः स्वार्थ प्रेम ही करना चाहिए।
और दुनिया से स्वार्थ की भावना को मिटाने के लिए नश्वरता के ज्ञान को फैलाना बहुत जरूरी है।
ये शरीर आपका नहीं है।
पता नहीं अगले पल में आपके किस्मत में आपके लिए क्या लिखा है।
जब मौत पर हमारा वश नहीं, फिर ये सारे आडंबरों को लेकर हम कहाँ जाएँगे।खाली हाथ आए थे,खाली हाथ ही जाएँगे।


इस विषय पर हमने एक कविता भी लिखा है।जरा गौर फरमाइएगा:-

1.
नि:स्वार्थ प्रेम से बड़ा 
कुछ भी नहीं है इस दुनिया में।
सभी रिश्तों में 
माँ का प्रेम ही है।
जो अछूता रहा है 
स्वार्थ के भावना से।

2.मरने के बाद भी धड़कते रहो।











।।prem ke prkaar।।

1.niah svaarth prem

Kavitadilse.top dvaaraa aap sabhi paathkon ko samarpit hai।


aisaa prem aajakal bahut kam dikhne ko miltaa hai।

jyaadaatar log yahaan khud se hi prem karte hain।

aisi duniyaa men ek hi rishtaa niah svaarth prem kaa jitaa jaagtaa udaaharan bachaa hai।

vo hai maan kaa ek bachche ke lia।



2.svaarth se bharaa prem


aisaa prem aaj samaaj kaa koi bhi varg esse achhutaa nahin rahaa hai।

har koi svaarthi hai।

har rishte men svaarth jhalaktaa hai।

hamen hameshaa sajag hokar rahnaa chaahia।


par jahaan tak ho hamen hameshaa niah svaarth prem hi karnaa chaahia।

aur duniyaa se svaarth ki bhaavnaa ko mitaane ke lia nashvartaa ke jyaan ko phailaanaa bahut jaruri hai।

ye sharir aapkaa nahin hai।

pataa nahin agle pal men aapke kismat men aapke lia kyaa likhaa hai।

jab maut par hamaaraa vash nahin, phir ye saare aadambron ko lekar ham kahaan jaaange।khaali haath aaa the,khaali haath hi jaaange।



es vishay par hamne ek kavitaa bhi likhaa hai।jaraa gaur pharmaaeagaa:-


1.

ni:svaarth prem se bdaa

kuchh bhi nahin hai es duniyaa men।

sabhi rishton men

maan kaa prem hi hai।

jo achhutaa rahaa hai

svaarth ke bhaavnaa se।


2.marne ke baad bhi dhdakte raho।


प्रेम कितने तरह के होते हैं ??
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

No comments:

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...