20 Dec 2018

Afwaon ke bazar mein.

Shayari

अफवाओं के बाजार में

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita

अफवाओं के बाजार में
गलतफहमी कभी भी ना पालें।
यहाँ तो आँखो देखा हाल भी
कभी कभी गलत साबित हो जाया करता है।।
Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita

लोगों को तो 
तिल का ताड़ करने में
बड़ा आनंद आता है।
पर सच्चाई के जड़ तक
पहुंचे बगैर
अगर आप कुछ भी कार्यवाही कर बैठे।
फिर आत्मग्लानि के पहाड़
के दबाव तले
आप जिंदगी पर दबे रह जाते हैं।
Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita

हमेशा खुद पर
और केवल खुद पर ही 
विश्वास किया करो।
क्योंकि लोग अपने हैं
और अफवाहें पराये।।
Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita













aphvaaon ke baajaar men

galataphahmi kabhi bhi naa paalen।

yahaan to aankho dekhaa haal bhi

kabhi kabhi galat saabit ho jaayaa kartaa hai।।




logon ko to

til kaa taad karne men

bdaa aanand aataa hai।

par sachchaai ke jd tak

pahunche bagair

agar aap kuchh bhi kaaryvaahi kar baithe।

phir aatmaglaani ke pahaad

ke dabaav tale

aap jindgi par dabe rah jaate hain।




hameshaa khud par

aur keval khud par hi

vishvaas kiyaa karo।

kyonki log apne hain

aur aphvaahen paraaye।।



अफवाओं के बाजार में 
written by Sushil Kumar @ kavitadilse.top

Shayari

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...