19 Oct 2018

Pahla aur aakhiri vo rishta"pavitra prem"ka

Shayari

पहला और आखिरी वो रिश्ता "पवित्र प्रेम"  का।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


हमारे ऊपर पहला पहला
प्रेम की बरसात करने वाली थी वो।
हमारा विश्वास और भरोसे का आधार बनने वाली थी वो।
हर पग पर हमारा सहारा बन खड़े रहने वाली थी वो।
हमारे साथ पहला पहला मधुर खेल
खेलने वाली थी वो।
हमारी सभी जरूरतों को पूरा ख्याल रखने वाली थी वो।
हमारे हर जख्मों पर मरहम लगाने
वाली थी वो।
हमारे हर मुश्किलों का हल ढूंढने वाली थी वो।
हमारे चेहरे की खुशी देख हँसने वाली थी वो।
हमारे मायूसी के बादल को छाँटने वाली थी वो।
वो एकतरफा निस्वार्थ प्रेम का कर्ज आज भी नहीं उतार पाया हूँ हमारे ऊपर से।
और शायद सौ जन्म भी मिल जाए
तो भी उस कर्ज को हल्का कर पाने
में असमर्थ ही महसूस करुँगा।
वो रिश्ता पूरे ब्रह्मांड का सबसे पवित्र रिश्ता है।
जीवन की शुरूआत से
जीवन के अस्त तक
उनके दिए संस्कार ही तो काम आते हैं।
वो और कोई नहीं
वो हमारी प्यारी माँ हैं।
जिन्हें हम प्यार से माँ,मैया,मातु,मोम और पता नहीं किस किस नाम से पुकारते हैं।
और वो बहुत ही सहजता से
हमारे दिए गए नामों को
स्वीकार भी कर लेती हैं।
क्योंकि वो माँ है ना
माँ।
हमारी पहली गुरू
पहला भगवान
हमारी माँ को
सत सत नमन।








hamaare upar pahlaa pahlaa

prem ki barsaat karne vaali thi vo।

hamaaraa vishvaas aur bharose kaa aadhaar banne vaali thi vo।

har pag par hamaaraa sahaaraa ban khde rahne vaali thi vo।

hamaare saath pahlaa pahlaa madhur khel

khelne vaali thi vo।

hamaari sabhi jarurton ko puraa khyaal rakhne vaali thi vo।

hamaare har jakhmon par maraham lagaane

vaali thi vo।

hamaare har mushkilon kaa hal dhundhne vaali thi vo।

hamaare chehre ki khushi dekh hnasne vaali thi vo।

hamaare maayusi ke baadal ko chhaantne vaali thi vo।

vo ekatarphaa nisvaarth prem kaa karj aaj bhi nahin utaar paayaa hun hamaare upar se।

aur shaayad sau janm bhi mil jaaa

to bhi us karj ko halkaa kar paane

men asamarth hi mahsus karungaa।

vo rishtaa pure brahmaand kaa sabse pavitr rishtaa hai।

jivan ki shuruaat se

jivan ke ast tak

unke dia sanskaar hi to kaam aate hain।

vo aur koi nahin

vo hamaari pyaari maan hain।

jinhen ham pyaar se maan,maiyaa,maatu,mom aur pataa nahin kis kis naam se pukaarte hain।

aur vo bahut hi sahajtaa se

hamaare dia gaye naamon ko

svikaar bhi kar leti hain।

kyonki vo maan hai naa

maan।

hamaari pahli guru

pahlaa bhagvaan

hamaari maan ko

sat sat naman।



Written by sushil kumar
Shayari

No comments:

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...