3 Oct 2018

Meri pyari maa

Shayari

Meri pyari maa




आज फिर से दिल मेरा
ऊफान मार रहा है यहाँ।
क्यों एक माँ को
नहीं मिलती है निवृत्ति इस जहाँ।।
सुबह से शाम हो जाता है
परिवार को संभालते हुए उसे।।
क्यों नहीं उनका भी रविवार होता है
और वो क्यों नहीं लेती है आराम।।


पूरे घर की साफ सफाई
और चूल्हा चौका में
खुद को व्यस्त रखती है
मेरी प्यारी माँ।।
एक पैर पर सारा दिन
खड़े होकर भी
नहीं ऊफ करती है
मेरी प्यारी माँ।।
कभी किसी बात की शिकायत भी
कहाँ करती है?
मेरी प्यारी माँ।।
शाम होने पर
किताब खोल
हमें पढ़ाती है
मेरी प्यारी माँ।।
सारे परिवार को
प्यार और ममता की धागे में
एक जुट कर रखती है
मेरी प्यारी माँ।।
एक परिवार को सम्पूर्ण और खशहाल बनाती है
हर घर की
वो प्यारी माँ।।









aaj phir se dil meraa

uphaan maar rahaa hai yahaan।

kyon ek maan ko

nahin milti hai nivriatti es jahaan।।

subah se shaam ho jaataa hai

parivaar ko sambhaalte hua use।।

kyon nahin unkaa bhi ravivaar hotaa hai

aur vo kyon nahin leti hai aaraam।।



pure ghar ki saaph saphaai

aur chulhaa chaukaa men

khud ko vyast rakhti hai

meri pyaari maan।।

ek pair par saaraa din

khde hokar bhi

nahin uph karti hai

meri pyaari maan।।

kabhi kisi baat ki shikaayat bhi

kahaan karti hai?

meri pyaari maan।।

shaam hone par

kitaab khol

hamen pdhaati hai

meri pyaari maan।।

saare parivaar ko

pyaar aur mamtaa ki dhaage men

ek jut kar rakhti hai

meri pyaari maan।।

ek parivaar ko sampurn aur khashhaal banaati hai

har ghar ki

vo pyaari maan।।


Written by sushil kumar


No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...