2 Oct 2018

Aap jab chain ki nind soi rahti hain

Shayari

Aap jab chain ki nind soi rahti hain


आप जब चैन की नींद सोई रहती हैं।
आपके चेहरे पे सुकून का भाव देख
कितना आनंद आता है।।
मानो जैसे मस्त चाँदनी रात में
कोई नदी
अपने धारा के वेग को नियंत्रित कर
विराम की अवस्था में
धीरे धीरे
गहरी नींद पाने को
बही जा रही हो।।

जब आप नींद में मुस्काती हो।
आपके चेहरे का नूर देख
हमें ऐसा प्रतीत होता है
जैसे कोई बंद कली अंगड़ाई लेकर
फूल बनकर
खिलने को बेकरार हो रही है।

जब आप नींद में करवटे बदलती हो।
हमें ऐसा आभास होता है
जैसे कि
कोई फूल अपनी टहनियों पर
मस्त हवा के झोंके में
गोते खा
झूमी जा रही हो।










aap jab chain ki nind soi rahti hain।

aapke chehre pe sukun kaa bhaav dekh

kitnaa aanand aataa hai।।

maano jaise mast chaandni raat men

koi nadi

apne dhaaraa ke veg ko niyantrit kar

viraam ki avasthaa men

dhire dhire

gahri nind paane ko

bahi jaa rahi ho।।


jab aap nind men muskaati ho।

aapke chehre kaa nur dekh

hamen aisaa prtit hotaa hai

jaise koi band kali angdaai lekar

phul banakar

khilne ko bekraar ho rahi hai।


jab aap nind men karavte badalti ho।

hamen aisaa aabhaas hotaa hai

jaise ki

koi phul apni tahaniyon par

mast havaa ke jhonke men

gote khaa

jhumi jaa rahi ho


Written by sushil kumar



No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...