18 Oct 2018

Kya hua hai mujhe

Shayari

Kya hua hai mujhe




आज सुबह से ही
मैं बहुत ही ज्यादा कश्मकश में जी रहा हूँ।
पता नहीं मैं
कब कैसे
इस शहर में आ पहुँचा हूँ।
जब होश आया तो पाया
खुद को मैं
एक अनजान रोड पर।
मोबाइल फोन भी पोकेट में नहीं है।
और मैं याद कर कर परेशान हो रहा हूँँ।
आखिर क्या हुआ था कल?
कि मैं यहाँ आ पहुँचा हूँ। 

हर मोड़ पर खड़े 
किसी अनजाने से 
अपनो का पता पूछ रहा हूँ।
पर वे पता नहीं
हमारी अनदेखी कर
अपने ही कामों में व्यस्त दिखाई दे रहे हैं।
लाख पूछने पर भी
वे हाँ नहीं में 
कुछ भी जवाब नहीं दे रहें हैं।
मानो कि मैं मुर्दों के शहर में
आ फँसा हूँ।
अनजाने लोगों के बिच में
मैं किसी अपने की खोज कर रहा हूँ।
जो मेरे सवालों का सही सही जवाब दे सके।
या फिर मैं किसी सपने में जी रहा हूँ।

अब तो बस एक ही जुनून 
दिल में सुलग रही है।
मैं कैसे अपनो के पास पहुँचूँँ
जो मेरी राह देख देख परेशान हो रहें होंगे।

तभी मुझे दिखा रेल्वे स्टेशन।
दिल्ली!दिल्ली कब पहुँचा।
मैं अंदर पहुँचा तो पाया कि
पटना के लिए ट्रेन लगी हुइ है।
मेरे पास टिकट नहीं है
पैसे भी नहीं है।
मैं ट्रेन में घूस गया।
और चुप चाप एक सीट पर जा बैठा।
तभी एक यात्री पता नहीं
सीधे मेरे पैर पर आकर बैठने लगे।।
अरे अरे अरे भाई
मैं उठ खड़ा हुआ।
क्या पागल इंसान है?
मेरे ऊपर ही बैठेगा क्या?
मैने एक अलग सीट पकड़ कर बैठ गया।

टीटी भाईसाहब को आते देख
मैं डर गया और सोने का नाटक करने लगा।
और हनुमान चलीसा पढ़ने लगा।
उसने सबसे टिकट माँगी
पर मुझपे उसका ध्यान गया ही नहीं।
मैने हनुमानजी को कोटी कोटी धन्यवाद दिया।

पटना पहुँचा
और घर पर सभी को सरप्राइज देने के लिए
मैं निकल पड़ा।
मन में भावनाओं के तरंगों का 
ऊफान उठ रहा था।
घर के बाहर जब पहुँचा
तो आंदर से रोने की आवाज आ रही थी।
अंदर पहुँचा तो पाया कि
मेरे जैसे शक्ल का एक व्यक्ति मृतसैया फर लेटा हुआ है।
और मेरे परिवार जन उसे घैर कर रोए जा रहे हैं।
मैं जिंदा हूँ 
माँ बाबूजी गीता
मैं यहाँ हूँ।
मैं गला फाड़ फाड़ कर चिल्ला रहा था।
पर कोई सुने नहीं।
और एक झटके में मुझे
सारा कुछ याद आने लगा।
अगला स्टेशन दिल्ली आने ही वाला था।
मेरा आज इंटरव्यू था।
तभी बहुत जोर का झटका लगा मुझे।
ओर मैं जख्मी हो नीचे गिर गया था।
होस्पिटल ले जाते वक्त ही 
रोड पर मेरे प्राण पखेड़ू उड़ गए थे।
और मैं खुद को 
होश में उसी रोड पर पाया था।

शरीर नश्वर है,आत्मा अमर है।

नैनं छिद्रन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक: ।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत ॥

इस श्लोक का अर्थ है: आत्मा को न शस्त्र  काट सकते हैं, न आग उसे जला सकती है। न पानी उसे भिगो सकता है, न हवा उसे सुखा सकती है। (यहां भगवान श्रीकृष्ण ने आत्मा के अजर-अमर और शाश्वत होने की बात की है।)







aaj subah se hi

main bahut hi jyaadaa kashmakash men ji rahaa hun।

pataa nahin main

kab kaise

es shahar men aa pahunchaa hun।

jab hosh aayaa to paayaa

khud ko main

ek anjaan rod par।

mobaael phon bhi poket men nahin hai।

aur main yaad kar kar pareshaan ho rahaa hunn।

aakhir kyaa huaa thaa kal?

ki main yahaan aa pahunchaa hun।


har mod par khde

kisi anjaane se

apno kaa pataa puchh rahaa hun।

par ve pataa nahin

hamaari andekhi kar

apne hi kaamon men vyast dikhaai de rahe hain।

laakh puchhne par bhi

ve haan nahin men

kuchh bhi javaab nahin de rahen hain।

maano ki main murdon ke shahar men

aa phnsaa hun।

anjaane logon ke bich men

main kisi apne ki khoj kar rahaa hun।

jo mere savaalon kaa sahi sahi javaab de sake।

yaa phir main kisi sapne men ji rahaa hun।


ab to bas ek hi junun

dil men sulag rahi hai।

main kaise apno ke paas pahunchunn

jo meri raah dekh dekh pareshaan ho rahen honge।


tabhi mujhe dikhaa relve steshan।

dilli!dilli kab pahunchaa।

main andar pahunchaa to paayaa ki

patnaa ke lia tren lagi hue hai।

mere paas tikat nahin hai

paise bhi nahin hai।

main tren men ghus gayaa।

aur chup chaap ek sit par jaa baithaa।

tabhi ek yaatri pataa nahin

sidhe mere pair par aakar baithne lage।।

are are are bhaai

main uth khdaa huaa।

kyaa paagal ensaan hai?

mere upar hi baithegaa kyaa?

maine ek alag sit pakd kar baith gayaa।


titi bhaaisaahab ko aate dekh

main dar gayaa aur sone kaa naatak karne lagaa।

aur hanumaan chalisaa pdhne lagaa।

usne sabse tikat maangi

par mujhpe uskaa dhyaan gayaa hi nahin।

maine hanumaanji ko koti koti dhanyvaad diyaa।


patnaa pahunchaa

aur ghar par sabhi ko sarapraaej dene ke lia

main nikal pdaa।

man men bhaavnaaon ke tarangon kaa

uphaan uth rahaa thaa।

ghar ke baahar jab pahunchaa

to aandar se rone ki aavaaj aa rahi thi।

andar pahunchaa to paayaa ki

mere jaise shakl kaa ek vyakti mriatsaiyaa phar letaa huaa hai।

aur mere parivaar jan use ghair kar roa jaa rahe hain।

main jindaa hun

maan baabuji gitaa

main yahaan hun।

main galaa phaad phaad kar chillaa rahaa thaa।

par koi sune nahin।

aur ek jhatke men mujhe

saaraa kuchh yaad aane lagaa।

aglaa steshan dilli aane hi vaalaa thaa।

meraa aaj entaravyu thaa।

tabhi bahut jor kaa jhatkaa lagaa mujhe।

or main jakhmi ho niche gir gayaa thaa।

hospital le jaate vakt hi

rod par mere praan pakhedu ud gaye the।

aur main khud ko

hosh men usi rod par paayaa thaa।


sharir nashvar hai,aatmaa amar hai।


nainan chhidranti shastraani nainan dahati paavak: ।

n chainan kledayantyaapo n shoshayati maarut ॥


es shlok kaa arth hai: aatmaa ko n shastr  kaat sakte hain, n aag use jalaa sakti hai। n paani use bhigo saktaa hai, n havaa use sukhaa sakti hai। (yahaan bhagvaan shrikriashn ne aatmaa ke ajar-amar aur shaashvat hone ki baat ki hai।)


Written by sushil kumar




No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...