10 Dec 2019

Khule gagan tale

Shayari


खुले गगन तले

                हम पंक्षी कहीं उड़ चले।।
बादलों के बीचों बीच
               तो कभी तूफानों के तले।।
पँखों में हवा भर
              आसमानी छत छूने चले।।
निर्भिक हो निडर हो
             बिना किसी डर,और बिना कोई हिचक मन में रखे।।
आत्मविश्वास की डोर पकड़
                 हर डग हम सटीक चलते रहें।।
कई बार धरातल पर हम गिरेंं
                  फिर उठ खड़े हुए लड़ने को अपने किस्मत से।।




khule gagan tale

                ham pankshi kahin ud chale।।

baadlon ke bichon bich

               to kabhi tuphaanon ke tale।।

pnkhon men havaa bhar

              aasmaani chhat chhune chale।।

nirbhik ho nidar ho

             binaa kisi dar,aur binaa koi hichak man men rakhe।।

aatmavishvaas ki dor pakd

                 har dag ham satik chalte rahen।।

kayi baar dharaatal par ham girenn

                  phir uth khde hua ldne ko apne kismat se।।


Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...