5 Aug 2018

Koshish jari rakhna chahie.

Shayari



कोशिश करने वालों को ही हार कभी कभी मिलती है।

जीत की प्रयास करनेवाले को ही मुस्कान नसीब होती है।
आम के पेड़ के छाव में सोए रहने वालों को आम का स्वाद पता नहीं चलता।
बल्कि लगातार पत्थरों से निशाना लगाने वाले को ही आमरस का मिठास पता चलता है।



koshish karne vaalon ko hi haar kabhi kabhi milti hai।

jit ki pryaas karnevaale ko hi muskaan nasib hoti hai।

aam ke ped ke chhaav men soa rahne vaalon ko aam kaa svaad pataa nahin chaltaa।

balki lagaataar patthron se nishaanaa lagaane vaale ko hi aamaras kaa mithaas pataa chaltaa hai।



Written by sushil kumar

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...