5 Aug 2018

Dost dosti aur dostana

Shayari

दोस्त,दोस्ती और दोस्ताना।।


बिना झिझक,बिना संकोच के
तुम हमेशा चले आते हो मेरे पास।
जैसे गोरैया चली आती है रोज
हमारे आँगन में
चुगने दाना को।
और पूरा घर
उसके चीउँ चीउँ के मधुर आवाज से
गूँज उठता है।।
मानो की वो कोई गीत गुनगुना रही हो।
और सुना रही हो
हमारी दोस्ती का तराना।।
ठीक वैसे ही तुम भी
चले आते हो हमारे पास।
बिना घंटी बजाए
दरवाजा खोल
घर के अंदर
लेकर अपना समय।।
फिर हम और तुम मिल
बना लेते हैं।
एक दूसरे के समय को मिला
मस्ती भरी बातों का गुलदस्ता।।
बातों का सिलसिला चल पड़ता है।।
कभी तुम मुझे खींच
भूत में ले जाकर गुदगुदाते हो।
कभी मैं तुम्हें अपने साथ भविष्य में
सैर करवा कर हँसवाता हुँ।।
इन बातों के सिलसिले में
पता ही नहीं चला।
समय कब आ गया
हम दोनों के बिछुड़ने का।।
हम दोनों अलग हुए
एक दूसरे से।
कुछ मीठी यादों के साथ
फिर से कल मिलने के लिए।।




binaa jhijhak,binaa sankoch ke

tum hameshaa chale aate ho mere paas।

jaise goraiyaa chali aati hai roj

hamaare aangan men

chugne daanaa ko।

aur puraa ghar

uske chiun chiun ke madhur aavaaj se

gunj uthtaa hai।।

maano ki vo koi git gunagunaa rahi ho।

aur sunaa rahi ho

hamaari dosti kaa taraanaa।।

thik vaise hi tum bhi

chale aate ho hamaare paas।

binaa ghanti bajaaa

darvaajaa khol

ghar ke andar

lekar apnaa samay।।

phir ham aur tum mil

banaa lete hain।

ek dusre ke samay ko milaa

masti bhari baaton kaa guladastaa।।

baaton kaa silasilaa chal pdtaa hai।।

kabhi tum mujhe khinch

bhut men le jaakar gudagudaate ho।

kabhi main tumhen apne saath bhavishy men

sair karvaa kar hnasvaataa hun।।

en baaton ke silasile men

pataa hi nahin chalaa।

samay kab aa gayaa

ham donon ke bichhudne kaa।।

ham donon alag hua

ek dusre se।

kuchh mithi yaadon ke saath

phir se kal milne ke lia।।


Written by sushil kumar

No comments:

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...