Email subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हे ईश्वर!

हे ईश्वर!
आप मुझे सामर्थ्य बना दो।।
अपना नहीं।
दूसरों के सपनों को पूर्ण कर सकूँ
इतना योग्य बना दो।।

बेरोजगारों को रोजगार दिलाकर
उनका पेट पाल सकूँ।।

किसानों को उनके फसलों का
सही मूल्य दिला सकूँ।।

दुनिया के अराजक तत्वों को
सही राह दिखा सकूँ।।

हर मानव के दिल में
प्यार इश्क और मोहब्बत के
जज़्बात जगा सकूँ।।

हर कोई निःस्वार्थ होकर
हर दूसरे की मदद करे
ऐसा संसार बना सकूँ।।

जरूरतमंदों का पेट भर के
जो अपना पेट भरे
ऐसे भाव जगा सकूँ।

प्रतिस्पर्धा का भावना को छोड़कर।
सबका साथ
सबका विकास
के भावना को अपनाने
सभी मानव में दृढ़ निश्चय करवा सकूँ।।

हर मानव के मन के
सकारात्मक सोच के रोशनी से
सारे ब्रह्मांड को जगमगा सकूँ।।

हे ईश्वर!
आप मुझे सामर्थ्य बना दो।।
अपना नहीं।
दूसरों के सपनों को पूर्ण कर सकूँ
इतना योग्य बना दो।।







No comments:

फकीरी टशन।

फकीरी टशन। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। हे मौला! मेरी ख्वाहिश कुछ ज्यादा नहीं है बस एक आखिरी मुराद मेरी पूर...