13 Aug 2018

Aey ishwar

Shayari


हे ईश्वर!

आप मुझे सामर्थ्य बना दो।।
अपना नहीं।
दूसरों के सपनों को पूर्ण कर सकूँ
इतना योग्य बना दो।।

बेरोजगारों को रोजगार दिलाकर
उनका पेट पाल सकूँ।।

किसानों को उनके फसलों का
सही मूल्य दिला सकूँ।।

दुनिया के अराजक तत्वों को
सही राह दिखा सकूँ।।

हर मानव के दिल में
प्यार इश्क और मोहब्बत के
जज़्बात जगा सकूँ।।

हर कोई निःस्वार्थ होकर
हर दूसरे की मदद करे
ऐसा संसार बना सकूँ।।

जरूरतमंदों का पेट भर के
जो अपना पेट भरे
ऐसे भाव जगा सकूँ।

प्रतिस्पर्धा का भावना को छोड़कर।
सबका साथ
सबका विकास
के भावना को अपनाने
सभी मानव में दृढ़ निश्चय करवा सकूँ।।

हर मानव के मन के
सकारात्मक सोच के रोशनी से
सारे ब्रह्मांड को जगमगा सकूँ।।

हे ईश्वर!
आप मुझे सामर्थ्य बना दो।।
अपना नहीं।
दूसरों के सपनों को पूर्ण कर सकूँ
इतना योग्य बना दो।।




he ishvar!

aap mujhe saamarthy banaa do।।

apnaa nahin।

dusron ke sapnon ko purn kar sakun

etnaa yogy banaa do।।


berojgaaron ko rojgaar dilaakar

unkaa pet paal sakun।।


kisaanon ko unke phaslon kaa

sahi muly dilaa sakun।।


duniyaa ke araajak tatvon ko

sahi raah dikhaa sakun।।


har maanav ke dil men

pyaar eshk aur mohabbat ke

jjbaat jagaa sakun।।


har koi niahsvaarth hokar

har dusre ki madad kare

aisaa sansaar banaa sakun।।


jaruratamandon kaa pet bhar ke

jo apnaa pet bhare

aise bhaav jagaa sakun।


pratispardhaa kaa bhaavnaa ko chhodkar।

sabkaa saath

sabkaa vikaas

ke bhaavnaa ko apnaane

sabhi maanav men dridh nishchay karvaa sakun।।


har maanav ke man ke

sakaaraatmak soch ke roshni se

saare brahmaand ko jagamgaa sakun।।


he ishvar!

aap mujhe saamarthy banaa do।।

apnaa nahin।

dusron ke sapnon ko purn kar sakun

etnaa yogy banaa do।।


Written by sushil kumar






No comments:

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...