16 Aug 2018

Soch

Shayari

Soch


कितना जिएँगे हम?
किसने जाना है?
कैसे जी रहें हैं हम?
सभी देख रहे हैं।।
भूत में ना भविष्य में।
अगर जीना ही है तो
जियो वर्तमान में।।
जो बीत गया
उसे बदल सकते नहीं।
आने वाले कल के लिए
वर्तमान में कार्य कर सकते हैं हम।
पर हम अपने अलबेले सोच से लाचार हैं।
कभी हमें भूत की गोद में
ले जाकर पटकता है।
और दकियानूसी ख्याल बनाता है।
तो कभी हमें भविष्य के कँधे
पर चढ़ा कर छोड़ आता है।
और ख्याली पुलाव बनाता है।।
वर्तमान को जितना है तो
सोच के जंजीर को तोड़ना
आना पड़ेगा।




kitnaa jiange ham?

kisne jaanaa hai?

kaise ji rahen hain ham?

sabhi dekh rahe hain।।

bhut men naa bhavishy men।

agar jinaa hi hai to

jiyo vartmaan men।।

jo bit gayaa

use badal sakte nahin।

aane vaale kal ke lia

vartmaan men kaary kar sakte hain ham।

par ham apne albele soch se laachaar hain।

kabhi hamen bhut ki god men

le jaakar pataktaa hai।

aur dakiyaanusi khyaal banaataa hai।

to kabhi hamen bhavishy ke kndhe

par chdhaa kar chhod aataa hai।

aur khyaali pulaav banaataa hai।।

vartmaan ko jitnaa hai to

soch ke janjir ko todnaa

aanaa pdegaa।


Written by sushil kumar

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...