10 Dec 2019

Teri sundarta ki kya karun bakhan

Shayari


तेरी सुंदरता की क्या करुँ बखान।।

मानो बनाने वाले ने लगा दी है सारी जान।।
आँखों की सुंदरता को कैसे करूँ शब्दों में बयान।।
बस तुम मुझे देखते रहो,और मैं पीता रहूँ तुम्हारे आँखों से जाम।।
क्या खूब तराशा है ईश्वर ने तुम्हारे नाक नक्श को।।
मानो जर्रे जर्रे से हो रहा हो नूर की बौछार।।





teri sundartaa ki kyaa karun bakhaan।।

maano banaane vaale ne lagaa di hai saari jaan।।

aankhon ki sundartaa ko kaise karun shabdon men bayaan।।

bas tum mujhe dekhte raho,aur main pitaa rahun tumhaare aankhon se jaam।।

kyaa khub taraashaa hai ishvar ne tumhaare naak naksh ko।।

maano jarre jarre se ho rahaa ho nur ki bauchhaar।।

Written by sushil kumar

No comments:

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...