8 Aug 2018

Brahmand ke har kan kan mein

Shayari


ब्रह्मांड के हर कण कण में

                   तुम प्यार का मिठास भर दो।।
हर छोटे छोटे पलों में
                  तुम सतरंगी खुशियों का हुलास भर दो।।
दुख सुख की परिभाषा से
                  हम तुम हो जाएँ ऐसे अचेत।।
खुशियों के समुंदर में चलो
         एक बार फिर से जीवन के आनंद का जलपान ले लो।।


brahmaand ke har kan kan men

                   tum pyaar kaa mithaas bhar do।।

har chhote chhote palon men

                  tum satarangi khushiyon kaa hulaas bhar do।।

dukh sukh ki paribhaashaa se

                  ham tum ho jaaan aise achet।।

khushiyon ke samundar men chalo

         ak baar phir se jivan ke aanand kaa jalpaan le lo।।

Written by sushil kumar


No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...