16 Aug 2018

Sach kahna yaaron

Shayari



सच कहना यारों।

आजकल के बच्चे
बच्चे नहीं
बल्कि सबके बाप
निकल ले रहे हैं।।
बाप को अपने मोबाइल की
पूरी टेक्नोलॉजी पता हो
ना हो।
बच्चे को सारा कुछ पता है।।
सारी दुनिया को उसने
अपने छोटे सी,नन्ही सी मुठ्ठी में
बन्द कर रखा है।।

बीवी पूछती है पति से
क्या अपने बिजली का बिल भरवाया?
पति परेशान हो बोलता है।
अभी कहाँ समय है पाया।।
बेटा वहीं सुन रहा वार्तालाप में
तपाक से सर घुसाया।
पापा आप परेशान क्यों होते हैं?
लाइए बिल ऑनलाइन हम भर देते हैं।

तो आजकल के बच्चों के क्या कहने
बिना कोई डिग्री और
बिना कोई प्रोफेशनल कोर्स किए
अपने बी टेक होल्डर बाप को पढ़ा रहे हैं।।
सच कहना यारों।
आजकल के बच्चे
बच्चे नहीं
बल्कि सबके बाप
निकल रहे हैं।।




sach kahnaa yaaron।

aajakal ke bachche

bachche nahin

balki sabke baap

nikal le rahe hain।।

baap ko apne mobaael ki

puri teknolaji pataa ho

naa ho।

bachche ko saaraa kuchh pataa hai।।

saari duniyaa ko usne

apne chhote si,nanhi si muththi men

band kar rakhaa hai।।


bivi puchhti hai pati se

kyaa apne bijli kaa bil bharvaayaa?

pati pareshaan ho boltaa hai।

abhi kahaan samay hai paayaa।।

betaa vahin sun rahaa vaartaalaap men

tapaak se sar ghusaayaa।

paapaa aap pareshaan kyon hote hain?

laaea bil aunlaaen ham bhar dete hain।


to aajakal ke bachchon ke kyaa kahne

binaa koi digri aur

binaa koi propheshanal kors kia

apne bi tek holdar baap ko pdhaa rahe hain।।

sach kahnaa yaaron।

aajakal ke bachche

bachche nahin

balki sabke baap

nikal rahe hain।


Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...