16 Aug 2018

कुछ लोग मच्छर की तरह होते हैं

कुछ लोग मच्छर की तरह होते हैं।
देखते ही मारने का मन करता है।।
वो खुद तो नकारात्मक होते ही हैं।
हर जगह नकारात्मकता फैलाते हैं।।
खुद ही वो हताश रहते हैं।
और दूसरों को निरुत्साहित करते रहते हैं।।
चाहे जितना भी सकारात्मक आयोजन हो।
पर उसमे भी वो नकारात्मकता तलाशते हैं।।
कुछ लोग मच्छर की तरह होते हैं।
देखते ही मारने का मन करता है।।

No comments:

Meri khamoshi mein ek sandesh hai.

Shayari मेरी खामोशी में एक संदेश है। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। मेरी खामोशी देख तुम्हें तो आज बड़ा ही सुकून...