8 Aug 2018

Main jitna bhi dur tumse hota chala jaun

Shayari


मैं जितना भी दूर
तुमसे होता चला जाऊँ।

उतना ही मैं खुद को 
तेरे पास पाऊँ।।
मैं कहीं भी रहूँ।
किसी भी कोने में जा बस जाऊँ।।
मेरे नाफरमानी सोच को ।
कहाँ से रोक पाऊँ।।
भरी महफ़िल में लोग हमसे
पूछ पूछ थक जाएँ।
खोए खोए रहते हैं बहुत
कुछ बात है तो बताएँ।।
मेरी जो अवस्था है
मैं क्या उनसे बताऊँ।
हर क्षण डूबा रहता हूँ
तेरे सुनहरे यादों में प्राणप्यारे।।




main jitnaa bhi dur
tumse hotaa chalaa jaaun।

utnaa hi main khud ko

tere paas paaun।।

main kahin bhi rahun।

kisi bhi kone men jaa bas jaaun।।

mere naapharmaani soch ko ।

kahaan se rok paaun।।

bhari mahfil men log hamse

puchh puchh thak jaaan।

khoa khoa rahte hain bahut

kuchh baat hai to bataaan।।

meri jo avasthaa hai

main kyaa unse bataaun।

har kshan dubaa rahtaa hun

tere sunahre yaadon men praanapyaare।।


Written by sushil kumar

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...