8 Aug 2018

Isliye abhi tak tu zinda hai.

Shayari

Isliye abhi tak tu zinda hai.



प्रकृति हमारी माता है
बिन सोचे,बिन समझे
हमारे कर्मों को वो उठाती हैं।।
क्योंकि वो हमारी माता है ना।।

कभी हम वृक्षों को काट देते हैं
तो कभी उपजाऊ जमीन पर अपने लिए आशियाना बनवा लेते हैं।।
बिना भविष्य सोचे
बस अपनी सहुलियत के लिए
माँ को लहुलुहान कर देते हैं।।
माँ सहती रहती है
क्योंकि वो हमारी माता हैं ना।।

कब तक
कब तक माँ मितभाषी बनकर
हमेशा हमें सचेतती रहेगी।।
आँधी-बवंडर,भूकंप-ज्वालामुखी से
कब तक हमें सहेजती रहेगी।।
हमारे गलतियों को अनदेखी कर करके
कब तक अपने गोद में सुलाती रहेगी।
माँ को हमने जख्म दे देकर
उनके घाव को फिर से कुरेदा है।।
अब तो जरा संभल जा रे बंदे
माँ है
इसलिए अभी तक तू जिंदा है।।






prakriati hamaari maataa hai

bin soche,bin samjhe

hamaare karmon ko vo uthaati hain।।

kyonki vo hamaari maataa hai naa।।


kabhi ham vriakshon ko kaat dete hain

to kabhi upjaau jamin par apne lia aashiyaanaa banvaa lete hain।।

binaa bhavishy soche

bas apni sahuliyat ke lia

maan ko lahuluhaan kar dete hain।।

maan sahti rahti hai

kyonki vo hamaari maataa hain naa।।


kab tak

kab tak maan mitbhaashi banakar

hameshaa hamen sachetti rahegi।।

aandhi-bavandar,bhukamp-jvaalaamukhi se

kab tak hamen sahejti rahegi।।

hamaare galatiyon ko andekhi kar karke

kab tak apne god men sulaati rahegi।

maan ko hamne jakhm de dekar

unke ghaav ko phir se kuredaa hai।।

ab to jaraa sambhal jaa re bande

maan hai

esalia abhi tak tu jindaa hai।


Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...