8 Aug 2018

Paani ki moti moti bunden

Shayari


पानी की मोटी मोटी बूँदें

जब हमारे गालों को छू जाती है।।
ऐसा एहसास होता है
मानो कूदरत ने हमें चूम लिया हो।।
जब ठंडी ठंडी हवाएँ
हमारे बदन को सहलाती है
ऐसा एहसास होता है
जैसे मानो पूरे शरीर में ताजगी भर गई हो।।
जब खुले आसमान के तले
हम तन्हा तन्हा बैठे आघाते हैं
और फिर दूर से टिमटिमाते तारें
मानो हमें नजर मार जाते हैं।।
ऐसा आभास होता है
जैसे मानो कि कोई दोस्त ने चिढ़ाया हो।।
समुंद्र तट पर लहरें जो
हमें छूकर वापस जाती है।।
ऐसा एहसास होता है
जैसे मेरी महबूबा
अपने आगोश में मुझे बुलाती हो।।
और अपने सारे गहरे दफन राज को
मुझे बताना चाहती हो।।





paani ki moti moti bunden

jab hamaare gaalon ko chhu jaati hai।।

aisaa ehsaas hotaa hai

maano kudarat ne hamen chum liyaa ho।।

jab thandi thandi havaaan

hamaare badan ko sahlaati hai

aisaa ehsaas hotaa hai

jaise maano pure sharir men taajgi bhar gayi ho।।

jab khule aasmaan ke tale

ham tanhaa tanhaa baithe aaghaate hain

aur phir dur se timatimaate taaren

maano hamen najar maar jaate hain।।

aisaa aabhaas hotaa hai

jaise maano ki koi dost ne chidhaayaa ho।।

samundr tat par lahren jo

hamen chhukar vaapas jaati hai।।

aisaa ehsaas hotaa hai

jaise meri mahbubaa

apne aagosh men mujhe bulaati ho।।

aur apne saare gahre daphan raaj ko

mujhe bataanaa chaahti ho।।


Written by sushil kumar

No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...