8 Aug 2018

Kyunki papa hain naa sath mein


Shayari

क्योंकि पापा हैं ना साथ में।।


खिलौने की जिद हो या फिर
प्रिंटेड टीशर्ट पहनने का शौक।।
हमारे हर जिद और शौक
कभी रहते नहीं अधूरे।।
क्योंकि पापा हैं ना साथ में
तो फिर क्या फिक्र है हमारे जीवन में।।
घर का खाना खाकर हो गएँँ हो ऊब
समोसे और मिठाई खाने का दिल करे खूब।।
फिर क्या? लगे पापा को मिलकर हम मनाने
पापा चलो ना क्यों ना आज बाहर जाकर खाना खाए।।
माँ का भी अब जब मिल जाए साथ
हार कर पापा बोलें
चलो बाहर किसी अच्छे होटल में खाना खाएँ साथ।।
क्योंकि पापा हैं ना साथ में
तो फिर क्या फिक्र है हमारे जीवन में।।
पापा के घर में शाम में आते ही
हम खेल छोड़ लग जाते हैं पढ़ाई में।।
पापा साथ में आकर होमवर्क करवाते
और छुट्टी वाले दिन हमें पहाड़ा रटवाते।।
अगर पापा हैं तभी तो वर्ग में हमारे अच्छे मार्क्स आते।।
क्योंकि पापा हैं ना साथ में
तो फिर क्या फिक्र है हमारे जीवन में।।
समर वेकेशन के आते ही हम घर पर बोर हो जाते
पापा के साथ मिलकर हम कहीं बाहर घूमने का ट्रीप बनाते।।
समर वेकेशन में हम सभी खूब धूम मचाते।।
क्योंकि पापा हैं ना साथ में
तो फिर क्या फिक्र है हमारे जीवन में।।








khilaune ki jid ho yaa phir

printed tishart pahanne kaa shauk।।

hamaare har jid aur shauk

kabhi rahte nahin adhure।।

kyonki paapaa hain naa saath men

to phir kyaa phikr hai hamaare jivan men।।

ghar kaa khaanaa khaakar ho gann ho ub

samose aur mithaai khaane kaa dil kare khub।।

phir kyaa? lage paapaa ko milakar ham manaane

paapaa chalo naa kyon naa aaj baahar jaakar khaanaa khaaa।।

maan kaa bhi ab jab mil jaaa saath

haar kar paapaa bolen

chalo baahar kisi achchhe hotal men khaanaa khaaan saath।।

kyonki paapaa hain naa saath men

to phir kyaa phikr hai hamaare jivan men।।

paapaa ke ghar men shaam men aate hi

ham khel chhod lag jaate hain pdhaai men।।

paapaa saath men aakar homavark karvaate

aur chhutti vaale din hamen pahaadaa ratvaate।।

agar paapaa hain tabhi to varg men hamaare achchhe maarks aate।।

kyonki paapaa hain naa saath men

to phir kyaa phikr hai hamaare jivan men।।

samar vekeshan ke aate hi ham ghar par bor ho jaate

paapaa ke saath milakar ham kahin baahar ghumne kaa trip banaate।।

samar vekeshan men ham sabhi khub dhum machaate।।

kyonki paapaa hain naa saath men

to phir kyaa phikr hai hamaare jivan men।।


Written by sushil kumar




No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...