8 Aug 2018

Mujhe apne rangon mein mila le maula


Shayari

Mujhe apne rangon mein mila le maula



चैन चला गया
नींद चली गई
ना खाने का होश है
ना पीने का होश है
बस किसी की यादों में
सारा दुनिया को भूला दिया ।।
बस उनकी एक झलक पाने को
हमारा दिल यों तड़प रहा ।।
जैसे कि किसी मछली को जल से
बाहर निकाल दिया हो।।
ख्वाहिश अब फकीरे दिल की बाकी कुछ रही नहीं
मानो मौला को पा लिया हो उसने
उस शक्शियत में।।
जहाँँ भी नजर पड़ी है
अक्स उनकी वहींं नजर आई है।।
ईश्वर से हमने बस यही दुआ की है 
खुशियाँँ उनकी सलामत रहे हमेशा
बाकी दुख दर्द सारे
हमारे नसीब में आ जाए।।
या तो मेरी जान से मुझे मिला दे
या मुझे अपने रंगों में मिला ले मौला।।



chain chalaa gayaa

nind chali gayi

naa khaane kaa hosh hai

naa pine kaa hosh hai

bas kisi ki yaadon men

saaraa duniyaa ko bhulaa diyaa ।।

bas unki ek jhalak paane ko

hamaaraa dil yon tdap rahaa ।।

jaise ki kisi machhli ko jal se

baahar nikaal diyaa ho।।

khvaahish ab phakire dil ki baaki kuchh rahi nahin

maano maulaa ko paa liyaa ho usne

us shakshiyat men।।

jahaann bhi najar pdi hai

aks unki vahinn najar aai hai।।

ishvar se hamne bas yahi duaa ki hai

khushiyaann unki salaamat rahe hameshaa

baaki dukh dard saare

hamaare nasib men aa jaaa।।

yaa to meri jaan se mujhe milaa de

yaa mujhe apne rangon men milaa le maulaa।।

Written by sushil kumar





No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...