Email subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

चुरा लें तुझे इस जमाने से कभी।

चुरा लें तुझे इस जमाने से कभी।
रख लें तुझे इसी बहाने से कभी ।

ले चलें तुझे कहीं इस दुनिया से बहुत दूर  ।
जहाँ सिर्फ तुम हो और तेरे संग निभाने को मैं ही।

ना हो उस जहाँ में तेरी कोई पहचान ।
और जहाँ मैं भी रहूँ सभी से अनजान ।

मुझसे ही हो पहचान तेरी ।
और तुझसे ही लोग जाने मुझे भी ।

हो छोटा सा कहीं अपना बसेरा ।
जहाँ हर रात के बाद हो तुझसे ही सवेरा ।

समय की परिधि की सीमा खत्म हो जाए।
जहाँ हम एक दूजे संग मिल प्यार के नगमें गुनगुनाएँ।

मुझमें कुछ यूँही समालो तुम स्वयं को ।
तुझमें कुछ यूँही बसालूँ मैं खुद को ।

बस यूँही!!!!
चुरा लें तुझे इस जमाने से कभी।
रख लें तुझे इसी बहाने से कभी ।

No comments:

एक राष्ट्रवादी की आखिरी ख्वाहिश।

एक राष्ट्रवादी की आखिरी ख्वाहिश। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। माँ आज मैं बहुत खुश हूँ। जिस मिट्टी से मैने जन...