8 Aug 2018

Ahankar ko tyag do

Shayari



अहंकार को त्याग दो।

और भावनाओं को बहने दो।।
एक दो पग हम चलें आगे।
तुम पीछे-पीछे हमारे हो लो।।
कुछ होंगे दुख भरे पल।
जिसे सिंचा होगा अपने अश्कों के धारा से।।
कल हमारे आँखों में नमी थी।
आज तुम अपने आँसुओं को ना थमने दो।।
फिर कुछ तो होंगे कुछ खुशी भरे पल।
जिसे पिरोया गया होगा उल्लास के मोतियों से।।
जो आनंद और हर्ष कल हमने अपने दिल में महसूस किया था।
आज तुम उस खुशी को अपने चेहरे पर झलकने दो।।
कवि हूँ ना यारो।
अपनी भावनाओं का तुम्हारे भावनाओं से मिलाप करवाने दो।।
अहंकार को त्याग दो।
और भावनाओं को बहने दो।।


ahankaar ko tyaag do।

aur bhaavnaaon ko bahne do।।

ek do pag ham chalen aage।

tum pichhe-pichhe hamaare ho lo।।

kuchh honge dukh bhare pal।

jise sinchaa hogaa apne ashkon ke dhaaraa se।।

kal hamaare aankhon men nami thi।

aaj tum apne aansuon ko naa thamne do।।

phir kuchh to honge kuchh khushi bhare pal।

jise piroyaa gayaa hogaa ullaas ke motiyon se।।

jo aanand aur harsh kal hamne apne dil men mahsus kiyaa thaa।

aaj tum us khushi ko apne chehre par jhalakne do।।

kavi hun naa yaaro।

apni bhaavnaaon kaa tumhaare bhaavnaaon se milaap karvaane do।।

ahankaar ko tyaag do।

aur bhaavnaaon ko bahne do।।


Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...