8 Aug 2018

Log kahte hain

Shayari


लोग कहते हैं

बिन जान पहचान के
कोई आपसे बात नहीं करता है।।
पर हमारी पहचान कब हुई
कि हम लिखते गए
और आप हमारी बात समझते गए।।
आप हमसे
और हम आपसे
कब जुड़ गए।।
और हमारा कारवाँ
कब निकल पड़ा
अपने मंजिल के तलाश में।।
भावनाओं के तार हमारे
कब जुड़ गए
कि हम
बिन कहे सुने ही
एक दूसरे के दिल को
चुटकियों में समझने लगें।




log kahte hain

bin jaan pahchaan ke

koi aapse baat nahin kartaa hai।।

par hamaari pahchaan kab hui

ki ham likhte gaye

aur aap hamaari baat samajhte gaye।।

aap hamse

aur ham aapse

kab jud gaye।।

aur hamaaraa kaarvaan

kab nikal pdaa

apne manjil ke talaash men।।

bhaavnaaon ke taar hamaare

kab jud gaye

ki ham

bin kahe sune hi

ek dusre ke dil ko

chutakiyon men samajhne lagen।


Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...