14 Aug 2018

Humare pahredar tainat hain

Shayari

Humare pahredar tainat hain


धूप हो
बरसात हो
दिन हो या रात हो
देश की रक्षा के लिए
हमारे पहरेदार तैनात हैं।।

हिमालय सा दृढ़विश्वास लेकर।
हाथ में हथियार लेकर।
दुश्मनों से दो दो हाथ
करने के लिए
हमारे सैनिक तैयार हैं।।

हमारी आज़ादी सलामत रहे।
देश की अखंडता बरकरार रहे।।
देश हमारा प्रगति करे।
लोग यहाँ खुशहाल रहें।।
हमारी खैरियत के वास्ते
फौज बहा रहीं हैं खून वहाँ।।

देश की सेवा करते करते
कुछ सैनिक शहिद हो जाते हैं।
उनके पार्थिव शरीर तिरंगे में
लिपटकर घर पर जब आते हैं।।
सारा गाँव
सारा देश
देशभक्ति से ओतप्रोत हो जाता है।
हर घर से माँ
अपने बच्चे को
देश के लिए तैयार करती है।।
सरहद की रक्षा के लिए
देश को अपना पूत समर्पित करती है।।

जय हिंद
जय भारत
जय जवान
जय किसान
जय विज्ञान








dhup ho

barsaat ho

din ho yaa raat ho

desh ki rakshaa ke lia

hamaare pahredaar tainaat hain।।


himaalay saa dridhvishvaas lekar।

haath men hathiyaar lekar।

dushmnon se do do haath

karne ke lia

hamaare sainik taiyaar hain।।


hamaari aajaadi salaamat rahe।

desh ki akhandtaa barakraar rahe।।

desh hamaaraa pragati kare।

log yahaan khushhaal rahen।।

hamaari khairiyat ke vaaste

phauj bahaa rahin hain khun vahaan।।


desh ki sevaa karte karte

kuchh sainik shahid ho jaate hain।

unke paarthiv sharir tirange men

lipatakar ghar par jab aate hain।।

saaraa gaanv

saaraa desh

deshabhakti se otaprot ho jaataa hai।

har ghar se maan

apne bachche ko

desh ke lia taiyaar karti hai।।

sarahad ki rakshaa ke lia

desh ko apnaa put samarpit karti hai।।


jay hind

jay bhaarat

jay javaan

jay kisaan

jay vijyaan


Written by sushil kumar








No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...