8 Aug 2018

कितने भी करीब हों

कितने भी करीब हों
                   आप हमारे दिल के।।
मिलती वही है
                  जो रहता है हमारे नसीब में।।
जितनी भी हाथ पाव मार लो
             जितना भी दिलोजान से कोशिश कर लो।।
मिलती वही है
             जो जोड़ी बनकर आई है अंबर से।। 
लाख तुम प्रेम करो
                      अपने प्रियतमा से।।
भले तुम उन्हें जानते हो
                   स्कूल से,कॉलेज से।।
मिलती वही है
                जिसका सम्बंध है आपके साथ सात जन्मों से।।

No comments:

तेरे हक का है तो छीन लो।

Shayari तेरे हक का है तो छीन लो। kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। अपने हक के लिए तुम्हें आवाज खुद उठाना होगा। आए...