8 Aug 2018

Timtimate taron ke bich

Shayari


टिमटिमाते तारों के बीच

                           जब चाँद नजर आ जाता है।।
मनमोहनी शीतल पवन
                           जब चेहरे को चूम जाती है।।
एक एहसास दिल में फिर से
                           आज जगा जाता है।।
जैसे दूर कहीं से मेरी महबूबा ने
                            एक प्यार भरा संदेशा भेजा है।।




timatimaate taaron ke bich

                    jab chaand najar aa jaataa hai।।

manmohni shital pavan

                       jab chehre ko chum jaati hai।।

ek ehsaas dil men phir se

                           aaj jagaa jaataa hai।।

jaise dur kahin se meri mahbubaa ne

      ek pyaar bharaa sandeshaa bhejaa hai।।



Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...