13 Dec 2019

तेरे हर धडकन को. Tere har dhadkan ko


Shayari



तेरे हर धडकन को

                   आज जरा मुझे सुनने दो।
गरम साँसों को
                आज जरा स्पर्श करने दो।
भौरे को आज
                फूलोंं का रस लेने दो।
मैं बहका हूँ आज
               जरा खुद को तुम बहकने दो।
लो आ गया है
                  आज फिर से प्यार का मौसम।
सावन को इजाजत देदो
                      आज फिर से बरसने को।



tere har dhadakan ko

                   aaj jaraa mujhe sunne do।

garam saanson ko

                aaj jaraa sparsh karne do।

bhaure ko aaj

                phulonn kaa ras lene do।

main bahkaa hun aaj

               jraa khud ko tum bahakne do।

lo aa gayaa hai

                  aaj phir se pyaar kaa mausam।

saavan ko ejaajat dedo

                      aaj phir se barasne ko।


Shayari
Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...