11 Aug 2018

Tumhen jab bhi waqt mile chale aao

Shayari



तुम्हें जब भी वक्त मिले

                     तुम चले आओ।।
अगर वक्त ना मिले
                      इतलाह हमें जरूर कर जाओ।।
तुम्हारी राह में हर घड़ी
                       ताकती रहती है ये अँखिया।।
तुम्हारी अक्स के दीदार में
                       धड़कता रहता है दिल हर पल।।
वो पल,वो घड़ी
                      कितनी अनमोल होती है मेरे लिए।।
जिस वक्त
              तुम होते हो मेरे साथ में।।
पूछो मेरे दिल से
                      जो अभी बहुत बेचैन था तुम्हारी यादों में।
हमारी आँखों के मिलन से ही
                      कैसे ठंडक मिली है मेरे हृदय को।।






tumhen jab bhi vakt mile

                     tum chale aao।।

agar vakt naa mile

                      etlaah hamen jarur kar jaao।।

tumhaari raah men har ghdi

                       taakti rahti hai ye ankhiyaa।।

tumhaari aks ke didaar men

                       dhdaktaa rahtaa hai dil har pal।।

vo pal,vo ghdi

                      kitni anmol hoti hai mere lia।।

jis vakt

              tum hote ho mere saath men।।

puchho mere dil se

                      jo abhi bahut bechain thaa tumhaari yaadon men।

hamaari aankhon ke milan se hi

                      kaise thandak mili hai mere hriaday ko।।


Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...