Email subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हम कवि हैं

हम कवि हैं
हमारे भावनाओं को बहने दो
हम आजाद गगन के पंक्षी हैं
हमें मस्त नीले अम्बर में उड़ने दो
हम आज की आवाज़ हैं
हमें हर धड़कन में धड़कने दो
हम लोगों के जज्बात में हैं
हर सपने को सार्थक करने दो
हम देश की आवाज में हैं
हर देशवासियों के दिल में देशभक्ति भरने दो
हम हर माँ के आशीर्वाद में हैं
हर बच्चे की तक़दीर हमें बदलने दो
हम कवि हैं
हमारे भावनाओं को बहने दो



No comments:

तुम लिखो कुछ ऐसा

तुम लिखो कुछ ऐसा kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। तुम लिखो कुछ ऐसा जिससे शांत सरोवर की शिथिल लहरों में एक उफान ...