Email subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सत्यमेव जयते।।

जीवन में चाहे जितने उतार चढ़ाव हो।
कभी दिल खुश हो तो
कभी मन उदास हो।
हार जीत तो हमेशा लगी ही रहती है।
झूठ और सच्चाई में सदा तनी रहती है।
फर्क पड़ता है कि
आप किस तरफ खड़े हो।
क्योंकि
अंत में जीत सदा सच्चाई की  होती है।
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।

झूठ का रास्ता
सदा सुहाना लगता है।
मन को हमेशा ही
लुभावना लगता है।।
वहीं
सच्चाई पर चलना
कांटो भरा होता है।
हर क्षण मुश्किलों से
सामना होता है।।
पर अंत में जीत सदा
सत्य की होती है।।
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।

सतयुग से कलयुग में हम प्रवेश कर गए।
समय का चक्र
हमें कितना बदल दिए।।
लोग बदलें
उनके चाल चलन बदलें।
बदल गई उनकी सोच और सभ्यता।।
अगर कुछ नही बदला तो
वो बस
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।





No comments:

वतना मेरे वतना वे।

वतना मेरे वतना वे kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। वतना मेरे वतना वे तेरा इश्क़ मेरे सर चढ़ चढ़कर बोल रहा है। एक जन्...