20 Aug 2018

I love you papa

Shayari

I love you papa




आज फिर से वो दिन मुझे याद आ गए।।
पापा के द्वारा रटाए गए पहाड़े आज काम आ गए।।
भुला नहीं हूँ मैं वो बचपन के दिन।
शनि और रविवार को दोस्तों के साथ खेलते थे भरदम।।
तभी पापा एक शनिवार की रात ले लिया था हमारा टेस्ट।
बहुत कम अंक आने पर उन्होंने दे दिया था पनिशमेंट।।
पनिशमेंट से कभी टेंशन नहीं हुआ था उस दिन तक।
क्योंकि पनिशमेंट का हो गया था मैं मास्टर।।
कभी उठा बैठक
तो कभी छड़ी से पिटाई
कभी धूप में खड़ा किया
तो कभी हाथ उठा कर खड़ा किया
इन सभी पनिश्मेन्ट की हो गई थी हमें आदत
जिनसे रोज मुलाकात होती थी
हमें स्कूल में जाकर।।

रविवार के दिन निकला था हाथ में बॉल लेकर
पापा वहीं खड़े थे छड़ी हाथ में तानकर।
कहाँ जा रहे हो?
ज़रा इधर तो आ जाओ।।
एक से दस तक का पहाड़ा तो सुनाओ।।
पापा आज मैच है।
ज़रा सा खेल के मैं आऊँ।।
उसके बाद मैं आपको
वो पहाड़ा को सुनाऊँ।।
बेटा मैं तेरा बाप हूँ
नहीं हूँ तेरा बेटा।
बेवकूफ़ किसी और को बनाना
पहले सुना दे मुझे पहाड़ा।।
फिर क्या था?
हर रविवार खेलता था मैं
पापा के साथ पहाड़ा।
पापा के कारण ही
आज मुकाम ये हासिल कर पाया।।






(आई लव यू पापा।।)





aaj phir se vo din mujhe yaad aa gaye।।

paapaa ke dvaaraa rataaa gaye pahaade aaj kaam aa gaye।।

bhulaa nahin hun main vo bachapan ke din।

shani aur ravivaar ko doston ke saath khelte the bharadam।।

tabhi paapaa ek shanivaar ki raat le liyaa thaa hamaaraa test।

bahut kam ank aane par unhonne de diyaa thaa panishment।।


  • punishment se kabhi tenshan nahin huaa thaa us din tak।


kyonki punishment kaa ho gayaa thaa main maastar।।

kabhi uthaa baithak

to kabhi chhdi se pitaai

kabhi dhup men khdaa kiyaa

to kabhi haath uthaa kar khdaa kiyaa

en sabhi panishment ki ho gayi thi hamen aadat

jinse roj mulaakaat hoti thi

hamen skul men jaakar।।


ravivaar ke din niklaa thaa haath men bal lekar

paapaa vahin khde the chhdi haath men taanakar।

kahaan jaa rahe ho?

jraa edhar to aa jaao।।

ek se das tak kaa pahaadaa to sunaao।।

paapaa aaj maich hai।

jraa saa khel ke main aaun।।

uske baad main aapko

vo pahaadaa ko sunaaun।।

betaa main teraa baap hun

nahin hun teraa betaa।

bevkuf kisi aur ko banaanaa

pahle sunaa de mujhe pahaadaa।।

phir kyaa thaa?

har ravivaar kheltaa thaa main

paapaa ke saath pahaadaa।

paapaa ke kaaran hi

aaj mukaam ye haasil kar paayaa।।




I love you papa

Written by sushil kumar








No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...