8 Aug 2018

Maa! kahan ho maa??

Shayari

Maa!Kahan ho maa??



माँ आपके गोद में
जन्नत सा महसूस होता था
जितनी भी तनाव रहे हृदय में
छू मंतर सा हो जाता था
यहाँ अकेला दूर आपसे
आपकी कमी महसूस बहुत करता हूँ
तनाव तो इतना है यहाँ पे
सर फट फट सा जाता है
कितना भी मरहम और दवाई लेलूँ
चैन नहीं अब दिल को आता है
आ जाइए माँ 
आ जाइए फिर से
अपने लल्ले को गोद में सुलाने को
वरना मैं निकलता हूँ 
इस जहाँ से
ईश्वर के गोद में सो जाने को।


maan aapke god men

jannat saa mahsus hotaa thaa

jitni bhi tanaav rahe hriaday men

chhu mantar saa ho jaataa thaa

yahaan akelaa dur aapse

aapki kami mahsus bahut kartaa hun

tanaav to etnaa hai yahaan pe

sar phat phat saa jaataa hai

kitnaa bhi maraham aur davaai lelun

chain nahin ab dil ko aataa hai

aa jaaea maan

aa jaaea phir se

apne lalle ko god men sulaane ko

varnaa main nikaltaa hun

es jahaan se

ishvar ke god men so jaane ko।


Written by sushil kumar

No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...