14 Aug 2018

हम हैं हिंदुस्तान के।।

हम ना बिहार के
ना ही हम गुजरात के।
ना ही हम बंगाल के
और ना ही हम महाराष्ट्र के।
हम हैं भारतीय
हम हैं हिंदुस्तान के।।

ना ही हम हिन्दू हैं
ना ही हम मुसलमान।
ना ही हम सिख हैं
ना ही हम इसाई।
हम हैं मानव
मानवता ही हमारा धर्म है।।

हम भारतीयों की कुछ बात खास है।
हमारी संस्कृति भी सभी से लाजवाब है।।
घर पर आए अतिथि
हमारे लिए भगवान है।
सारी पृथ्वी
हमारा एक परिवार है।।

आज जबकि हरेक की
जीवन शैली आधुनिक है।
हम भारतीयों का जीवन
परंपरा और मूल्यों के
आधार पर चल रही है।।

अपनी पुरानी सभ्यता पर
हमें बड़ा अभिमान है।।
गौतम बुद्ध और महावीर जैन आकर
हमें राह दिखा रहें हैं।।








No comments:

जितनी बार मैं तेरे करीब आया

Shayari जितनी बार मैं तेरे करीब आया kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है। जितनी बार मैं तेरे करीब आया उतनी बार दिल म...