7 Aug 2018

Pyari bahna

Shayari



प्यारी बहना

तुम्हारी याद
बहुत ही मुझे सताती है।
कहीं भी रहना
खुश रहना
बस यही दुआ
लब पे आती है।।
बहुत सारी
मीठी सी यादें
मेरे मस्तिष्क में पनप कर आती है।
क्या बचपन था
हमदोनो का।
कितना हुड़दंग हम मचाते थे।।

वो किवाड़ पर चढ़ कर तुम्हारा बैठना।
और कुंडी पकड़ मेरा झूला झुलाना।।
और माँ जो देख लें हमदोनो को
बेलना लेकर हमारे पीछे भागना।।

वो दीवार फाँदकर
दूसरे के बगीचे से
अमरूद चुरा कर घर लाना।।
पके अमरूद को पाने के लिए
हमदोनो के बीच में झगड़ा होना।
और तुम्हारा मुझे धक्का देना
मेरे सर को दीवार पर पटकना।।
कितना मजा आता था मुझको।
वो तुम्हारे हाथ से मार खाना।।

और भी बहुत सारी पल हैं बहना
जो मेरे जहन में आती हैं।
रह रह कर
बस तुम्हारी ओर
मुझे खींच कर ले जाती है।।

मेरी आँख नम हो जाती हैं।
जब उन पलों को याद मैं करता हूँ।।
कभी भी जन्म लूँ
इस धरती पर,
बस तू ही चाहिए बहना
मेरी कुनबा में।।

जल्द ही आऊँगा मिलने तुमसे
साथ मे बैठ
पुराने तराने गाने को।
फिर से बचपन को जी लेंगे हम
प्यारी बहना
मिलकर हम तुम।।







pyaari bahnaa

tumhaari yaad

bahut hi mujhe sataati hai।

kahin bhi rahnaa

khush rahnaa

bas yahi duaa

lab pe aati hai।।

bahut saari

mithi si yaaden

mere mastishk men panap kar aati hai।

kyaa bachapan thaa

hamdono kaa।

kitnaa huddang ham machaate the।।


vo kivaad par chdh kar tumhaaraa baithnaa।

aur kundi pakd meraa jhulaa jhulaanaa।।

aur maan jo dekh len hamdono ko

belnaa lekar hamaare pichhe bhaagnaa।।


vo divaar phaandakar

dusre ke bagiche se

amrud churaa kar ghar laanaa।।

pake amrud ko paane ke lia

hamdono ke bich men jhagdaa honaa।

aur tumhaaraa mujhe dhakkaa denaa

mere sar ko divaar par pataknaa।।

kitnaa majaa aataa thaa mujhko।

vo tumhaare haath se maar khaanaa।।


aur bhi bahut saari pal hain bahnaa

jo mere jahan men aati hain।

rah rah kar

bas tumhaari or

mujhe khinch kar le jaati hai।।


meri aankh nam ho jaati hain।

jab un palon ko yaad main kartaa hun।।

kabhi bhi janm lun

es dharti par,

bas tu hi chaahia bahnaa

meri kunbaa men।।


jald hi aaungaa milne tumse

saath me baith

puraane taraane gaane ko।

phir se bachapan ko ji lenge ham

pyaari bahnaa

milakar ham tum।।

Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...