10 Dec 2019

Hamare soch mein aapki soch mil jae.

Shayari


हमारे सोच में आपकी सोच मिल जाए।।

हमारे विचार में आपका विचार मिल जाए।।
ये जहान और समय कहीं थम ना जाए।।
जो हमदोनों के धड़कन एक हो जाएँ।।






hamaare soch men aapki soch mil jaaa।।

hamaare vichaar men aapkaa vichaar mil jaaa।।

ye jahaan aur samay kahin tham naa jaaa।।

jo hamdonon ke dhdakan ek ho jaaan।।

Written by sushil kumar

No comments:

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...