30 Aug 2018

Yuva bharat sambhal jao

Shayari


युवा भारत संभल जाओ।

मातृभूमि के खातिर तो बदल जाओ।।
देश को तुम्हारी जरूरत है।
जरा आँखें खोल के देखो पास।।

दीमक बनकर खा रहे हैं।
देश के भ्रष्ट नेता और
कुछ गद्दार।।
केंद्र में खड़े होकर
देखो
कैसे उपद्रव मचा रहे हैं।।

अफ़ज़ल हम शर्मिंदा हैं
तेरे कातिल जिंदा हैं
के नारे
लगा लगा कर
कैसे असहिष्णुता फैला रहे हैं।।

भारत की पवित्र धरती पर
द्वेष का बीज बोए जा रहे हैं।।
अंग्रेजों के बनाए फॉर्मूले को
अब अपने नेता ही
हमपर अपना रहे हैं।।

अगर आज नहीं हम उठ खड़े होंगे।
तो कहीं शायद
कल हो जाएँ ना अपंग।।
फिर से लाखों कुर्बानियाँ देनी पड़ेगी।
कराना होगा अगर देश को स्वतंत्र।।

हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई नहीं।
भारतीय हैं हम पहले आज।।
ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शुद्रा नहीं
ना शिया,ना सुन्नी हैं हम।
हमें धर्म जाति में अब बाँटो नहीं।
हम बंध मुठ्ठी हैं अब।।
हम भारत में जन्में हैं।
हमें भारतिय कहलाने पर
होता है गर्व।।

जय हिंद।।
जय भारत।।
वन्दे मातरम।।






yuvaa bhaarat sambhal jaao।

maatribhumi ke khaatir to badal jaao।।

desh ko tumhaari jarurat hai।

jaraa aankhen khol ke dekho paas।।


dimak banakar khaa rahe hain।

desh ke bhrasht netaa aur

kuchh gaddaar।।

kendr men khde hokar

dekho

kaise upadrav machaa rahe hain।।


afjl ham sharmindaa hain

tere kaatil jindaa hain

ke naare

lagaa lagaa kar

kaise asahishnutaa phailaa rahe hain।।


bhaarat ki pavitr dharti par

dvesh kaa bij boa jaa rahe hain।।

angrejon ke banaaa pharmule ko

ab apne netaa hi

hamapar apnaa rahe hain।।


agar aaj nahin ham uth khde honge।

to kahin shaayad

kal ho jaaan naa apang।।

phir se laakhon kurbaaniyaan deni pdegi।

karaanaa hogaa agar desh ko svatantr।।


hindu muslim sikh esaai nahin।

bhaartiy hain ham pahle aaj।।

braahman kshatriy vaishy shudraa nahin

naa shiyaa,naa sunni hain ham।

hamen dharm jaati men ab baanto nahin।

ham bandh muththi hain ab।।

ham bhaarat men janmen hain।

hamen bhaaratiy kahlaane par

hotaa hai garv।।


jay hind।।

jay bhaarat।।

vande maataram।

Written by sushil kumar

26 Aug 2018

Teri god mein maa

Shayari



तेरी गोद में माँ

जब से मैं आया।।
खूब स्नेह और
भरपूर लाड़ प्यार पाया।।
धीरे धीरे लड़खड़ाकर
चलना सीख पाया।।
फिर अपने दोस्तों के संग
दौड़ भी लगाया।।
तेरी सोंधी मिट्टी का स्वाद
भी चख पाया।।
ऐसा एहसास हुआ उसदिन
अमरता का वरदान पाया।।
साईकल,मोटर साईकल
फिर कार भी चलाया।।
जब थक गया तो
तेरी वृक्ष के छाव में ऊंघाया।।
भूख जब लगी हमें
तूने खाना हमें खिलाया।।
प्यास जो लगी तो
तूने पानी से प्यास मिटाया।।
तुमसे ही मेरा वजूद है।।
तुमसे ही मेरी काया।।
चाहे जितने जन्म भी ले लूँ माँ।।
तेरा कर्ज रहेगा बकाया।।
माँ तुझे सत सत नमन।।

भारत माता की जय।।
वन्दे मातरम।।
जय हिंद।।







teri god men maan

jab se main aayaa।।

khub sneh aur

bharpur laad pyaar paayaa।।

dhire dhire ldakhdaakar

chalnaa sikh paayaa।।

phir apne doston ke sang

daud bhi lagaayaa।।

teri sondhi mitti kaa svaad

bhi chakh paayaa।।

aisaa ehsaas huaa usadin

amartaa kaa vardaan paayaa।।

saaikal,motar saaikal

phir kaar bhi chalaayaa।।

jab thak gayaa to

teri vriaksh ke chhaav men unghaayaa।।

bhukh jab lagi hamen

tune khaanaa hamen khilaayaa।।

pyaas jo lagi to

tune paani se pyaas mitaayaa।।

tumse hi meraa vajud hai।।

tumse hi meri kaayaa।।

chaahe jitne janm bhi le lun maan।।

teraa karj rahegaa bakaayaa।।

maan tujhe sat sat naman।।


bhaarat maataa ki jay।।

vande maataram।।

jay hind।


Written by sushil kumar

25 Aug 2018

Chura le tujhe is zamane se kabhi

Shayari


चुरा लें तुझे इस जमाने से कभी।

रख लें तुझे इसी बहाने से कभी ।

ले चलें तुझे कहीं इस दुनिया से बहुत दूर  ।
जहाँ सिर्फ तुम हो और तेरे संग निभाने को मैं ही।

ना हो उस जहाँ में तेरी कोई पहचान ।
और जहाँ मैं भी रहूँ सभी से अनजान ।

मुझसे ही हो पहचान तेरी ।
और तुझसे ही लोग जाने मुझे भी ।

हो छोटा सा कहीं अपना बसेरा ।
जहाँ हर रात के बाद हो तुझसे ही सवेरा ।

समय की परिधि की सीमा खत्म हो जाए।
जहाँ हम एक दूजे संग मिल प्यार के नगमें गुनगुनाएँ।

मुझमें कुछ यूँही समालो तुम स्वयं को ।
तुझमें कुछ यूँही बसालूँ मैं खुद को ।

बस यूँही!!!!
चुरा लें तुझे इस जमाने से कभी।
रख लें तुझे इसी बहाने से कभी ।





churaa len tujhe es jamaane se kabhi।

rakh len tujhe esi bahaane se kabhi ।


le chalen tujhe kahin es duniyaa se bahut dur  ।

jahaan sirph tum ho aur tere sang nibhaane ko main hi।


naa ho us jahaan men teri koi pahchaan ।

aur jahaan main bhi rahun sabhi se anjaan ।


mujhse hi ho pahchaan teri ।

aur tujhse hi log jaane mujhe bhi ।


ho chhotaa saa kahin apnaa baseraa ।

jahaan har raat ke baad ho tujhse hi saveraa ।


samay ki paridhi ki simaa khatm ho jaaa।

jahaan ham ek duje sang mil pyaar ke nagmen gunagunaaan।


mujhmen kuchh yunhi samaalo tum svayan ko ।

tujhmen kuchh yunhi basaalun main khud ko ।


bas yunhi!!!!

churaa len tujhe es jamaane se kabhi।

rakh len tujhe esi bahaane se kabhi ।


Written by sushil kumar

22 Aug 2018

Satyamev jayate

Shayari

Satyamev jayate


जीवन में चाहे जितने उतार चढ़ाव हो।
कभी दिल खुश हो तो
कभी मन उदास हो।
हार जीत तो हमेशा लगी ही रहती है।
झूठ और सच्चाई में सदा तनी रहती है।
फर्क पड़ता है कि
आप किस तरफ खड़े हो।
क्योंकि
अंत में जीत सदा सच्चाई की  होती है।
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।

झूठ का रास्ता
सदा सुहाना लगता है।
मन को हमेशा ही
लुभावना लगता है।।
वहीं
सच्चाई पर चलना
कांटो भरा होता है।
हर क्षण मुश्किलों से
सामना होता है।।
पर अंत में जीत सदा
सत्य की होती है।।
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।

सतयुग से कलयुग में हम प्रवेश कर गए।
समय का चक्र
हमें कितना बदल दिए।।
लोग बदलें
उनके चाल चलन बदलें।
बदल गई उनकी सोच और सभ्यता।।
अगर कुछ नही बदला तो
वो बस
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।
सत्यमेव जयते।।





jivan men chaahe jitne utaar chdhaav ho।

kabhi dil khush ho to

kabhi man udaas ho।

haar jit to hameshaa lagi hi rahti hai।

jhuth aur sachchaai men sadaa tani rahti hai।

phark pdtaa hai ki

aap kis taraph khde ho।

kyonki

ant men jit sadaa sachchaai ki  hoti hai।

satymev jayte।।

satymev jayte।।


jhuth kaa raastaa

sadaa suhaanaa lagtaa hai।

man ko hameshaa hi

lubhaavnaa lagtaa hai।।

vahin

sachchaai par chalnaa

kaanto bharaa hotaa hai।

har kshan mushkilon se

saamnaa hotaa hai।।

par ant men jit sadaa

saty ki hoti hai।।

satymev jayte।।

satymev jayte।।


satayug se kalayug men ham prvesh kar gaye।

samay kaa chakr

hamen kitnaa badal dia।।

log badlen

unke chaal chalan badlen।

badal gayi unki soch aur sabhytaa।।

agar kuchh nahi badlaa to

vo bas

satymev jayte।।

satymev jayte।।

satymev jayte।।


Written by sushil kumar



Bas yahi hota aa raha hai

Shayari



बस यही होता आ रहा है।

निरंतर चलता जा रहा है।।
समय रहते कोई कदर नहीं करता।
मरणोपरांत ही क्यों जय जयकार होता है।।
आज जीवित है तो अभद्र व्यवहार।
हर वक़्त मिलती है यही लताड़।।
तुम निकम्मे हो
किसी काम के नहीं हो यार।
अरे भाई
कोई कितना सहेगा अत्याचार।।
मनुष्य है
कोई मशीन नहीं है।
कब तक कोई घुटन सहेगा लाचार।।
आज नहीं तो कल वो बेचारा।
सूली पर जान दे देगा लटक कर।।
फिर निकलेगी भीड़ मोमबत्ती लेकर।
उन्हें देने को श्रद्धांजलि।।
और भूला देंगे दो दिन में उन्हें।
अपने काम में व्यस्त होकर।।
पर सोचो
जिस घर का इकलौता चिराग
अपनों को
अंधरे में
धकेल कर चला गया हो।
क्या होगा उस माँ बाप का
जिनका बुढ़ापे की लाठी ही
गुम गई हो।।
क्या होगा उस पत्नी का।
जो अपने हमराही को
कहीं भीड़ में खो दी हो।।
क्या होगा उस बच्चे का
जो अछूता रह जाएगा
बाप के प्यार से।।

बस बस बस
बहुत हुआ अब।
अब कोई नहीं करेगा आत्मदाह।।
बहुत सह लिया अब तुमने।
आवाज़ उठाने का वक़्त आ गया है।।
दबे कुचले भावनाओं को मिटाकर।
शेर सा दहाड़ने का समय आ गया है।।
बहुत डर लिया इंसानों से।
अब दुनिया को मुठ्ठी में करने का वक़्त आ गया है।।

आ गया है।

आ गया है।

आ गया है।




bas yahi hotaa aa rahaa hai।

nirantar chaltaa jaa rahaa hai।।

samay rahte koi kadar nahin kartaa।

marnopraant hi kyon jay jaykaar hotaa hai।।

aaj jivit hai to abhadr vyavhaar।

har vkt milti hai yahi lataad।।

tum nikamme ho

kisi kaam ke nahin ho yaar।

are bhaai

koi kitnaa sahegaa atyaachaar।।

manushy hai

koi mashin nahin hai।

kab tak koi ghutan sahegaa laachaar।।

aaj nahin to kal vo bechaaraa।

suli par jaan de degaa latak kar।।

phir niklegi bhid momabatti lekar।

unhen dene ko shraddhaanjali।।

aur bhulaa denge do din men unhen।

apne kaam men vyast hokar।।

par socho

jis ghar kaa eklautaa chiraag

apnon ko

andhre men

dhakel kar chalaa gayaa ho।

kyaa hogaa us maan baap kaa

jinkaa budhaape ki laathi hi

gum gayi ho।।

kyaa hogaa us patni kaa।

jo apne hamraahi ko

kahin bhid men kho di ho।।

kyaa hogaa us bachche kaa

jo achhutaa rah jaaagaa

baap ke pyaar se।।


bas bas bas

bahut huaa ab।

ab koi nahin karegaa aatmdaah।।

bahut sah liyaa ab tumne।

aavaaj uthaane kaa vkt aa gayaa hai।।

dabe kuchle bhaavnaaon ko mitaakar।

sher saa dahaadne kaa samay aa gayaa hai।।

bahut dar liyaa ensaanon se।

ab duniyaa ko muththi men karne kaa vkt aa gayaa hai।।


aa gayaa hai।


aa gayaa hai।


aa gayaa hai।


Written by sushil kumar

20 Aug 2018

Kisi bhi nari ka ravivar nahi hota hai.

Shayari



किसी भी नारी का रविवार नहीं होता है।

सारे दिवस एक सा काम जरूर होता है।।
चूल्हे से शुरू
और चूल्हे पे ही
काम तमाम होता है।
घर के बड़े बुजुर्गों की जिम्मेदारियाँ
उनके हाथ में ही होता है।
अगर कोई अतिथि आ जाए
उनका इंतजाम भी उनके सर होता है।
सच बोलूँ तो
उनके पास काम बहुत सारा होता है।
किसी भी नारी का रविवार नहीं होता है।
किसी भी नारी का रविवार नहीं होता है।


kisi bhi naari kaa ravivaar nahin hotaa hai।

saare divas ek saa kaam jarur hotaa hai।।

chulhe se shuru

aur chulhe pe hi

kaam tamaam hotaa hai।

ghar ke bde bujurgon ki jimmedaariyaan

unke haath men hi hotaa hai।

agar koi atithi aa jaaa

unkaa entjaam bhi unke sar hotaa hai।

sach bolun to

unke paas kaam bahut saaraa hotaa hai।

kisi bhi naari kaa ravivaar nahin hotaa hai।

kisi bhi naari kaa ravivaar nahin hotaa hai।



Written by sushil kumar

I love you papa

Shayari

I love you papa




आज फिर से वो दिन मुझे याद आ गए।।
पापा के द्वारा रटाए गए पहाड़े आज काम आ गए।।
भुला नहीं हूँ मैं वो बचपन के दिन।
शनि और रविवार को दोस्तों के साथ खेलते थे भरदम।।
तभी पापा एक शनिवार की रात ले लिया था हमारा टेस्ट।
बहुत कम अंक आने पर उन्होंने दे दिया था पनिशमेंट।।
पनिशमेंट से कभी टेंशन नहीं हुआ था उस दिन तक।
क्योंकि पनिशमेंट का हो गया था मैं मास्टर।।
कभी उठा बैठक
तो कभी छड़ी से पिटाई
कभी धूप में खड़ा किया
तो कभी हाथ उठा कर खड़ा किया
इन सभी पनिश्मेन्ट की हो गई थी हमें आदत
जिनसे रोज मुलाकात होती थी
हमें स्कूल में जाकर।।

रविवार के दिन निकला था हाथ में बॉल लेकर
पापा वहीं खड़े थे छड़ी हाथ में तानकर।
कहाँ जा रहे हो?
ज़रा इधर तो आ जाओ।।
एक से दस तक का पहाड़ा तो सुनाओ।।
पापा आज मैच है।
ज़रा सा खेल के मैं आऊँ।।
उसके बाद मैं आपको
वो पहाड़ा को सुनाऊँ।।
बेटा मैं तेरा बाप हूँ
नहीं हूँ तेरा बेटा।
बेवकूफ़ किसी और को बनाना
पहले सुना दे मुझे पहाड़ा।।
फिर क्या था?
हर रविवार खेलता था मैं
पापा के साथ पहाड़ा।
पापा के कारण ही
आज मुकाम ये हासिल कर पाया।।






(आई लव यू पापा।।)





aaj phir se vo din mujhe yaad aa gaye।।

paapaa ke dvaaraa rataaa gaye pahaade aaj kaam aa gaye।।

bhulaa nahin hun main vo bachapan ke din।

shani aur ravivaar ko doston ke saath khelte the bharadam।।

tabhi paapaa ek shanivaar ki raat le liyaa thaa hamaaraa test।

bahut kam ank aane par unhonne de diyaa thaa panishment।।


  • punishment se kabhi tenshan nahin huaa thaa us din tak।


kyonki punishment kaa ho gayaa thaa main maastar।।

kabhi uthaa baithak

to kabhi chhdi se pitaai

kabhi dhup men khdaa kiyaa

to kabhi haath uthaa kar khdaa kiyaa

en sabhi panishment ki ho gayi thi hamen aadat

jinse roj mulaakaat hoti thi

hamen skul men jaakar।।


ravivaar ke din niklaa thaa haath men bal lekar

paapaa vahin khde the chhdi haath men taanakar।

kahaan jaa rahe ho?

jraa edhar to aa jaao।।

ek se das tak kaa pahaadaa to sunaao।।

paapaa aaj maich hai।

jraa saa khel ke main aaun।।

uske baad main aapko

vo pahaadaa ko sunaaun।।

betaa main teraa baap hun

nahin hun teraa betaa।

bevkuf kisi aur ko banaanaa

pahle sunaa de mujhe pahaadaa।।

phir kyaa thaa?

har ravivaar kheltaa thaa main

paapaa ke saath pahaadaa।

paapaa ke kaaran hi

aaj mukaam ye haasil kar paayaa।।




I love you papa

Written by sushil kumar








19 Aug 2018

Rag rag hamara kare pukar


Shayari


रग रग हमारा करे पुकार।

भारत माता की हो जय जयकार।।
रक्त के कतरा कतरा का यही दरकार।
हर बून्द से तेरी वजूद का रखेंगे ख्याल।।
जब कभी तेरी स्वाभिमान पर उठेंगें सवाल।
तेरी गरिमा के लिए
हम दे देंगे अपनी जान।।
देश भक्ति की भावना से
सींचेंगे हम अपना जहाँ।
सभी राष्ट्रों में अब्बल होगा
हमारा प्यार हिंदुस्तान।।

वन्दे मातरम
जय किसान
जय विज्ञान
जय जवान



rag rag hamaaraa kare pukaar।

bhaarat maataa ki ho jay jaykaar।।

rakt ke katraa katraa kaa yahi darkaar।

har bund se teri vajud kaa rakhenge khyaal।।

jab kabhi teri svaabhimaan par uthengen savaal।

teri garimaa ke lia

ham de denge apni jaan।।

desh bhakti ki bhaavnaa se

sinchenge ham apnaa jahaan।

sabhi raashtron men abbal hogaa

hamaaraa pyaar hindustaan।।


vande maataram

jay kisaan

jay vijyaan

jay javaan


Written by sushil kumar


Tu bhale hi dur rahe humse

Shayari


तू भले ही दूर रहे

हमसे।

पर हमेशा तू पास रहेगी
मेंरे दिल के।।
तू जो साँस ले रहा है
वहाँ पे।
दिल मेरा धड़क रहा है
यहाँ पे।।
तू जो खुश है वहाँ पे।
मेरे चेहरे पर सुकून है
यहाँ पे।।
तू जो गमगीन है वहाँ पे।
मेरे अश्रुओं को छिपाए हुए हूँ
मैं यहाँ पे।।
हर घड़ी बस यही दुआ है
रब से।
तेरी खैरियत बनी रहे सदा
इस जहाँ में।।




tu bhale hi dur rahe

hamse।

par hameshaa tu paas rahegi

menre dil ke।।

tu jo saans le rahaa hai

vahaan pe।

dil meraa dhdak rahaa hai

yahaan pe।।

tu jo khush hai vahaan pe।

mere chehre par sukun hai

yahaan pe।।

tu jo gamgin hai vahaan pe।

mere ashruon ko chhipaaa hua hun

main yahaan pe।।

har ghdi bas yahi duaa hai

rab se।

teri khairiyat bani rahe sadaa

es jahaan men।।


Written by sushil kumar

17 Aug 2018

Har dil yahan pyar ka bhukha hai

Shayari


हर दिल यहाँ प्यार का भूखा है।

छोटों से लेकर बड़ो तक
अमीर से लेकर गरीब तक
हर कोई यहाँ प्यार का भूखा है।
एक स्वीपर जो सुबह सुबह
आपके गली में झाड़ू मारता है।
आपके गली
आपके आसपास को साफ रखता है।
प्यार से दो शब्द बोल दो उसे।
थैंक यू सर।
जो उसका हक है।
उसका दिल गद गद हो जाएगा।
और अपने काम के प्रति उसकी निष्ठा जागेगी।।

हर दिल यहाँ प्यार का भूखा है।
छोटों से लेकर बड़ो तक
अमीर से लेकर गरीब तक
हर कोई यहाँ प्यार का भूखा है।
एक मातहत
जो आपके आफिस में काम करता है।
सुबह से शाम तक
अपने जीवन के हर दिन के
आठ घँटे आपको समर्पित करता है।
और अगर आप प्यार से शाम में
दो शब्द उसे बोल दें।
थैंक यू।
जो उसका हक है।
फिर देखिए अगले दिन
आपके मातहत का समर्पण।

हर दिल यहाँ प्यार का भूखा है।
हर दिल यहाँ प्यार का भूखा है।


har dil yahaan pyaar kaa bhukhaa hai।

chhoton se lekar bdo tak

amir se lekar garib tak

har koi yahaan pyaar kaa bhukhaa hai।

ek svipar jo subah subah

aapke gali men jhaadu maartaa hai।

aapke gali

aapke aaspaas ko saaph rakhtaa hai।

pyaar se do shabd bol do use।

thaink yu sar।

jo uskaa hak hai।

uskaa dil gad gad ho jaaagaa।

aur apne kaam ke prati uski nishthaa jaagegi।।


har dil yahaan pyaar kaa bhukhaa hai।

chhoton se lekar bdo tak

amir se lekar garib tak

har koi yahaan pyaar kaa bhukhaa hai।

ek maatahat

jo aapke aaphis men kaam kartaa hai।

subah se shaam tak

apne jivan ke har din ke

aath ghnte aapko samarpit kartaa hai।

aur agar aap pyaar se shaam men

do shabd use bol den।

thaink yu।

jo uskaa hak hai।

phir dekhia agle din

aapke maatahat kaa samarpan।


har dil yahaan pyaar kaa bhukhaa hai।

har dil yahaan pyaar kaa bhukhaa hai।

Written by sushil kumar

Tumhare sath hone par

Shayari



तुम्हारे साथ होने पर

समय का कुछ भी
पता ही नहीं चलता है।
सेकंड मिनट में और
मिनट कब घंटों में
तब्दील हो जाते हैं।
कुछ भी भनक नहीं पड़ता है।
ना ही भूख लगती है।
और ना ही प्यास लगती है।।
बस एक दूसरे की झील सी आँखों में
डूबे रहने का मन करता है।।

तुम हमें
और
हम तुम्हें
बातों का गुलदस्ता बना
यूँही देते रहें।
यादों का झूला बना
हम तुम
उसपे झूलते रहें।
कभी तुम मुझे झुलाओ
कभी हम तुम्हें  झुलाएँ।
ये सिलसिला
यूँही बस चलता रहे।।

प्यार भरे मौसम में
मोहब्बत की बरसात बस होती रहे।
हम और तुम
इश्क़ की बूंदा बाँदी में
यूँही भींगते रहें।
और एक दूसरे में
अपनी खुशी को
हम तलाशते रहें।।



tumhaare saath hone par

samay kaa kuchh bhi

pataa hi nahin chaltaa hai।

sekand minat men aur

minat kab ghanton men

tabdil ho jaate hain।

kuchh bhi bhanak nahin pdtaa hai।

naa hi bhukh lagti hai।

aur naa hi pyaas lagti hai।।

bas ek dusre ki jhil si aankhon men

dube rahne kaa man kartaa hai।।


tum hamen

aur

ham tumhen

baaton kaa guladastaa banaa

yunhi dete rahen।

yaadon kaa jhulaa banaa

ham tum

uspe jhulte rahen।

kabhi tum mujhe jhulaao

kabhi ham tumhen  jhulaaan।

ye silasilaa

yunhi bas chaltaa rahe।।


pyaar bhare mausam men

mohabbat ki barsaat bas hoti rahe।

ham aur tum

eshk ki bundaa baandi men

yunhi bhingte rahen।

aur ek dusre men

apni khushi ko

ham talaashte rahen।।



Written by sushil kumar

Atal Bihari Bajpayee


Shayari

Atal Bihari Bajpayee

कमाल की सादगी
मृदुल भाषी
दुश्मनों से भी दोस्तों सा व्यवहार
देश के लिए सदा सोचने वाले
खुले आसमान सा हृदय रखने वाला
हिमालय सा दृढ़ विश्वास रखने वाला
हर किसी को साथ लेकर चलने वाले
अपनी कविताओं से सकारात्मकता फैलाने वाला
और कोई नहीं
हमारे श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को भावभीनी श्रद्धांजलि।।

जय जवान
जय किसान
जय विज्ञान







kamaal ki saadgi

mriadul bhaashi

dushmnon se bhi doston saa vyavhaar

desh ke lia sadaa sochne vaale

khule aasmaan saa hriaday rakhne vaalaa

himaalay saa dridh vishvaas rakhne vaalaa

har kisi ko saath lekar chalne vaale

apni kavitaaon se sakaaraatmaktaa phailaane vaalaa

aur koi nahin

hamaare shri atal bihaari vaajpeyi ji ko bhaavbhini shraddhaanjali।।


jay javaan

jay kisaan

jay vijyaan



Written by sushil kumar

16 Aug 2018

Sach kahna yaaron

Shayari



सच कहना यारों।

आजकल के बच्चे
बच्चे नहीं
बल्कि सबके बाप
निकल ले रहे हैं।।
बाप को अपने मोबाइल की
पूरी टेक्नोलॉजी पता हो
ना हो।
बच्चे को सारा कुछ पता है।।
सारी दुनिया को उसने
अपने छोटे सी,नन्ही सी मुठ्ठी में
बन्द कर रखा है।।

बीवी पूछती है पति से
क्या अपने बिजली का बिल भरवाया?
पति परेशान हो बोलता है।
अभी कहाँ समय है पाया।।
बेटा वहीं सुन रहा वार्तालाप में
तपाक से सर घुसाया।
पापा आप परेशान क्यों होते हैं?
लाइए बिल ऑनलाइन हम भर देते हैं।

तो आजकल के बच्चों के क्या कहने
बिना कोई डिग्री और
बिना कोई प्रोफेशनल कोर्स किए
अपने बी टेक होल्डर बाप को पढ़ा रहे हैं।।
सच कहना यारों।
आजकल के बच्चे
बच्चे नहीं
बल्कि सबके बाप
निकल रहे हैं।।




sach kahnaa yaaron।

aajakal ke bachche

bachche nahin

balki sabke baap

nikal le rahe hain।।

baap ko apne mobaael ki

puri teknolaji pataa ho

naa ho।

bachche ko saaraa kuchh pataa hai।।

saari duniyaa ko usne

apne chhote si,nanhi si muththi men

band kar rakhaa hai।।


bivi puchhti hai pati se

kyaa apne bijli kaa bil bharvaayaa?

pati pareshaan ho boltaa hai।

abhi kahaan samay hai paayaa।।

betaa vahin sun rahaa vaartaalaap men

tapaak se sar ghusaayaa।

paapaa aap pareshaan kyon hote hain?

laaea bil aunlaaen ham bhar dete hain।


to aajakal ke bachchon ke kyaa kahne

binaa koi digri aur

binaa koi propheshanal kors kia

apne bi tek holdar baap ko pdhaa rahe hain।।

sach kahnaa yaaron।

aajakal ke bachche

bachche nahin

balki sabke baap

nikal rahe hain।


Written by sushil kumar

Kuch log machchhar ki tarah hote hain

Shayari



कुछ लोग मच्छर की तरह होते हैं।

देखते ही मारने का मन करता है।।
वो खुद तो नकारात्मक होते ही हैं।
हर जगह नकारात्मकता फैलाते हैं।।
खुद ही वो हताश रहते हैं।
और दूसरों को निरुत्साहित करते रहते हैं।।
चाहे जितना भी सकारात्मक आयोजन हो।
पर उसमे भी वो नकारात्मकता तलाशते हैं।।
कुछ लोग मच्छर की तरह होते हैं।
देखते ही मारने का मन करता है।।


kuchh log machchhar ki tarah hote hain।

dekhte hi maarne kaa man kartaa hai।।

vo khud to nakaaraatmak hote hi hain।

har jagah nakaaraatmaktaa phailaate hain।।

khud hi vo hataash rahte hain।

aur dusron ko nirutsaahit karte rahte hain।।

chaahe jitnaa bhi sakaaraatmak aayojan ho।

par usme bhi vo nakaaraatmaktaa talaashte hain।।

kuchh log machchhar ki tarah hote hain।

dekhte hi maarne kaa man kartaa hai।।


Written by sushil kumar

Soch

Shayari

Soch


कितना जिएँगे हम?
किसने जाना है?
कैसे जी रहें हैं हम?
सभी देख रहे हैं।।
भूत में ना भविष्य में।
अगर जीना ही है तो
जियो वर्तमान में।।
जो बीत गया
उसे बदल सकते नहीं।
आने वाले कल के लिए
वर्तमान में कार्य कर सकते हैं हम।
पर हम अपने अलबेले सोच से लाचार हैं।
कभी हमें भूत की गोद में
ले जाकर पटकता है।
और दकियानूसी ख्याल बनाता है।
तो कभी हमें भविष्य के कँधे
पर चढ़ा कर छोड़ आता है।
और ख्याली पुलाव बनाता है।।
वर्तमान को जितना है तो
सोच के जंजीर को तोड़ना
आना पड़ेगा।




kitnaa jiange ham?

kisne jaanaa hai?

kaise ji rahen hain ham?

sabhi dekh rahe hain।।

bhut men naa bhavishy men।

agar jinaa hi hai to

jiyo vartmaan men।।

jo bit gayaa

use badal sakte nahin।

aane vaale kal ke lia

vartmaan men kaary kar sakte hain ham।

par ham apne albele soch se laachaar hain।

kabhi hamen bhut ki god men

le jaakar pataktaa hai।

aur dakiyaanusi khyaal banaataa hai।

to kabhi hamen bhavishy ke kndhe

par chdhaa kar chhod aataa hai।

aur khyaali pulaav banaataa hai।।

vartmaan ko jitnaa hai to

soch ke janjir ko todnaa

aanaa pdegaa।


Written by sushil kumar

Hum tum

Shayari


हम तुम

तुम हम
कितने खुश रहते हैं।
जब हम एक साथ होते हैं।।
समय का पहिया
थम सा जाता है।
प्यार का नगमा
दिल गाता है।
एक पल में
कई सदियों की खुशी
सहेज कर
रखने का मन करता है।।
तुम्हारी हँसी, तुम्हारी खुशी
तुम्हारी नजाकत भरी अदाएँ।
कितना मनोहर लगता है
मन को।
जैसे सूने आसमान को मिल गया हो
सतरंगी इंद्रधनुष का साथ।।




ham tum

tum ham

kitne khush rahte hain।

jab ham ek saath hote hain।।

samay kaa pahiyaa

tham saa jaataa hai।

pyaar kaa nagmaa

dil gaataa hai।

ek pal men

kayi sadiyon ki khushi

sahej kar

rakhne kaa man kartaa hai।।

tumhaari hnsi, tumhaari khushi

tumhaari najaakat bhari adaaan।

kitnaa manohar lagtaa hai

man ko।

jaise sune aasmaan ko mil gayaa ho

satarangi endradhanush kaa saath।।


Written by sushil kumar

15 Aug 2018

Vande matram!!

Shayari

Vande matram


बड़ा भाग्यशाली हूँ माँ
जो तेरे कोख से जन्म लिया था।
ईश्वर से बस यही दुआ
हर रोज किया करता हूँ।
अगर कभी जन्म लूँ धरती पर
तेरे कोख से ही जन्म लूँ माँ।।

बचपन की यादें कुछ धूमिल हो गई हैं।
पर जेहन से एक बात
आज तक नहीं हट पाई है।।
पड़ोस में राम चाचा का
पार्थिव शरीर जो आया था।
सरहद पर शहीद हुए थे वे
दुश्मनों से दो दो हाथ लिया था।।
सारा गाँव
सारा कस्बा की छाती
गर्व से चौड़ी हो गया था।
आँखों से आँसूओं का
सैलाब बह निकला था।।
तभी माँ आप मेरे सिर पर
हाथ फेर कर कुछ कहा था।
बेटा तुम भी फौज में जाना
भारत माता को तुम्हारी जरूरत है।।

आज एक बात मैं
आपसे करना चाहता हूँ।
पर एक वादा चाहता हूँ आपसे
आँखे नम नहीं होने देंगे आप।।
आज सुबह आतंकियों ने
हमारे टेंट पर हमला किया था।
हमने भी जवाबी हमला करके
उन्हें ढेर वहीं किया था।।
जवाबी कार्यवाही में दो गोली
मुझे भी आकर लग गई थी।
एक गोली छाती में अटकी थी
दूसरी गोली कंधे में जा घुसी थी।।
बड़ा मीठा मीठा दर्द हो रहा था
साँस भी धीरे धीरे
मेरा साथ छोड़ रही था।।
तभी मुंह से दो शब्द
निकल पड़े अनायास ही ।
वन्दे मातरम!!
वन्दे मातरम!!
बहुत तेज़ प्रकाश हुआ
और प्रकाश के बीच से निकली एक देवी।
तिरंगा साड़ी पहने हुई थी
हमारी प्यारी
भारत माता।।
माँ आकर बैठ गई समीप
रखा सिर अपने गोद में।
बालों पर जो हाथ फेरा उन्होंने
पता नहीं कब आ गई नींद।।

जय हिंद
जय भारत
वन्दे मातरम
जय जवान
जी किसान




bdaa bhaagyshaali hun maan

jo tere kokh se janm liyaa thaa।

ishvar se bas yahi duaa

har roj kiyaa kartaa hun।

agar kabhi janm lun dharti par

tere kokh se hi janm lun maan।।


bachapan ki yaaden kuchh dhumil ho gayi hain।

par jehan se ek baat

aaj tak nahin hat paai hai।।

pdos men raam chaachaa kaa

paarthiv sharir jo aayaa thaa।

sarahad par shahid hua the ve

dushmnon se do do haath liyaa thaa।।

saaraa gaanv

saaraa kasbaa ki chhaati

garv se chaudi ho gayaa thaa।

aankhon se aansuon kaa

sailaab bah niklaa thaa।।

tabhi maan aap mere sir par

haath pher kar kuchh kahaa thaa।

betaa tum bhi phauj men jaanaa

bhaarat maataa ko tumhaari jarurat hai।।


aaj ek baat main

aapse karnaa chaahtaa hun।

par ek vaadaa chaahtaa hun aapse

aankhe nam nahin hone denge aap।।

aaj subah aatankiyon ne

hamaare tent par hamlaa kiyaa thaa।

hamne bhi javaabi hamlaa karke

unhen dher vahin kiyaa thaa।।

javaabi kaaryvaahi men do goli

mujhe bhi aakar lag gayi thi।

ek goli chhaati men atki thi

dusri goli kandhe men jaa ghusi thi।।

bdaa mithaa mithaa dard ho rahaa thaa

saans bhi dhire dhire

meraa saath chhod rahi thaa।।

tabhi munh se do shabd

nikal pde anaayaas hi ।

vande maataram!!

vande maataram!!

bahut tej prkaash huaa

aur prkaash ke bich se nikli ek devi।

tirangaa saadi pahne hui thi

hamaari pyaari

bhaarat maataa।।

maan aakar baith gayi samip

rakhaa sir apne god men।

baalon par jo haath pheraa unhonne

pataa nahin kab aa gayi nind।।


jay hind

jay bhaarat

vande maataram

jay javaan

ji kisaan


Written by sushil kumar







14 Aug 2018

Humare pahredar tainat hain

Shayari

Humare pahredar tainat hain


धूप हो
बरसात हो
दिन हो या रात हो
देश की रक्षा के लिए
हमारे पहरेदार तैनात हैं।।

हिमालय सा दृढ़विश्वास लेकर।
हाथ में हथियार लेकर।
दुश्मनों से दो दो हाथ
करने के लिए
हमारे सैनिक तैयार हैं।।

हमारी आज़ादी सलामत रहे।
देश की अखंडता बरकरार रहे।।
देश हमारा प्रगति करे।
लोग यहाँ खुशहाल रहें।।
हमारी खैरियत के वास्ते
फौज बहा रहीं हैं खून वहाँ।।

देश की सेवा करते करते
कुछ सैनिक शहिद हो जाते हैं।
उनके पार्थिव शरीर तिरंगे में
लिपटकर घर पर जब आते हैं।।
सारा गाँव
सारा देश
देशभक्ति से ओतप्रोत हो जाता है।
हर घर से माँ
अपने बच्चे को
देश के लिए तैयार करती है।।
सरहद की रक्षा के लिए
देश को अपना पूत समर्पित करती है।।

जय हिंद
जय भारत
जय जवान
जय किसान
जय विज्ञान








dhup ho

barsaat ho

din ho yaa raat ho

desh ki rakshaa ke lia

hamaare pahredaar tainaat hain।।


himaalay saa dridhvishvaas lekar।

haath men hathiyaar lekar।

dushmnon se do do haath

karne ke lia

hamaare sainik taiyaar hain।।


hamaari aajaadi salaamat rahe।

desh ki akhandtaa barakraar rahe।।

desh hamaaraa pragati kare।

log yahaan khushhaal rahen।।

hamaari khairiyat ke vaaste

phauj bahaa rahin hain khun vahaan।।


desh ki sevaa karte karte

kuchh sainik shahid ho jaate hain।

unke paarthiv sharir tirange men

lipatakar ghar par jab aate hain।।

saaraa gaanv

saaraa desh

deshabhakti se otaprot ho jaataa hai।

har ghar se maan

apne bachche ko

desh ke lia taiyaar karti hai।।

sarahad ki rakshaa ke lia

desh ko apnaa put samarpit karti hai।।


jay hind

jay bhaarat

jay javaan

jay kisaan

jay vijyaan


Written by sushil kumar








Hum hain hindustan ke

Shayari

Hum hain hindustan ke



हम ना बिहार के
ना ही हम गुजरात के।
ना ही हम बंगाल के
और ना ही हम महाराष्ट्र के।
हम हैं भारतीय
हम हैं हिंदुस्तान के।।

ना ही हम हिन्दू हैं
ना ही हम मुसलमान।
ना ही हम सिख हैं
ना ही हम इसाई।
हम हैं मानव
मानवता ही हमारा धर्म है।।

हम भारतीयों की कुछ बात खास है।
हमारी संस्कृति भी सभी से लाजवाब है।।
घर पर आए अतिथि
हमारे लिए भगवान है।
सारी पृथ्वी
हमारा एक परिवार है।।

आज जबकि हरेक की
जीवन शैली आधुनिक है।
हम भारतीयों का जीवन
परंपरा और मूल्यों के
आधार पर चल रही है।।

अपनी पुरानी सभ्यता पर
हमें बड़ा अभिमान है।।
गौतम बुद्ध और महावीर जैन आकर
हमें राह दिखा रहें हैं।।








ham naa bihaar ke

naa hi ham gujraat ke।

naa hi ham bangaal ke

aur naa hi ham mahaaraashtr ke।

ham hain bhaartiy

ham hain hindustaan ke।।


naa hi ham hindu hain

naa hi ham musalmaan।

naa hi ham sikh hain

naa hi ham esaai।

ham hain maanav

maanavtaa hi hamaaraa dharm hai।।


ham bhaartiyon ki kuchh baat khaas hai।

hamaari sanskriati bhi sabhi se laajvaab hai।।

ghar par aaa atithi

hamaare lia bhagvaan hai।

saari priathvi

hamaaraa ek parivaar hai।।


aaj jabaki harek ki

jivan shaili aadhunik hai।

ham bhaartiyon kaa jivan

parampraa aur mulyon ke

aadhaar par chal rahi hai।।


apni puraani sabhytaa par

hamen bdaa abhimaan hai।।

gautam buddh aur mahaavir jain aakar

hamen raah dikhaa rahen hain


Written by sushil kumar



Bhartiya hone par hamen garv hai

Shayari

Bhartiya hone par hamen garv hai



हमारी संस्कृति का विश्व धरातल पर उच्चतम स्थान है।
अतिथि देवो भवः और वसुधैव कुटुम्बकम पर
हमें सदा अभिमान है।।
अनेकता में एकता के लिए
हम विश्व विख्यात हैं।
मुस्लिम फटाखे फोड़ते हैं दीवाली में
और हिन्दू ईद मुबारक कहते हैं ईद में।
'अहिंसा परमो धर्म' के भाव वाले
ऐसे राष्ट्र में जन्म लेना
हमारा सौभाग्य है।।
स्वयं में सम्पूर्ण को समेटे हमारी संस्कृति महान है।।
हमारी संस्कृति महान है।।
जय हिंद।।
जय भारत।।




hamaari sanskriati kaa vishv dharaatal par uchchatam sthaan hai।

atithi devo bhavah aur vasudhaiv kutumbakam par

hamen sadaa abhimaan hai।।

anektaa men ektaa ke lia

ham vishv vikhyaat hain।

muslim phataakhe phodte hain divaali men

aur hindu id mubaarak kahte hain id men।

'ahinsaa parmo dharm' ke bhaav vaale

aise raashtr men janm lenaa

hamaaraa saubhaagy hai।।

svayan men sampurn ko samete hamaari sanskriati mahaan hai।।

hamaari sanskriati mahaan hai।।

jay hind।।

jay bhaarat।।


Written by sushil kumar

13 Aug 2018

Aa jao maa

Shayari

Aa jao maa


आज जब भी तकलीफ़ होती है।
दुनिया की बातें कचोटती है।।
घर बाहर
हर जगह से
जब
केवल तनाव ही महसूस होती है।।

बहुत याद आती हो माँ
जब तुम ढाल बनकर बीच
में आती थी।
मेरे अंदर के आत्मविश्वास को
पुनः तुम
श्री कृष्णा बनकर जगाती थी।।
और मैं अर्जुन उठ खड़ा होता था।
दुनिया से लोहा लेने को।।

आ जाओ माँ
आ जाओ फिर से
बहुत याद तुम्हारी आती है।।
आज फिर से मैं दुविधा में फँसा हूँ
खुद अपने ही चक्रव्यूह में।।




aaj jab bhi taklif hoti hai।

duniyaa ki baaten kachotti hai।।

ghar baahar

har jagah se

jab

keval tanaav hi mahsus hoti hai।।


bahut yaad aati ho maan

jab tum dhaal banakar bich

men aati thi।

mere andar ke aatmavishvaas ko

punah tum

shri kriashnaa banakar jagaati thi।।

aur main arjun uth khdaa hotaa thaa।

duniyaa se lohaa lene ko।।


aa jaao maan

aa jaao phir se

bahut yaad tumhaari aati hai।।

aaj phir se main duvidhaa men phnsaa hun

khud apne hi chakravyuh men।।

Written by sushil kumar

Aey ishwar

Shayari


हे ईश्वर!

आप मुझे सामर्थ्य बना दो।।
अपना नहीं।
दूसरों के सपनों को पूर्ण कर सकूँ
इतना योग्य बना दो।।

बेरोजगारों को रोजगार दिलाकर
उनका पेट पाल सकूँ।।

किसानों को उनके फसलों का
सही मूल्य दिला सकूँ।।

दुनिया के अराजक तत्वों को
सही राह दिखा सकूँ।।

हर मानव के दिल में
प्यार इश्क और मोहब्बत के
जज़्बात जगा सकूँ।।

हर कोई निःस्वार्थ होकर
हर दूसरे की मदद करे
ऐसा संसार बना सकूँ।।

जरूरतमंदों का पेट भर के
जो अपना पेट भरे
ऐसे भाव जगा सकूँ।

प्रतिस्पर्धा का भावना को छोड़कर।
सबका साथ
सबका विकास
के भावना को अपनाने
सभी मानव में दृढ़ निश्चय करवा सकूँ।।

हर मानव के मन के
सकारात्मक सोच के रोशनी से
सारे ब्रह्मांड को जगमगा सकूँ।।

हे ईश्वर!
आप मुझे सामर्थ्य बना दो।।
अपना नहीं।
दूसरों के सपनों को पूर्ण कर सकूँ
इतना योग्य बना दो।।




he ishvar!

aap mujhe saamarthy banaa do।।

apnaa nahin।

dusron ke sapnon ko purn kar sakun

etnaa yogy banaa do।।


berojgaaron ko rojgaar dilaakar

unkaa pet paal sakun।।


kisaanon ko unke phaslon kaa

sahi muly dilaa sakun।।


duniyaa ke araajak tatvon ko

sahi raah dikhaa sakun।।


har maanav ke dil men

pyaar eshk aur mohabbat ke

jjbaat jagaa sakun।।


har koi niahsvaarth hokar

har dusre ki madad kare

aisaa sansaar banaa sakun।।


jaruratamandon kaa pet bhar ke

jo apnaa pet bhare

aise bhaav jagaa sakun।


pratispardhaa kaa bhaavnaa ko chhodkar।

sabkaa saath

sabkaa vikaas

ke bhaavnaa ko apnaane

sabhi maanav men dridh nishchay karvaa sakun।।


har maanav ke man ke

sakaaraatmak soch ke roshni se

saare brahmaand ko jagamgaa sakun।।


he ishvar!

aap mujhe saamarthy banaa do।।

apnaa nahin।

dusron ke sapnon ko purn kar sakun

etnaa yogy banaa do।।


Written by sushil kumar






12 Aug 2018

Jimmedariyan hamesha khwahishon par bhari pad jati hain.

Shayari

Jimmedariyon hamesha khwahishon par bhari pad jati hain.


बचपन में ही
जिम्मेदारियों से मेरे कँधे झुक गए थे।
मम्मी पापा के कंधे तो हमारी जिम्मेदारी लेकर झुक गया।।
सारी ख्वाहिशों को ताख पर रख कर
मेरी भविष्य को साकार करने में जुट गए।।
आज जो कुछ भी बन पाया हूँ
उन ख्वाहिशों के कुर्बानी के कारण ही पाया हूँ।।
ख्वाहिशें तो मेरी भी थी।
मेरे पापा मुझे कार में स्कूल छोड़ने आए।।
पर उसके लिए
घर पर कार तो होनी चाहिए।।
पापा का मिडिल क्लास जॉब
स्कूल फीस मुश्किल से जुट पाता था।
पर वे अपना सपना भूलकर
हमारा भविष्य बनाने में लग गए।।
क्या इतना काफी नहीं था?
मेरा भी उनके बारे में सोचना।।
अब मेरी जिम्मेदारी थी कि
ज्यादा उन पर बोझ ना बनूँ।
अपनी जिम्मेदारी समझकर
उनके ख्वाहिशों को पूर्ण करूँ।।




bachapan men hi

jimmedaariyon se mere kndhe jhuk gaye the।

mammi paapaa ke kandhe to hamaari jimmedaari lekar jhuk gayaa।।

saari khvaahishon ko taakh par rakh kar

meri bhavishy ko saakaar karne men jut gaye।।

aaj jo kuchh bhi ban paayaa hun

un khvaahishon ke kurbaani ke kaaran hi paayaa hun।।

khvaahishen to meri bhi thi।

mere paapaa mujhe kaar men skul chhodne aaa।।

par uske lia

ghar par kaar to honi chaahia।।

paapaa kaa midil klaas jab

skul phis mushkil se jut paataa thaa।

par ve apnaa sapnaa bhulakar

hamaaraa bhavishy banaane men lag gaye।।

kyaa etnaa kaaphi nahin thaa?

meraa bhi unke baare men sochnaa।।

ab meri jimmedaari thi ki

jyaadaa un par bojh naa banun।

apni jimmedaari samajhakar

unke khvaahishon ko purn karun


Written by sushil kumar

11 Aug 2018

Kaisi raat thi vo

Shayari


कैसी रात थी वो।।

हम जब पहली बार मिले
कितना कंफ्यूज था।।
कितना नर्वस था।।
तुम्हें जो अभी तक देखा नहीं था।।
माँ बाबू जी ने
तुम्हारी नाक नक्श का तो कुछ ज्यादा ही बखान किया था।।
मेरी बहना भी कहाँ पिछे थी।
तुम्हारी सुंदरता की बड़ाई करते नहीं थकती थी।।
मुझे
पर बड़ा मन था ।।
इंगेजमेंट के पहले तुमसे एक बार मिल लूँ।
और तुम्हारे सुंदरता को मैं भी जरा आंक लूँ।।
पर ईश्वर को कुछ और ही मंजूर था।।
आज मन मेरा इतना नर्वस था।
इतना तो बोर्ड एग्जाम के रिजल्ट
आने वाले दिन भी नहीं था।।
जो तुम अपने भैया के साथ
स्टेज पर जो आई।
एक पल के लिए तो
सारा ब्रह्मांड ही रुक गया था।।
और मेरी आँखें तो जैसे
तुम्हारे चेहरे पर ही जम गई थी।।
मानो जैसे कोइ सुंदर सी अप्सरा
धीरे धीरे चली आ रही हो
समीप मेरे।।
अगले क्षणों में
अपने होशोहवास सम्हालते हुए।
अपने नजरों को जरा विश्राम देते हुए।।
पर दिल
मेरा अब काबू से बाहर जा रहा था।
और बेशर्म आँखो को क्या कहना
वो तो छुप छुप कर
तिरछी निगाहों से
जासूसी किए जा रही थी।
और दिल को ठंडक पहुँचा रही थी।।
मेरा दिल खुशी से जम्प पे जम्प मारे जा रहा था
और मैं उस खुशी का लिमिट
आज भी नाप पाने में असमर्थ हूँ।।
माँ पापा और बहना को
थम्प्स अप करके
उनकी पसंद पर
अपना ठप्पा लगा दिया।।
और हमारा इंगेजमेंट हो गया।।



kaisi raat thi vo।।

ham jab pahli baar mile

kitnaa kamphyuj thaa।।

kitnaa narvas thaa।।

tumhen jo abhi tak dekhaa nahin thaa।।

maan baabu ji ne

tumhaari naak naksh kaa to kuchh jyaadaa hi bakhaan kiyaa thaa।।

meri bahnaa bhi kahaan pichhe thi।

tumhaari sundartaa ki bdaai karte nahin thakti thi।।

mujhe

par bdaa man thaa ।।

engejment ke pahle tumse ek baar mil lun।

aur tumhaare sundartaa ko main bhi jaraa aank lun।।

par ishvar ko kuchh aur hi manjur thaa।।

aaj man meraa etnaa narvas thaa।

etnaa to bord egjaam ke rijalt

aane vaale din bhi nahin thaa।।

jo tum apne bhaiyaa ke saath

stej par jo aai।

ek pal ke lia to

saaraa brahmaand hi ruk gayaa thaa।।

aur meri aankhen to jaise

tumhaare chehre par hi jam gayi thi।।

maano jaise koe sundar si apsraa

dhire dhire chali aa rahi ho

samip mere।।

agle kshnon men

apne hoshohvaas samhaalte hua।

apne najron ko jaraa vishraam dete hua।।

par dil

meraa ab kaabu se baahar jaa rahaa thaa।

aur besharm aankho ko kyaa kahnaa

vo to chhup chhup kar

tirchhi nigaahon se

jaasusi kia jaa rahi thi।

aur dil ko thandak pahunchaa rahi thi।।

meraa dil khushi se jamp pe jamp maare jaa rahaa thaa

aur main us khushi kaa limit

aaj bhi naap paane men asamarth hun।।

maan paapaa aur bahnaa ko

thamps ap karke

unki pasand par

apnaa thappaa lagaa diyaa।।

aur hamaaraa engejment ho gayaa।।


Written by sushil kumar

Tumhen jab bhi waqt mile chale aao

Shayari



तुम्हें जब भी वक्त मिले

                     तुम चले आओ।।
अगर वक्त ना मिले
                      इतलाह हमें जरूर कर जाओ।।
तुम्हारी राह में हर घड़ी
                       ताकती रहती है ये अँखिया।।
तुम्हारी अक्स के दीदार में
                       धड़कता रहता है दिल हर पल।।
वो पल,वो घड़ी
                      कितनी अनमोल होती है मेरे लिए।।
जिस वक्त
              तुम होते हो मेरे साथ में।।
पूछो मेरे दिल से
                      जो अभी बहुत बेचैन था तुम्हारी यादों में।
हमारी आँखों के मिलन से ही
                      कैसे ठंडक मिली है मेरे हृदय को।।






tumhen jab bhi vakt mile

                     tum chale aao।।

agar vakt naa mile

                      etlaah hamen jarur kar jaao।।

tumhaari raah men har ghdi

                       taakti rahti hai ye ankhiyaa।।

tumhaari aks ke didaar men

                       dhdaktaa rahtaa hai dil har pal।।

vo pal,vo ghdi

                      kitni anmol hoti hai mere lia।।

jis vakt

              tum hote ho mere saath men।।

puchho mere dil se

                      jo abhi bahut bechain thaa tumhaari yaadon men।

hamaari aankhon ke milan se hi

                      kaise thandak mili hai mere hriaday ko।।


Written by sushil kumar

8 Aug 2018

Log kahte hain

Shayari


लोग कहते हैं

बिन जान पहचान के
कोई आपसे बात नहीं करता है।।
पर हमारी पहचान कब हुई
कि हम लिखते गए
और आप हमारी बात समझते गए।।
आप हमसे
और हम आपसे
कब जुड़ गए।।
और हमारा कारवाँ
कब निकल पड़ा
अपने मंजिल के तलाश में।।
भावनाओं के तार हमारे
कब जुड़ गए
कि हम
बिन कहे सुने ही
एक दूसरे के दिल को
चुटकियों में समझने लगें।




log kahte hain

bin jaan pahchaan ke

koi aapse baat nahin kartaa hai।।

par hamaari pahchaan kab hui

ki ham likhte gaye

aur aap hamaari baat samajhte gaye।।

aap hamse

aur ham aapse

kab jud gaye।।

aur hamaaraa kaarvaan

kab nikal pdaa

apne manjil ke talaash men।।

bhaavnaaon ke taar hamaare

kab jud gaye

ki ham

bin kahe sune hi

ek dusre ke dil ko

chutakiyon men samajhne lagen।


Written by sushil kumar

Main jitna bhi dur tumse hota chala jaun

Shayari


मैं जितना भी दूर
तुमसे होता चला जाऊँ।

उतना ही मैं खुद को 
तेरे पास पाऊँ।।
मैं कहीं भी रहूँ।
किसी भी कोने में जा बस जाऊँ।।
मेरे नाफरमानी सोच को ।
कहाँ से रोक पाऊँ।।
भरी महफ़िल में लोग हमसे
पूछ पूछ थक जाएँ।
खोए खोए रहते हैं बहुत
कुछ बात है तो बताएँ।।
मेरी जो अवस्था है
मैं क्या उनसे बताऊँ।
हर क्षण डूबा रहता हूँ
तेरे सुनहरे यादों में प्राणप्यारे।।




main jitnaa bhi dur
tumse hotaa chalaa jaaun।

utnaa hi main khud ko

tere paas paaun।।

main kahin bhi rahun।

kisi bhi kone men jaa bas jaaun।।

mere naapharmaani soch ko ।

kahaan se rok paaun।।

bhari mahfil men log hamse

puchh puchh thak jaaan।

khoa khoa rahte hain bahut

kuchh baat hai to bataaan।।

meri jo avasthaa hai

main kyaa unse bataaun।

har kshan dubaa rahtaa hun

tere sunahre yaadon men praanapyaare।।


Written by sushil kumar

Purush hone ki lachari

Shayari

Purush hone ki lachari




शादीशुदा हूँ यारों।
ऊपर से पत्नीव्रता।।
कल ही टीवी पर
आई थी एक खबर।
चार महिलाओं ने मिल
लूटी थी एक अबला पुरूष की इज्जत।।
घर से बाहर निकलने में भी
अब लगता है बड़ा डर।
पता नहीं
कहाँ पे भेड़िये घात लगाकर बैठे हों
लूटने को हमारी इज्ज़त।।

जहाँ भी जाता हूँ।
पत्नी पीछे से चली आती हैं।।
आखिर हूँ तो एक सुंदर पुरूष ना।
और हमारी जीवन भर रक्षा करने की
उन्होंने कसम जो खाई है।।
जमाना बहुत ही खराब हो गया है यारों।
वो तो धन्य है ईश्वर का
जो इस जन्म में हमने ऐसी पत्नी पाई है।






shaadishudaa hun yaaron।

upar se patnivrtaa।।

kal hi tivi par

aai thi ek khabar।

chaar mahilaaon ne mil

luti thi ek ablaa purush ki ejjat।।

ghar se baahar nikalne men bhi

ab lagtaa hai bdaa dar।

pataa nahin

kahaan pe bhediye ghaat lagaakar baithe hon

lutne ko hamaari ejjt।।


jahaan bhi jaataa hun।

patni pichhe se chali aati hain।।

aakhir hun to ek sundar purush naa।

aur hamaari jivan bhar rakshaa karne ki

unhonne kasam jo khaai hai।।

jamaanaa bahut hi kharaab ho gayaa hai yaaron।

vo to dhany hai ishvar kaa

jo es janm men hamne aisi patni paai hai।


Written by sushil kumar

Main khamosh baitha tha apne tasavvur mein

Shayari



मैं खामोश बैठा था अपने तस्व्वुर में।

कुछ नया विषय मिल जाए मुझे
लिखने को।।
तभी खुले बीच पर जाकर लेटा
उन रेतों पर।
जहाँ सागर की लहरें उठ रहीं थी
कुछ कहने को।।
मानो कह रहीं हों
ज़रा पास आ जाओ आज।
बहुत अकेला महसूस कर रहीं हूँ
मेरे कोई नहीं है पास।।
मैंने पाया कि
लहरें होने लगी हैं विक्राल।
मानो वो बस हमें
अपने हृदय की गहराई में
समाने को है तैयार।।
सागर का भयावह रूप देख
मेरे रोंगटे खड़े हो गए।
निकल भागा कल्पना की मृगतृष्णा से
जो मुझे निगलने को तैयार हुई।।



main khaamosh baithaa thaa apne tasvvur men।

kuchh nayaa vishay mil jaaa mujhe

likhne ko।।

tabhi khule bich par jaakar letaa

un reton par।

jahaan saagar ki lahren uth rahin thi

kuchh kahne ko।।

maano kah rahin hon

jraa paas aa jaao aaj।

bahut akelaa mahsus kar rahin hun

mere koi nahin hai paas।।

mainne paayaa ki

lahren hone lagi hain vikraal।

maano vo bas hamen

apne hriaday ki gahraai men

samaane ko hai taiyaar।।

saagar kaa bhayaavah rup dekh

mere rongte khde ho gaye।

nikal bhaagaa kalpnaa ki mriagatriashnaa se

jo mujhe nigalne ko taiyaar hui।।


Written by sushil kumar

Manavta ke chhaw tale

Shayari


मानवता के छाव तले।

कोई ऐसा जहाँ हम बनाए।।
प्यार के बरसात के सावन में।
भींग भींग
हम मन्द ही मन्द मुस्काए।।

खुशियों की गुलदस्तों से।
झोली सब की भर भर जाए।।
हर दिल आनंद में हो।
क्यों ना इस पल को
साथ मिलकर जी जाएँ।।

सारी सृष्टि पुलकित हो उठी हो।
काक भी मधुर स्वर में गीत गाए।।
जिसे देखो
बस खुल के जी रहा हो।
हर पल में खुशियों को
सिंच रहा हो।।

हम भी कोई भेद ना पालें।
दिल मे कोई द्वेष ना राखें।।
बस प्यार ही प्यार हो
एक दूजे के लिए।
क्यों ना
हम तुम मिलकर
खुशियों भरा एक बगिया बना लें।।





maanavtaa ke chhaav tale।

koi aisaa jahaan ham banaaa।।

pyaar ke barsaat ke saavan men।

bhing bhing

ham mand hi mand muskaaa।।


khushiyon ki guladaston se।

jholi sab ki bhar bhar jaaa।।

har dil aanand men ho।

kyon naa es pal ko

saath milakar ji jaaan।।


saari sriashti pulakit ho uthi ho।

kaak bhi madhur svar men git gaaa।।

jise dekho

bas khul ke ji rahaa ho।

har pal men khushiyon ko

sinch rahaa ho।।


ham bhi koi bhed naa paalen।

dil me koi dvesh naa raakhen।।

bas pyaar hi pyaar ho

ek duje ke lia।

kyon naa

ham tum milakar

khushiyon bharaa ek bagiyaa banaa len।।



Written by sushil kumar

Uthne lage hain sawal

Shayari


उठने लगे हैं सवाल

आज हमारी वजूद पे।
कहीं हम गुम तो नहीं हो गए हैं।
भरे इस महफ़िल में।।
हर जगह चकाचौंध है
पैसे और हैसियत वालों की।
जिसे देखो बस गुमान में है
अपने औकात के रसूख में।।
मैं ठहरा कवि।
प्रेम और भाईचारे के
भावनाओं से ओतप्रोत।।
मुझे भी बुला लिया।
किसी रसूख वाले ने प्रेम से।।
मैं पहुँचा उनके महफ़िल में।
बड़े ही अदब से।।
सूट डाल पहुँचा था।
ब्रांडेड रेमंड से।।
मेरे संग पहुँचे थे
कुछ और कवि भाईजान।
जान लगा डाली थी
जिन्होंने
रसूखदारों के लिए
कविता बनाने में।।
हमने ज़मीर खो दी है आज।
रसूखदारों के खजाने से।।
क्या हम वाकई जिंदा हैं।
अंतःकरण के दब जाने से।।




uthne lage hain savaal

aaj hamaari vajud pe।

kahin ham gum to nahin ho gaye hain।

bhare es mahfil men।।

har jagah chakaachaundh hai

paise aur haisiyat vaalon ki।

jise dekho bas gumaan men hai

apne aukaat ke rasukh men।।

main thahraa kavi।

prem aur bhaaichaare ke

bhaavnaaon se otaprot।।

mujhe bhi bulaa liyaa।

kisi rasukh vaale ne prem se।।

main pahunchaa unke mahfil men।

bde hi adab se।।

sut daal pahunchaa thaa।

braanded remand se।।

mere sang pahunche the

kuchh aur kavi bhaaijaan।

jaan lagaa daali thi

jinhonne

rasukhdaaron ke lia

kavitaa banaane men।।

hamne jmir kho di hai aaj।

rasukhdaaron ke khajaane se।।

kyaa ham vaakaayi jindaa hain।

antahakaran ke dab jaane se।


Written by sushil kumar



Apni safalta par itna bhi mat aitra

Shayari


अपनी सफलता पर इतना भी मत इतरा

ए बन्दे।
पता नहीं
कितनों की दुआओं का असर है ये।।
तू तो समझता है
अकेले तेरी मेहनत ने करिश्मा कर दिखाया है।
यहाँ तेरी माता ने
पता नहीं कितना उपवास और
कितना पूजा-पाठ
तेरी सफलता के लिए करवाया है।।
तेरे पिता ने भी पता नहीं
कितने पसीने बहाएँ हैं।
दो दो शिफ्ट कर के
तेरे एड्मिसन फ़ीस और क़िताबों के
खर्चे उठाएँ हैं।।
तेरी सफलता पे
तेरे माता पिता का
उतना ही हक़ है।
तू जानता है
उनके बिना शामिल हुए
तेरी खुशियाँ निरर्थक है।।




apni saphaltaa par etnaa bhi mat etraa

aye bande।

pataa nahin

kitnon ki duaaon kaa asar hai ye।।

tu to samajhtaa hai

akele teri mehanat ne karishmaa kar dikhaayaa hai।

yahaan teri maataa ne

pataa nahin kitnaa upvaas aur

kitnaa pujaa-paath

teri saphaltaa ke lia karvaayaa hai।।

tere pitaa ne bhi pataa nahin

kitne pasine bahaaan hain।

do do shipht kar ke

tere edmisan fis aur kitaabon ke

kharche uthaaan hain।।

teri saphaltaa pe

tere maataa pitaa kaa

utnaa hi hk hai।

tu jaantaa hai

unke binaa shaamil hua

teri khushiyaan nirarthak hai।।


Written by sushil kumar

Bhavishya ka soch soch kar

Shayari



भविष्य का सोच सोच कर।

वर्तमान को खराब कर रहा है।।
हर मनुष्य अपने आदत से।
अपना आज बर्बाद कर रहा है।।
कल वह काम कैसे होगा?
अगर हुआ
तो सब कुछ अच्छा हो जाएगा।
अगर नहीं हुआ तो फिर क्या होगा?
कल की क्या परिस्थिति होगी?
कल का किसने देखा है?
आज के खुशनुमा माहौल को छोड़।
कल में खुशियों को क्यों ढूंढ रहा है।।



bhavishy kaa soch soch kar।

vartmaan ko kharaab kar rahaa hai।।

har manushy apne aadat se।

apnaa aaj barbaad kar rahaa hai।।

kal vah kaam kaise hogaa?

agar huaa

to sab kuchh achchhaa ho jaaagaa।

agar nahin huaa to phir kyaa hogaa?

kal ki kyaa paristhiti hogi?

kal kaa kisne dekhaa hai?

aaj ke khushanumaa maahaul ko chhod।

kal men khushiyon ko kyon dhundh rahaa hai।।


Written by sushil kumar

Ahankar ko tyag do

Shayari



अहंकार को त्याग दो।

और भावनाओं को बहने दो।।
एक दो पग हम चलें आगे।
तुम पीछे-पीछे हमारे हो लो।।
कुछ होंगे दुख भरे पल।
जिसे सिंचा होगा अपने अश्कों के धारा से।।
कल हमारे आँखों में नमी थी।
आज तुम अपने आँसुओं को ना थमने दो।।
फिर कुछ तो होंगे कुछ खुशी भरे पल।
जिसे पिरोया गया होगा उल्लास के मोतियों से।।
जो आनंद और हर्ष कल हमने अपने दिल में महसूस किया था।
आज तुम उस खुशी को अपने चेहरे पर झलकने दो।।
कवि हूँ ना यारो।
अपनी भावनाओं का तुम्हारे भावनाओं से मिलाप करवाने दो।।
अहंकार को त्याग दो।
और भावनाओं को बहने दो।।


ahankaar ko tyaag do।

aur bhaavnaaon ko bahne do।।

ek do pag ham chalen aage।

tum pichhe-pichhe hamaare ho lo।।

kuchh honge dukh bhare pal।

jise sinchaa hogaa apne ashkon ke dhaaraa se।।

kal hamaare aankhon men nami thi।

aaj tum apne aansuon ko naa thamne do।।

phir kuchh to honge kuchh khushi bhare pal।

jise piroyaa gayaa hogaa ullaas ke motiyon se।।

jo aanand aur harsh kal hamne apne dil men mahsus kiyaa thaa।

aaj tum us khushi ko apne chehre par jhalakne do।।

kavi hun naa yaaro।

apni bhaavnaaon kaa tumhaare bhaavnaaon se milaap karvaane do।।

ahankaar ko tyaag do।

aur bhaavnaaon ko bahne do।।


Written by sushil kumar

Guru vachal

Shayari

Guru vachal


मैं अवगुण दूसरों की बताता रहा।
दूसरों को सदाचार सिखाता रहा।।
मानो मैं सर्व गुण निपुण हो।
और दुनिया सारी दुर्गुणों से भरी ।।
आत्मसुख बड़ा मिलता है।
दूसरों को सही राह दिखाकर।।
गुरु बनना आसान है।
पर उतना ही मुश्किल है
सही राह पर चल पाना।।
आज मैं भी भटक गया था।
तभी मुझे भी मिल गएँ एक गुरु वाचाल।।
और दिया भाषण बड़ा सा।
और कराया मेरे अवगुण से मुझे अवगत।।
फिर मैंने जब झाँका स्वयं में।
पाया खुद को अवगुणों का भंडार।।
फिर क्या
पहले खुद को सुधारने का मैने किया प्रण।
वरना गुरू बन नहीं दूँगा किसी को प्रवचन।।





main avagun dusron ki bataataa rahaa।

dusron ko sadaachaar sikhaataa rahaa।।

maano main sarv gun nipun ho।

aur duniyaa saari durgunon se bhari ।।

aatmasukh bdaa miltaa hai।

dusron ko sahi raah dikhaakar।।

guru bannaa aasaan hai।

par utnaa hi mushkil hai

sahi raah par chal paanaa।।

aaj main bhi bhatak gayaa thaa।

tabhi mujhe bhi mil gan ek guru vaachaal।।

aur diyaa bhaashan bdaa saa।

aur karaayaa mere avagun se mujhe avagat।।

phir mainne jab jhaankaa svayan men।

paayaa khud ko avagunon kaa bhandaar।।

phir kyaa

pahle khud ko sudhaarne kaa maine kiyaa pran।

varnaa guru ban nahin dungaa kisi ko pravachan।।


Written by sushil kumar

Log kahte hain

Shayari



लोग कहते हैं ।

आप बहुत सीधे हैं।।
जरा सा टेढ़े हो जाएँँ।
वरना लूट जाएँँगे कभी।।
में सोचा
मैं तो ठहरा कवि।
मेरे पास मेरी सोच है।।
जो देशभक्ति,भाईचारे,और प्यार के भावनाओं से ओतप्रोत है।।
बड़े बुजुर्गों के आशीष है।
छोटों का प्यार है।।
अगर कोई लूटेगा भी
तो मेरे विचार ही लूटेगा ना।
लूटने दो।।
अभी अकेला ही अपने  विचार की
धारा को फैला रहा था।
बाद में हम मिलकर अपनी सोच को लोगों तक पहुंचाएँँगे


और लोगों के जीवन को सरल बनाएँँगे।।









Log kahte hain ।

aap bahut sidhe hain।।

jaraa saa tedhe ho jaaann।

varnaa lut jaaannge kabhi।।

men sochaa

main to thahraa kavi।

mere paas meri soch hai।।

jo deshabhakti,bhaaichaare,aur pyaar ke bhaavnaaon se otaprot hai।।

bde bujurgon ke aashish hai।

chhoton kaa pyaar hai।।

agar koi lutegaa bhi

to mere vichaar hi lutegaa naa।

lutne do।।

abhi akelaa hi apne  vichaar ki

dhaaraa ko phailaa rahaa thaa।

baad men ham milakar apni soch ko logon tak pahunchaaannge



aur logon ke jivan ko saral banaaannge


Written by sushil kumar

Mere humsafar

Shayari

Mere humsafar

तेरा साथ चाहिए।
जीवन के हर मोड़ पर।।
बिन तेरे मुश्किल है।
एक कदम बढ़ाना।।
कैसा भी सफ़र हो।
कितने भी मुश्किलें हों राह में।।
हर सफ़र सुहाना सा हो जाता है  ।
जो तेरा साथ नसीब हो जाता है मेरे हमराही।।
मेरे पग एक पल के लिए डगमगा से जाते हैं।
जो तू कभी आँखों से ओझल जो हो जाता है मेरे समारोही।।
कभी तू मेरा साथ ना छोड़ना ।
वरना मैं कहीं गुम ना हो जाऊँ इस भीड़ में मेरे हमसफऱ।।




teraa saath chaahia।

jivan ke har mod par।।

bin tere mushkil hai।

ek kadam bdhaanaa।।

kaisaa bhi sfar ho।

kitne bhi mushkilen hon raah men।।

har sfar suhaanaa saa ho jaataa hai  ।

jo teraa saath nasib ho jaataa hai mere hamraahi।।

mere pag ek pal ke lia dagamgaa se jaate hain।

jo tu kabhi aankhon se ojhal jo ho jaataa hai mere samaarohi।।

kabhi tu meraa saath naa chhodnaa ।

varnaa main kahin gum naa ho jaaun es bhid men mere hamasaphar।।


Written by sushil kumar

Maa! kahan ho maa??

Shayari

Maa!Kahan ho maa??



माँ आपके गोद में
जन्नत सा महसूस होता था
जितनी भी तनाव रहे हृदय में
छू मंतर सा हो जाता था
यहाँ अकेला दूर आपसे
आपकी कमी महसूस बहुत करता हूँ
तनाव तो इतना है यहाँ पे
सर फट फट सा जाता है
कितना भी मरहम और दवाई लेलूँ
चैन नहीं अब दिल को आता है
आ जाइए माँ 
आ जाइए फिर से
अपने लल्ले को गोद में सुलाने को
वरना मैं निकलता हूँ 
इस जहाँ से
ईश्वर के गोद में सो जाने को।


maan aapke god men

jannat saa mahsus hotaa thaa

jitni bhi tanaav rahe hriaday men

chhu mantar saa ho jaataa thaa

yahaan akelaa dur aapse

aapki kami mahsus bahut kartaa hun

tanaav to etnaa hai yahaan pe

sar phat phat saa jaataa hai

kitnaa bhi maraham aur davaai lelun

chain nahin ab dil ko aataa hai

aa jaaea maan

aa jaaea phir se

apne lalle ko god men sulaane ko

varnaa main nikaltaa hun

es jahaan se

ishvar ke god men so jaane ko।


Written by sushil kumar

Insaan hun

Shayari



इंसान हूँ।

इंसानियत से हमें जीना सीखने दो।।
दो पल की है
ये जिंदगी।
इसमें मिठास भरने दो।।
बेरंग सी जीवन को।
खुशियों के रंगों से रंगने दो।।
हर कष्ट से लाचार जिंदगानी से।
दुख के बादल को छांटने दो।।
मानव को मानवता से।
आज मिलाप करवाने दो।।
हर दिल में
एक दूसरे के लिए।
प्यार इश्क़ और मोहब्बत के
जज्बात को जगाने दो।।
इंसान हूँ।
इंसानियत से हमें जीना सीखने दो।।





ensaan hun।

ensaaniyat se hamen jinaa sikhne do।।

do pal ki hai

ye jindgi।

esmen mithaas bharne do।।

berang si jivan ko।

khushiyon ke rangon se rangne do।।

har kasht se laachaar jindgaani se।

dukh ke baadal ko chhaantne do।।

maanav ko maanavtaa se।

aaj milaap karvaane do।।

har dil men

ek dusre ke lia।

pyaar eshk aur mohabbat ke

jajbaat ko jagaane do।।

ensaan hun।

ensaaniyat se hamen jinaa sikhne do।



Written by sushil kumar

Hum kavi hain

Shayari


हम कवि हैं

हमारे भावनाओं को बहने दो
हम आजाद गगन के पंक्षी हैं
हमें मस्त नीले अम्बर में उड़ने दो
हम आज की आवाज़ हैं
हमें हर धड़कन में धड़कने दो
हम लोगों के जज्बात में हैं
हर सपने को सार्थक करने दो
हम देश की आवाज में हैं
हर देशवासियों के दिल में देशभक्ति भरने दो
हम हर माँ के आशीर्वाद में हैं
हर बच्चे की तक़दीर हमें बदलने दो
हम कवि हैं
हमारे भावनाओं को बहने दो


ham kavi hain

hamaare bhaavnaaon ko bahne do

ham aajaad gagan ke pankshi hain

hamen mast nile ambar men udne do

ham aaj ki aavaaj hain

hamen har dhdakan men dhdakne do

ham logon ke jajbaat men hain

har sapne ko saarthak karne do

ham desh ki aavaaj men hain

har deshvaasiyon ke dil men deshabhakti bharne do

ham har maan ke aashirvaad men hain

har bachche ki tkdir hamen badalne do

ham kavi hain

hamaare bhaavnaaon ko bahne do



Written by sushil kumar



Aaj hamara mann bahut uchat pada hua hai.

Shayari



आज हमारा मन बहुत उचाट पड़ा है

कहीं घूम कर आएँ हम।।
कोई नई फिल्म आई क्या थिएटर में
जरा समाचार पत्र को पलटाए हम।।
संजू कैसी फिल्म है
जरा आलोचकों को पढ़ जाएँ हम।।
अच्छी आलोचना मिली है इसको
तो चलो फिल्म देखकर आएँ हम।।
पहुँचे थिएटर खरीदें टिकट
साथ में आलू चिप्स और एक ठंडा भी लिए।।
ट्रेलर खत्म हुआ,फिल्म शुरु हुई
रनवीर कपूर की एन्ट्री आई जो।।
पूरा ठिएटर सीटीयों से गूँज गया
क्या खूब संजू की नकल निकाली वो।।
कब शुरू और कब समाप्त हो गई
समय का पता नहीं चल पाया था।।
पूरी फिल्म में एहसास हुआ यों
खुद संजय दत्त ने अभिनय निभाया था।।
मन जो उचाट था सुबह में
सकारात्मक उर्जा से अब भर आया था।।



aaj hamaaraa man bahut uchaat pdaa hai

kahin ghum kar aaan ham।।

koi nayi philm aai kyaa thiatar men

jaraa samaachaar patr ko paltaaa ham।।

sanju kaisi philm hai

jaraa aalochkon ko pdh jaaan ham।।

achchhi aalochnaa mili hai esko

to chalo philm dekhakar aaan ham।।

pahunche thiatar khariden tikat

saath men aalu chips aur ek thandaa bhi lia।।

trelar khatm huaa,philm shuru hui

ranvir kapur ki entri aai jo।।

puraa thiatar sitiyon se gunj gayaa

kyaa khub sanju ki nakal nikaali vo।।

kab shuru aur kab samaapt ho gayi

samay kaa pataa nahin chal paayaa thaa।।

puri philm men ehsaas huaa yon

khud sanjay datt ne abhinay nibhaayaa thaa।।

man jo uchaat thaa subah men

sakaaraatmak urjaa se ab bhar aayaa thaa

Written by sushil kumar

Isliye abhi tak tu zinda hai.

Shayari

Isliye abhi tak tu zinda hai.



प्रकृति हमारी माता है
बिन सोचे,बिन समझे
हमारे कर्मों को वो उठाती हैं।।
क्योंकि वो हमारी माता है ना।।

कभी हम वृक्षों को काट देते हैं
तो कभी उपजाऊ जमीन पर अपने लिए आशियाना बनवा लेते हैं।।
बिना भविष्य सोचे
बस अपनी सहुलियत के लिए
माँ को लहुलुहान कर देते हैं।।
माँ सहती रहती है
क्योंकि वो हमारी माता हैं ना।।

कब तक
कब तक माँ मितभाषी बनकर
हमेशा हमें सचेतती रहेगी।।
आँधी-बवंडर,भूकंप-ज्वालामुखी से
कब तक हमें सहेजती रहेगी।।
हमारे गलतियों को अनदेखी कर करके
कब तक अपने गोद में सुलाती रहेगी।
माँ को हमने जख्म दे देकर
उनके घाव को फिर से कुरेदा है।।
अब तो जरा संभल जा रे बंदे
माँ है
इसलिए अभी तक तू जिंदा है।।






prakriati hamaari maataa hai

bin soche,bin samjhe

hamaare karmon ko vo uthaati hain।।

kyonki vo hamaari maataa hai naa।।


kabhi ham vriakshon ko kaat dete hain

to kabhi upjaau jamin par apne lia aashiyaanaa banvaa lete hain।।

binaa bhavishy soche

bas apni sahuliyat ke lia

maan ko lahuluhaan kar dete hain।।

maan sahti rahti hai

kyonki vo hamaari maataa hain naa।।


kab tak

kab tak maan mitbhaashi banakar

hameshaa hamen sachetti rahegi।।

aandhi-bavandar,bhukamp-jvaalaamukhi se

kab tak hamen sahejti rahegi।।

hamaare galatiyon ko andekhi kar karke

kab tak apne god men sulaati rahegi।

maan ko hamne jakhm de dekar

unke ghaav ko phir se kuredaa hai।।

ab to jaraa sambhal jaa re bande

maan hai

esalia abhi tak tu jindaa hai।


Written by sushil kumar

Jaan se pyare ho aap

Shayari



जान से प्यारे हो आप

दिल के चहिते हो आप।।
आपके पास रहने से
हर मुश्किल से मुश्किल घड़ी
बड़ी सुगमता से कट जाता है यों।।
मानो कि पिछले जन्म में
हमने कुछ अच्छे कर्म किए होंं
जिसके फल स्वरूप इस जन्म में मिले हो आप।।
जीवन धारा के मझधार में
ऊतार चढ़ाव तो भरा हुआ होता ही है।।
पर आप जैसा नाविक मिल जाए तो
किनारे तक पहुँचना बड़ा सहज हो जाता है।।







jaan se pyaare ho aap

dil ke chahite ho aap।।

aapke paas rahne se

har mushkil se mushkil ghdi

bdi sugamtaa se kat jaataa hai yon।।

maano ki pichhle janm men

hamne kuchh achchhe karm kia honn

jiske phal svrup es janm men mile ho aap।।

jivan dhaaraa ke majhdhaar men

utaar chdhaav to bharaa huaa hotaa hi hai।।

par aap jaisaa naavik mil jaaa to

kinaare tak pahunchnaa bdaa sahaj ho jaataa hai।

Written by sushil kumar

Har koi ho raha hai yahan depression ka shikar

Shayari



हर कोई हो रहा है यहाँ डिप्रैशन का शिकार।।

क्या शिक्षक,क्या बैंकर
जिसे देखो बस अंदर ही अंदर
वह घूट रहा है।।
जी रहा है मसला मसला
सभी लोगों में वह पिछड़ा पिछड़ा।।
हिनता की भावना दिल में लिए
मानो कूचला हुआ हो
किस्मत का मारा।।
कोई भी यहाँ संतुष्ट नहीं है
दिल में किसी के सुकून नहीं है।।
किसी को गाड़ी घोड़ा चाहिए
तो कोई बंगले के लिए है परेशान।।
हर किसी के चेहरे से गुम हो गई हँसी
कोई ढूंढ कर लादे उसकी खोई हुई खुशी।।
अगर ऐसी ही स्थिति बनी रही हमारी
शायद ही कोई मनुष्य बचेंगे
जिनमें नहीं होगी कोई बिमारी।।
इसलिए हँसना सीख ले मेरे भाई।।



har koi ho rahaa hai yahaan dipraishan kaa shikaar।।

kyaa shikshak,kyaa bainkar

jise dekho bas andar hi andar

vah ghut rahaa hai।।

ji rahaa hai maslaa maslaa

sabhi logon men vah pichhdaa pichhdaa।।

hintaa ki bhaavnaa dil men lia

maano kuchlaa huaa ho

kismat kaa maaraa।।

koi bhi yahaan santusht nahin hai

dil men kisi ke sukun nahin hai।।

kisi ko gaadi ghodaa chaahia

to koi bangle ke lia hai pareshaan।।

har kisi ke chehre se gum ho gayi hnsi

koi dhundh kar laade uski khoi hui khushi।।

agar aisi hi sthiti bni rahi hamaari

shaayad hi koi manushy bachenge

jinmen nahin hogi koi bimaari।।

esalia hnasnaa sikh le mere bhaai।।


Written by sushil kumar

Mujhe apne rangon mein mila le maula


Shayari

Mujhe apne rangon mein mila le maula



चैन चला गया
नींद चली गई
ना खाने का होश है
ना पीने का होश है
बस किसी की यादों में
सारा दुनिया को भूला दिया ।।
बस उनकी एक झलक पाने को
हमारा दिल यों तड़प रहा ।।
जैसे कि किसी मछली को जल से
बाहर निकाल दिया हो।।
ख्वाहिश अब फकीरे दिल की बाकी कुछ रही नहीं
मानो मौला को पा लिया हो उसने
उस शक्शियत में।।
जहाँँ भी नजर पड़ी है
अक्स उनकी वहींं नजर आई है।।
ईश्वर से हमने बस यही दुआ की है 
खुशियाँँ उनकी सलामत रहे हमेशा
बाकी दुख दर्द सारे
हमारे नसीब में आ जाए।।
या तो मेरी जान से मुझे मिला दे
या मुझे अपने रंगों में मिला ले मौला।।



chain chalaa gayaa

nind chali gayi

naa khaane kaa hosh hai

naa pine kaa hosh hai

bas kisi ki yaadon men

saaraa duniyaa ko bhulaa diyaa ।।

bas unki ek jhalak paane ko

hamaaraa dil yon tdap rahaa ।।

jaise ki kisi machhli ko jal se

baahar nikaal diyaa ho।।

khvaahish ab phakire dil ki baaki kuchh rahi nahin

maano maulaa ko paa liyaa ho usne

us shakshiyat men।।

jahaann bhi najar pdi hai

aks unki vahinn najar aai hai।।

ishvar se hamne bas yahi duaa ki hai

khushiyaann unki salaamat rahe hameshaa

baaki dukh dard saare

hamaare nasib men aa jaaa।।

yaa to meri jaan se mujhe milaa de

yaa mujhe apne rangon men milaa le maulaa।।

Written by sushil kumar





Paani ki moti moti bunden

Shayari


पानी की मोटी मोटी बूँदें

जब हमारे गालों को छू जाती है।।
ऐसा एहसास होता है
मानो कूदरत ने हमें चूम लिया हो।।
जब ठंडी ठंडी हवाएँ
हमारे बदन को सहलाती है
ऐसा एहसास होता है
जैसे मानो पूरे शरीर में ताजगी भर गई हो।।
जब खुले आसमान के तले
हम तन्हा तन्हा बैठे आघाते हैं
और फिर दूर से टिमटिमाते तारें
मानो हमें नजर मार जाते हैं।।
ऐसा आभास होता है
जैसे मानो कि कोई दोस्त ने चिढ़ाया हो।।
समुंद्र तट पर लहरें जो
हमें छूकर वापस जाती है।।
ऐसा एहसास होता है
जैसे मेरी महबूबा
अपने आगोश में मुझे बुलाती हो।।
और अपने सारे गहरे दफन राज को
मुझे बताना चाहती हो।।





paani ki moti moti bunden

jab hamaare gaalon ko chhu jaati hai।।

aisaa ehsaas hotaa hai

maano kudarat ne hamen chum liyaa ho।।

jab thandi thandi havaaan

hamaare badan ko sahlaati hai

aisaa ehsaas hotaa hai

jaise maano pure sharir men taajgi bhar gayi ho।।

jab khule aasmaan ke tale

ham tanhaa tanhaa baithe aaghaate hain

aur phir dur se timatimaate taaren

maano hamen najar maar jaate hain।।

aisaa aabhaas hotaa hai

jaise maano ki koi dost ne chidhaayaa ho।।

samundr tat par lahren jo

hamen chhukar vaapas jaati hai।।

aisaa ehsaas hotaa hai

jaise meri mahbubaa

apne aagosh men mujhe bulaati ho।।

aur apne saare gahre daphan raaj ko

mujhe bataanaa chaahti ho।।


Written by sushil kumar

Jit apni sunischit kar

Shayari



जीत अपनी सुनिश्चित कर

कुछ करना है, तो डटकर चल,
           थोड़ा दुनियां से हटकर चल,
लीक पर तो सभी चल लेते है,
          कभी इतिहास को बदलकर चल,
बिना काम के मुकाम कैसा ?
          बिना मेहनत के, दाम कैसा ?
जब तक ना हासिल हो मंज़िल
          तो राह में, राही का आराम कैसा ?
अर्जुन सा निशाना रख
          ना कोई बहाना रख !
लक्ष्य सामने है तुम्हारे
           उसी पर अपना उद्देश्य रख !!
ज्यादा सोच मत, कर्म कर,
             सपने को साकार कर !
मिलेगा तेरा मेहनत का फल,
             किसी ओर का ना इंतज़ार कर !!
जो चले थे अकेले
             उनके पीछे आज हैं मेले  ...
जो कर रहे थे इंतज़ार
             उनकी जिंदगी में आज भी हैं झमेले !!




jit apni sunishchit kar

kuchh karnaa hai, to datakar chal,

           thodaa duniyaan se hatakar chal,

lik par to sabhi chal lete hai,

          kabhi etihaas ko badalakar chal,

binaa kaam ke mukaam kaisaa ?

          binaa mehanat ke, daam kaisaa ?

jab tak naa haasil ho manjil

          to raah men, raahi kaa aaraam kaisaa ?

arjun saa nishaanaa rakh

          naa koi bahaanaa rakh !

lakshy saamne hai tumhaare

           usi par apnaa uddeshy rakh !!

jyaadaa soch mat, karm kar,

             sapne ko saakaar kar !

milegaa teraa mehanat kaa phal,

             kisi or kaa naa entjaar kar !!

jo chale the akele

             unke pichhe aaj hain mele  ...

jo kar rahe the entjaar

             unki jindgi men aaj bhi hain jhamele !!



Written by sushil kumar

Kya khub zindagi thi bachpan ki

Shayari

क्या खूब ज़िंदगी थी बचपन की


शिक्षक का खौफ
होमवर्क का प्रैशर
मानो पूरी दुनिया का बोझ
हमारे कंधों पर है रखा।।
जो होमवर्क कंप्लीट हो
तो किसी के बाप से ना डरता।।
पर जिस दिन होमवर्क कंप्लीट नहीं हो
तो पिछवाड़ा लाल हो जाता।।
और उस दिन अपने उम्र को
मैं खूब था कोसता।।
जो मैं भी जवान होता
तो पिछवाड़ा हमारा कौन लाल करता।।
क्या जिंदगी है जवानी की
मस्त कमाओ खाओ घूमो
और ऐश करो।।
आज मैं जवान हूँ
और अपनी स्थिति से वाकिफ हूँ।।
सौ टेंसन की दुकान
दिमाग में खोलकर बैठा हूँ।।
गर्लफ्रैंड को क्या गिफ्ट देना है।
तो कौन सा जोब मुझे लेना है।
एक टेंसन खत्म नहीं
दस और द्वार पर खड़ी हो जाती है।।
क्या खूब जिंदगी थी बचपन की
आज खूब तूझे याद करता हूँ।।




shikshak kaa khauph

homavark kaa praishar

maano puri duniyaa kaa bojh

hamaare kandhon par hai rakhaa।।

jo homavark kamplit ho

to kisi ke baap se naa dartaa।।

par jis din homavark kamplit nahin ho

to pichhvaadaa laal ho jaataa।।

aur us din apne umr ko

main khub thaa kostaa।।

jo main bhi javaan hotaa

to pichhvaadaa hamaaraa kaun laal kartaa।।

kyaa jindgi hai javaani ki

mast kamaao khaao ghumo

aur aish karo।।

aaj main javaan hun

aur apni sthiti se vaakiph hun।।

sau tensan ki dukaan

dimaag men kholakar baithaa hun।।

garlaphraind ko kyaa gipht denaa hai।

to kaun saa job mujhe lenaa hai।

ek tensan khatm nahin

das aur dvaar par khdi ho jaati hai।।

kyaa khub jindgi thi bachapan ki

aaj khub tujhe yaad kartaa hun।।


Written by sushil kumar

Mann tu haar mat.

Shayari



मन तू हार मत

           असफलता से डगमगा मत।।
अभी तो तेरी शुरूआत है
            महा जंग अभी बाकी है।।
प्रयास तू जारी रख
             अपनी हार का समालोचना कर।।
खुद को मजबूत कर
              अपनी कमजोर नस में रक्त भर।।
स्वयं को जला अग्नि में
               सूर्य सा प्रखर बन।।
योजना तू बना ऐसा
                लक्ष्य को ध्यान में रख।।
वीर शिवाजी सा तू
                 अपने उद्देश्य पर अडिग बन।।
औरंगजेब पर चढ़ाई कर
                   ले किला अपना वापस।।
मैदान में ऊतर जा तू
                   अपने हौसले को मजबूत रख।।
जीत अपनी कर ले पक्की
                 चाहे जितनी आए आज राह मे रुकावट।।




man tu haar mat

           asaphaltaa se dagamgaa mat।।

abhi to teri shuruaat hai

            mahaa jang abhi baaki hai।।

pryaas tu jaari rakh

             apni haar kaa samaalochnaa kar।।

khud ko majbut kar

              apni kamjor nas men rakt bhar।।

svayan ko jalaa agni men

               sury saa prakhar ban।।

yojnaa tu banaa aisaa

                lakshy ko dhyaan men rakh।।

vir shivaaji saa tu

                 apne uddeshy par adig ban।।

aurangjeb par chdhaai kar

                   le kilaa apnaa vaapas।।

maidaan men utar jaa tu

                   apne hausle ko majbut rakh।।

jit apni kar le pakki

                 chaahe jitni aaa aaj raah me rukaavat।।


Written by sushil kumar

         

Chunautiyon hamare zinda hone ka praman deti hain

Shayari



चुनौतियाँ हमारे जिंदा होने का प्रमाण देती है

वरना मरणोपरांत कौन सी बाधाएं हमारे पास आती हैं।।
जीवन की बहती धारा हमेशा एक संदेश दे जाती है
संघर्ष करने वालों की ही जीत हमेशा होती है।।
असफलता से डर कर बैठ जाने वालों की हार हो जाती है
वैसे कायर लोगों की मौत भी बड़ी दुर्गति से आती है।।
जोश और उत्साह के साथ
मुसीबत के लहरोंं का तू सामना कर
जिंदा रहना है तूझे
तो जीत के लिए सदा प्रयास कर।।




chunautiyaan hamaare jindaa hone kaa prmaan deti hai

varnaa marnopraant kaun si baadhaaan hamaare paas aati hain।।

jivan ki bahti dhaaraa hameshaa ek sandesh de jaati hai

sangharsh karne vaalon ki hi jit hameshaa hoti hai।।

asaphaltaa se dar kar baith jaane vaalon ki haar ho jaati hai

vaise kaayar logon ki maut bhi bdi durgati se aati hai।।

josh aur utsaah ke saath

musibat ke lahronn kaa tu saamnaa kar

jindaa rahnaa hai tujhe

to jit ke lia sadaa pryaas kar।।



Written by sushil kumar

Hum aapse beinteha mohabbat karte hain

Shayari



हम आपसे बेइंतहा मोहब्बत करते हैं।

हर वक्त बस आपके साथ बिताए पलों को संजोये रहते हैं।।
वो मीठी मीठी नोंक झोंक
और हमारा रूठ के कोने में बैठ जाना।
खाने के वक्त
वो आपका हमें खाने पर बुलाना।।
बेडरूम में आ जाने पर
 हमारा सोने का बहाना करना।।
फिर आपका आकर हमें पेट में गुदगुदी लगाना
और आपके स्पर्श मात्र से ही
हमारा गुश्शा का शाँँत हो जाना।।
बहुत याद करता हूँ
आपके साथ बिताए पल।।
बिना इन यादों असंभव है
हमारा कर पाना जीवन बसर।।
फिर हमारा ओफिस में बोस के साथ झगड़ना
और घर पहुँचने पर
हमारा ऊतरा हुआ चेहरे को देखना।।
फिर हमारे सर पर आपका हाथ का यों फेरना
और सर दर्द का देखते देखते छू मंतर हो जाना।।
बड़ा शुकुन दे जाता है
वह पल को याद करना।।
बिना इन यादों के असंभव है
हमारा कर पाना जीवन बसर।।



ham aapse beenthaa mohabbat karte hain।

har vakt bas aapke saath bitaaa palon ko sanjoye rahte hain।।

vo mithi mithi nonk jhonk

aur hamaaraa ruth ke kone men baith jaanaa।

khaane ke vakt

vo aapkaa hamen khaane par bulaanaa।।

bedrum men aa jaane par

 hmaaraa sone kaa bahaanaa karnaa।।

phir aapkaa aakar hamen pet men gudagudi lagaanaa

aur aapke sparsh maatr se hi

hamaaraa gushshaa kaa shaannt ho jaanaa।।

bahut yaad kartaa hun

aapke saath bitaaa pal।।

binaa en yaadon asambhav hai

hamaaraa kar paanaa jivan basar।।

phir hamaaraa ophis men bos ke saath jhagdnaa

aur ghar pahunchne par

hamaaraa utraa huaa chehre ko dekhnaa।।

phir hamaare sar par aapkaa haath kaa yon phernaa

aur sar dard kaa dekhte dekhte chhu mantar ho jaanaa।।

bdaa shukun de jaataa hai

vah pal ko yaad karnaa।।

binaa en yaadon ke asambhav hai

hamaaraa kar paanaa jivan basar।।





Written by sushil kumar

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...